Live News »

ईडी ने नीरव मोदी पर कसा शिकंजा, जैसलमेर में 12 पवनचक्की जब्त

ईडी ने नीरव मोदी पर कसा शिकंजा, जैसलमेर में 12 पवनचक्की जब्त

जैसलेमर: मुम्बई में पंजाब नेशनल बैंक की एक शाखा से कथित रूप से 2 अरब डॉलर का कर्ज लेकर भारत से फरार चल रहे भगोड़े हीरा कारोबारी नीरव मोदी के खिलाफ सरकार और प्रवर्तन निर्देशालय अब और अधिक सख्त हो गया है. हाल ही मुम्बई सहित कई अन्य ठिकानों पर कार्रवाई करते हुए ईडी ने नीरव मोदी की करोड़ों की सम्पति जब्त की है. 

सीएम गहलोत ने प्रदेश में सड़क दुर्घटनाएं में कमी लाने के दिए निर्देश, कहा-लापरवाही बरतने वाले वाहन चालकों पर हो कड़ी कार्रवाई

12 पवन उर्जा संयंत्र जब्त:
इसी कड़ी में जैसलमेर जिले मे नीरव मोदी के भाई निशाल मोदी के नाम से पंजीकृत चार शैल कम्पनियों के 12 पवन उर्जा संयंत्रों को जब्त करने की कार्रवाई की गई है.जानकारी के मुताबिक जैसलमेर जिले के जोधा गांव के पास विन वर्ल्ड कंपनी के 800 किलो वॉट की 12 पवन चक्कियां जो की नीरव मोदी के भाई निशाल मोदी के नाम पंजीकृत सोलर एक्पोर्ट, स्टैलर डायमंड, डायमंड आर अस और निशाल मर्चेंडाइंग प्राइवेट लिमिटेड कम्पनी के नाम थी उन्हें हाल ही में जब्त किया गया है.

50 से 52 करोड़ की संपति की गई जब्त:
गौरतलब है कि इन पवन उर्जा संयंत्रों को ईडी द्धारा 2018 में कार्रवाई के दौरान अटैच किया गया था लेकिन अब इसे ईडी ने जब्त कर दिया है. जानकारी के मुताबिक ईडी की इस कार्रवाई के बाद इन पवन उर्जा संयत्रों पर बिजली का उत्पादन बंद कर दिया जाएगा. विशेषज्ञों से प्राप्त जानकारी के मुताबिक एक विंड मिल प्रोजेक्ट का अनुमानित बाजार मूल्य 4 से 4.50 करोड़ रुपए है ऐसे में ईडी की इस कार्रवाई से लगभग 50 से 52 करोड़ की संपति जब्त की गई है.

विकास दुबे के पकड़े जाने के बाद पपला को पकड़ने की मांग, बहरोड़ पुलिस थाने में दिनदहाड़े दिया था वारदात को अंजाम

और पढ़ें

Most Related Stories

कोरोना गाइडलाइन का उलंघन करने पर लगा जुर्माना, शादी समारोह में लगाया 30 हजार का जुर्माना

कोरोना गाइडलाइन का उलंघन करने पर लगा जुर्माना, शादी समारोह में लगाया 30 हजार का जुर्माना

जैसलमेर: शादी-समारोह के लिए नए नियम शादी वाले परिवारों को मुसीबत जैसे लग रहे हैं. होटल, मैरिज और बैक्वेंट हाल संचालक भी परेशान हो गए हैं. वहीं जैसलमेर के शादी की शहनाई की गूंज पर जिला प्रसाशन की कार्रवाई की गूंज सुनाई दी. जहां पर जिला प्रशासन और पुलिस की टीम ने तीन जगह कार्रवाई करते हुए 67 हजार 500 का जुर्माना वसूल किया. राजस्थान की अशोक गहलोत सरकार ने राज्य में कोरोना वायरस संक्रमण के मरीजों की बढ़ती संख्या के बीच कई ऐहतियाती कदम उठाए हैं.

जैसलमेर में शादियों समारोह के आयोजकों में मचा हड़कंप: 
शादियों में 100 से अधिक मेहमान बुलाने पर जुर्माना, कार्रवाई और गाइडलाइन की पालना नहीं करने पर जुर्माना करने के आदेश के तहत जैसलमेर में शादियों समारोह के आयोजकों में हड़कंप मच गया. जैसलमेर उपखण्ड अधिकारी दिनेश विश्नोई, यूआईटी सचिव अनुराग भार्गव, शहर कोतवाल बलवंतराम सहित राजस्व और पुलिस की टीम ने कार्रवाई करते हुए शहर के गांधी कॉलोनी स्थित एक होटल में चल रहे विवाह समारोह में सरकार की निर्धारित कोरोना गाइडलाइन की पालन नहीं होने पर तीस हजार का जुर्माना वसूला गया.

{related}

गाइडलाइन की पालना नहीं होने पर वसूला जुर्माना:
इसी तरह सम मार्ग स्थित एक होटल में विवाह समारोह में सैनिटाइजर, स्क्रीनिंग मास्क आदि की पालना नहीं मिलने पर आयोजकों से जुर्माना वसूला गया. वहीं जैसलमेर शहर के जयनारायण व्यास कॉलोनी में एक विवाह समारोह में विवाह की सूचना नहीं देने, 100 से अधिक भीड़ पाए जाने वही आतिशबाजी को लेकर 32,500 का जुर्माना वसूला गया. इसके तहत जैसलमेर में तीन जगह विवाह समारोह में छापेमारी की गई कुल 67500 का चालान किया गया.

...फर्स्ट इंडिया के लिए सुर्यवीरसिंह तंवर की रिपोर्ट

जैसलमेर: कोरोना को लेकर सख्त हुआ प्रशासन, बिना मास्क, सोशल डिस्टेंसिंग तोड़ने पर काटे चालान

जैसलमेर: कोरोना को लेकर सख्त हुआ प्रशासन, बिना मास्क, सोशल डिस्टेंसिंग तोड़ने पर काटे चालान

जैसलमेर: सर्दी की दस्तक के साथ ही मौसमी बीमारियों के साथ कोरोना भी तेजी से बढ़ने लगा है. इसके बचाव के लिए सरकार बार बार मास्क लगाने और सोशल डिस्टेंस की पालना करने की हिदायत दे रही है. इसके बावजूद लोग लापरवाही बरत रहे है. जिला कलक्टर आशीष मोदी के निर्देशानुसार स्वर्णनगरी जैसलमेर में कोरोना जागरूकता विशेष अभियान के अन्तर्गत नगर परिषद् आयुक्त फतेहसिंह मीणा के नेतृत्व में और पुलिस प्रशासन एवं नगर परिषद् के संयुक्त तत्वावधान में शहर कोतवाल बलवंता राम द्वारा जैसलमेर शहरी क्षेत्र में गढसीसर चौराह पर वर्तमान में शहर भ्रमण पर आने वाले देशी सैलानियों एवं स्थानीय नागरिकों के बिना मास्क पाये जाने वाले लोगों के चालान काटे गए. जिसमें कोविड19 की गाइडलाइन की पालना नहीं करने वाले सभी नागरिक शामिल है.

यात्रियों को सख्त हिदायत, मास्क अनिवार्य रूप से पहने:
आयुक्त नगर परिषद मीणा एवं कोतवाली थानाधिकारी बलवंता राम और उनकी पुलिस टीम ने शहर के मुख्य बाजार में मास्क नहीं पहनने वालों के खिलाफ कार्रवाई की. उन्होंने शहर में भ्रमण पर आये हुए पर्यटकों को सख्त हिदायत दी की यात्रियों को मास्क अनिवार्य रूप से पहने और हैंड सैनटाइज करवाये. भ्रमण के समय सोशल डिस्टेंसिंग की पालना सुनिश्चित करने और अनावश्यक किसी वस्तु को नहीं छूने, समूह में नहीं घूमने के साथ ही कोरोना बचाव के सभी उपायों को अपने जीवन में  अपनाते हुए स्वर्णनगरी के प्रमुख पर्यटन स्थलों को भ्रमण करें.

{related}

पर्यटक और स्थानीय लोगों पर कड़ी नजर:
उन्होंने सैलानियों से कहा कि आप हमारे लिए अतिथि है और कहा कि पावणा पधारो हमारे जैसलमेेर पर मास्क के साथ की सीख दी. अभियान के दौरान थानाधिकारी बलवंता राम ने कोरोना महामारी को गंभीरता से लेते हुए बताया कि पुलिस प्रशासन द्वारा जैसलमेर शहर में  भ्रमण पर आने वाले हर पर्यटक और स्थानीय लोगों पर कड़ी नजर रखी जा रही है. 

...फर्स्ट इंडिया के लिए सुर्यवीरसिंह तंवर की रिपोर्ट

जैसलमेर: बढ़ती सर्दी के बीच कोरोना संक्रमण का खतरा बढ़ा, बीते 8 दिनों में 206 केस आए सामने

जैसलमेर: बढ़ती सर्दी के बीच कोरोना संक्रमण का खतरा बढ़ा, बीते 8 दिनों में 206 केस आए सामने

जैसलमेर: पर्यटन नगरी जैसलमेर जिले में एक बार फिर कोरोना के मरीज बढ़ने शुरू हो गए हैं. देश भर में सर्दी से कोरोना बढ़ने की खबरों ने जैसलमेरवासियों को भी डरा दिया है. पिछले कुछ दिनों से आंकड़ा लगातार बढ़ता नजर आ रहा है. दूसरी लहर आने की आशंका के बीच अब ज्यादा सावधानी बरतने की जरूरत है. पिछले कुछ समय से कोरोना गाइडलाइन की पूरी तरह से पालना जैसलमेर में होती नजर नहीं आ रही है. ऐसे में अचानक बढ़ रहे पॉजिटिव मरीज जैसलमेर के लिए खतरा साबित हो सकता है. जैसलमेर में एक साथ 38 नए पॉजिटिव मरीज सामने आए. पिछले 8 दिनों में जैसलमेर में 206 मरीज सामने आए हैं. जिले का आंकड़ा बढ़कर 1680 पहुंच गया.

सर्दी के मौसम ने आमजन की परेशानी को बढ़ा दिया:
बढ़ते कोरोना संक्रमण के बीच सर्दी के मौसम ने आमजन की परेशानी को बढ़ा दिया है. नवंबर माह से सर्दी का मौसम शुरू होते ही सर्दी, जुकाम, खांसी के मरीज बढऩे लगे हैं. जिसका असर सरकारी अस्पतालों की ओपीडी पर देखने को मिल रहा है. चूंकि कोरोना के प्रारंभिक लक्षण सामान्य सर्दी, जुकाम खांसी से मिलते जुलते हैं इसलिए लोगों के बीच भ्रम की स्थिति पैदा हो रही है. वे सामान्य खांसी को भी कोरोना का लक्षण मानकर चिंतित हो रहे हैं. ऐसे में कई मरीज तो एहतियातन जांच कराने अस्पताल पहुंच रहे हैं लेकिन कुछ लोग कोरोना के डर से जांच नहीं करा रहे हैं. ऐसे में घर व बाहर के लोगों को संक्रमण का खतरा ज्यादा है. 

{related}

सर्दी, जुकाम, खांसी के मरीजों को गंभीरता से नहीं देखा जा रहा:
वहीं दूसरी ओर जिला अस्पताल में भी सर्दी, जुकाम, खांसी के मरीजों को गंभीरता से नहीं देखा जा रहा है. उन्हें सामान्य बीमारी की तरह ही दवा देकर चलता किया जा रहा है. जानकारी के मुताबिक नवंबर माह की शुरूआत तो जीरो कोरोना पॉजिटिव मरीज से हुई थी. लेकिन इसके बाद लगातार मरीज बढ़ते ही चले जा रहे हैं. जो आमजन के साथ-साथ स्वास्थ्य विभाग व प्रशासन के लिए चिंता का विषय है. स्वास्थ्य विभाग का कहना है कि चूंकि कोरोना वायरस गले व फेफड़े में इंफेक्शन फैलाता है. जिससे मरीज को सांस लेने में तकलीफ होने लगती है. वहीं मौसम बदलने व बढ़ती सर्दी के साथ लोग सर्दी, जुकाम, खांसी से पीडि़त होने लगते हैं. यह समस्या आगे चलकर सांस लेने में दिक्कत भी महसूस करती है. ऐसे में यदि यह मरीज कोरोना संक्रमण का शिकार हो जाते हैं तो सही समय पर इलाज न मिलने की स्थिति में मरीज गंभीर स्थिति में पहुंच सकता है. यह सभी कारण स्वास्थ्य महकमे की चिंता बढ़ा रहे हैं.

जैसलमेर: विधवा महिला ने शादी करने से किया इनकार, तो आरोपी ने काटी महिला की नाक 

जैसलमेर: विधवा महिला ने शादी करने से किया इनकार, तो आरोपी ने काटी महिला की नाक 

जैसलमेर: प्रदेश के जैसलमेर जिले के साकड़ा थाना क्षेत्र में एक महिला का नाक काटने का मामला सामने आया है. जगीरो की ढाणी निवासी विधवा गुड्‌डी को दूसरी शादी करने के लिए जानू खान पुत्र दीने खान निवासी साकड़ा पिछले लंबे समय से दबाव बना रहा था. महिला के पति ने करीब 6-7 साल पहले आत्महत्या कर ली थी. जानू खान अपने भतीजे से उस विधवा महिला की शादी करवाने के लिए कई बार दबाव बना चुका था.

आरोपी जानू खान ने काटी महिला की नाक: 
लेकिन महिला शादी को लेकर राजी नहीं हुई. जानू खान अपने 4-5 साथियों के साथ पीड़िता के घर पहुंचा तथा शादी के लिए दबाव बनाया. लेकिन महिला ने उसे मना कर चले जाने की बात कही. इस पर जानू खान ने महिला को पकड़कर उसका नाक काट दिया. इसके बाद महिला गंभीर रूप से घायल हो गई. साकड़ा पुलिस मौके पर पहुंची तथा घायल महिला को पहले सांकड़ा अस्पताल में भर्ती करवाया. 

{related}

मुख्य आरोपी जानू खान गिरफ्तार:
प्राथमिक उपचार के बाद जोधपुर रैफर कर दिया गया. महिला का नाक काटने के मुख्य आरोपी जानू खान को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है. इसके साथ ही साकड़ा थाने में सभी आरोपियों के खिलाफ नामजद मुकदमा दर्ज कर उनकी तलाश की जा रही है. दो दिन पहले भी जानू खान महिला के घर पर काफी हंगामा खड़ा कर गया था. जिस पर महिला ने उसे अपने घर से धक्के देकर बाहर निकाल दिया था. इसी बात को अपना अपमान समझकर मंगलवार को जानू खान ने चाकू से महिला का नाक काट दिया. पुलिस को सूचना मिलने के साथ ही तुरंत मौके पर पहुंचकर घायल महिला को अस्पताल पहुंचाया गया. इसके साथ ही सभी आरोपियों के खिलाफ नामजद मुकदमा दर्ज कर मुख्य आरोपी जानू खान को गिरफ्तार कर लिया गया है. 
 

जैसलमेर: विधवा महिला ने शादी करने से मना किया तो काटी जीभ और नाक, मुख्य आरोपी गिरफ्तार

जैसलमेर: स्वर्णनगरी में एक दिल दहला देने वाला मामला सामने आया है. यहां दुबारा शादी से इनकार करने पर एक विधवा महिला की नाक और जीभ काट दी गई. गंभीर रूप से घायल महिला का जोधपुर में उपचार चल रहा है. मामला उजागर होने के बाद पुलिस ने मुख्य आरोपी को गिरफ्तार कर लिया है. वहीं अब अन्य नामजद आरोपियों की तलाश की जा रही है. 

ससुराल वाले एक अन्य शख्स से शादी करने का दबाद डाल रहे थे:
पुलिस से मिली जानकारी के अनुसार पीड़ित महिला के भाई ने इस बारे में सांकड़ा थाने में मामला दर्ज करवाया है. रिपोर्ट के अनुसार मामला जगीरों की ढाणी का है. जहां एक विधवा पर उसके ससुराल वाले एक अन्य शख्स से शादी करने का दबाद डाल रहे थे. लेकिन महिला इसके लिए इनकार कर रही थी. आरोप है कि इससे नाराज ससुराल वालों ने महिला के नाक और जीभ को काट दिया. 

{related}

शादी के एक साल बाद ही उसके पति की मौत हो गई:
भाई की ओर से दर्ज कराई गई रिपोर्ट के मुताबिक उसकी बहन की शादी 6 वर्ष पूर्व जगीरों की ढाणी निवासी कोजे खान के साथ हुई थी. शादी के एक साल बाद ही उसकी मौत हो गई. इसके बाद से ही ससुराल पक्ष के लोग ससुराल के अन्य व्यक्ति के साथ शादी के लिए उस पर दबाव बना रहे थे, लेकिन उसकी बहन ने इसके लिए मना कर दिया. इस पर आरोपियों ने मंगलवार को धारदार हथियार से उसकी बहन की नाक और जीभ काट दी. हमलावरों ने उसका दाहिना हाथ भी तोड़ दिया. 

सैलानियों से गुलजार स्वर्णनगरी, पर्यटन व्यवसायियों के चेहरे पर ख़ुशी की लहर

सैलानियों से गुलजार स्वर्णनगरी, पर्यटन व्यवसायियों के चेहरे पर ख़ुशी की लहर

जैसलमेर: केम छो, आवजो, तमारुं नाम शु छे, तमे क्यां रहो छो, तमे शु करो छो,... जी हां... गुजराती भाषा के इन उच्चारणों से आज स्वर्णनगरी जैसलमेर की सडकें गूंज रही है. दिवाली के बाद जैसलमेर बढ़ी गुजराती पर्यटकों की आवक से शहर में एकाएक भीड़ बढ़ गई जिससे पर्यटन व्यवसाइयों के चेहरे खिल उठे हैं. कोरोना से सुनसान पड़ा जैसलमेर एक दम सैलानियों के आवक से गुलजार दिखाई दे रही है.

पर्यटकों के चलते शहर के बाजारों व पर्यटक स्थलों पर रेलमपेल बढ़ गई: 
इस बार की पर्यटन सीजन कोरोना की भेंट चढ़ चुकी थी. मार्च से लेकर अक्टूबर तक जैसलमेर में सन्नाटा पसरा रहा, लेकिन दिवाली के बाद बड़ी संख्या में आये गुजराती पर्यटकों के चलते शहर के बाजारों व पर्यटक स्थलों पर रेलमपेल बढ़ गई है. सुबह होते ही जैसलमेर के सोनार किले सहित गडीसर झील और हवेलियों की ओर जाने वाली सड़कों पर सैलानियों का मेला लग गया है.  

{related}

सोनार दुर्ग में हजारों की संख्या में सैलानी पहुंच रहे:
दिवाली के अगले दिन से गुजराती पर्यटकों की आवक शुरू हो जाती है. इस बार भी सैलानियों भी कोरोना के बाद भी जैसलमेर में भारी भीड़ दिखाई दे रही है. शहर में सैलानियों की आवक में इजाफा हो गया. सुबह सोनार दुर्ग में हजारों की संख्या में सैलानी पहुंच रहे हैं. दुर्ग की तलहटी पर सैलानियों का ही जमावड़ा ही नजर आ रहा है. पर्यटन व्यवसायी उत्साहित है और आगामी 10 दिन तक जैसलमेर में गुजराती पर्यटकों की भीड़ रहेगी. 

शहर के सभी पार्किंग स्थल हाउसफुल नजर आ रहे:
सोनार दुर्ग में इतनी भीड़ हो रही कि पुलिसकर्मियों को यातायात सुचारू करने के लिए मशक्कत करनी पड़ रही है. शहर के सभी पार्किंग स्थल हाउसफुल नजर आ रहे हैं. सैलानियों को वाहन खड़ा करने की भी जगह नहीं मिल रही है. फोर्ट पार्किंग में सैकड़ों वाहनों की कतारें लगी हुई है. वहीं मलका प्रोल, गड़ीसर, पटवा हवेली, हनुमान चौराहा, गांधी चौक सहित सभी पार्किंग स्थलों पर वाहनों की कतारें लगी हुई है. शहर से 45 किमी दूर सम स्थित धोरों पर जाते ही ऐसा नजारा है मानो अलग ही शहर बस गया हो. सैलानी लम्बे समय बाद अपने अपने घरो से बाहर जैसलमेर घूमने आये है ताकि कोरोना की टेंशन को खतम कर सके. सैलानी जैसलमेर आकर काफी खुश दिखाई दे रहे हैं. 

एक ऐसी मुस्लिम जाति जो धूम-धाम से मनाती है दीपावली का त्योहार, सांप्रदायिक सद्भाव की मिसाल

एक ऐसी मुस्लिम जाति जो धूम-धाम से मनाती है दीपावली का त्योहार, सांप्रदायिक सद्भाव की मिसाल

जैसलमेर: मजहब नहीं सिखाता आपस में बैर रखना, हिन्दू हैं हम वतन है हिन्दोसतां हमारा...यह पंक्ति जैसलमेर के लंगा, मांगणियार जाति के मुस्लिम परिवारों के लिए बिल्कुल सटीक बैठती है जो हिन्दुओं के रोशनी के त्योहार दीपोत्सव को भी उतनी शिद्दत के साथ मनाते हैं जितनी शिद्दत से वह ईद मनाते हैं. दीपावली पर इनके घर सजावट से लेकर हर वो रस्म निभाई जाती है जो हिन्दू परिवार निभाते हैं. यह परिवार सद्भाव की मिसाल पेश रहे हैं. 

मंगनियार खुद को राजपूतों से जुड़ा मानते हैं: 
मांगणियार और लंगा समुदाय मुस्लिम हैं लेकिन वे ईद के साथ-साथ दिवाली और होली जैसे हिंदू त्यौहारों को भी मनाते हैं. मंगनियार खुद को राजपूतों से जुड़ा मानते हैं.. यहां के हिंदू इनके जजमान है और थार रेगिस्तान के लोक संगीतकार के रूप में प्रसिद्ध हैं. वे अल्ला, गणेश, श्री राम और स्थानीय महाराजाओं तथा पिछली लड़ाइयों के बारे में गीत गाते हैं. शनिवार को दीपावली के पर्व पर यह लंगा, मांगणियार जाति के मुस्लिम परिवार उत्साह और उमंग के साथ मनाया. अपने घरों को दीपक की रौशनी से रोशन किया.

{related}

देश-विदेश के कई मंचों पर राजस्थान की लोक कला को पहुंचाने का श्रेय:
आप को बता दे की देश-विदेश के कई मंचों पर राजस्थान की इस लोक कला को पहुंचाने का श्रेय इन्हीं को जाता है, मगर कोरोना महामारी इन पर काल बनकर बरपी है. इनके सामने रोजी-रोटी का संकट मंडरा रहा है. रोजगार तो मानों रेगिस्तान के धोरों में दफन होता जा रहा है. पश्चिमी राजस्थान में बहुतायत से रहने वाले मांगणियार लोक कलाकार पिछले कई महीनों से अपने जजमानों के घर बंद हो चुके आयोजनों की वजह से आजीविका के लिए संघर्ष कर रहे हैं. इस दीपावली यह कह रहे है दीपक के उज्जियारे से कोरोना का नाश को आने वाला समय पुरे देश का अच्छा आये ऐसी कामना कर रहे हैं. 

पीएम मोदी ने जैसलमेर में जवानों के साथ मनाई दिवाली, कहा - भारत को आजमाया गया तो मिलेगा ‘प्रचंड जवाब’

पीएम मोदी ने जैसलमेर में जवानों के साथ मनाई दिवाली, कहा - भारत को आजमाया गया तो मिलेगा ‘प्रचंड जवाब’

लोंगेवाला/जैसलमेर: भारत के दुश्मनों को स्पष्ट संदेश देते हुए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने शनिवार को कहा कि अगर भारत को आजमाया गया तो ‘‘प्रचंड जवाब’’ दिया जायेगा. मोदी 2014 में पदभार संभालने के बाद से ही हर दिवाली जवानों के साथ मनाते आये हैं. इस बार वह जवानों के साथ दिवाली मनाने के लिए लोंगेवाला चौकी आये.

आज पूरा विश्व ‘‘विस्तारवादी’’ ताकतों से परेशान: 
अग्रिम चौकी, जो वर्ष 1971 की लड़ाई में संख्या के हिसाब से अधिक पाकिस्तानी सैनिकों को भारतीय सैनिकों द्वारा धूल चटाने की वजह से सैन्य किवदंती बन चुकी है, पर जवानों को संबोधित करते हुए मोदी ने नाम लिये बगैर चीन पर निशाना साधा और कहा कि आज पूरा विश्व ‘‘विस्तारवादी’’ ताकतों से परेशान है. विस्तारवाद, एक तरह से ‘‘मानसिक विकृति’’ है और 18वीं शताब्दी की सोच को दर्शाती है. उन्होंने कहा कि विस्तारवादी ताकतों के खिलाफ भारत प्रखर आवाज बन चुका है.

भारत आतंकियों और उनके आकाओं को उनके घर में घुसकर मारता: 
प्रधानमंत्री ने पाकिस्तान पर भी निशाना साधते हुए कहा कि आज भारत आतंकियों और उनके आकाओं को उनके घर में घुसकर मारता है. इसे पड़ोसी देश में आतंकवादी शिविरों के खिलाफ हवाई और सर्जिकल स्ट्राइक के संदर्भ में देखा जा रहा है.

किसी भी कीमत पर रत्ती भर भी समझौता करने वाला नहीं: 
उन्होंने पूर्वी लद्दाख में सीमा पर चीन के साथ जारी गतिरोध के बीच कहा कि दुनिया की कोई भी ताकत हमारे वीर जवानों को देश की सीमा की सुरक्षा करने से रोक नहीं सकती है. आज दुनिया ये जान रही है, समझ रही है कि यह देश अपने हितों से किसी भी कीमत पर रत्ती भर भी समझौता करने वाला नहीं है. 

भारत में ताकत और राजनीतिक इच्छाशक्ति: 
मोदी ने कहा कि भारत दूसरों को समझने और उनके साथ आपसी समझ बनाने की नीति में विश्वास करता है लेकिन अगर उसे आजमाने की कोशिश की जाती है, तो इसका प्रचंड जवाब दिया जायेगा. उन्होंने कहा कि उसे चुनौती देने वालों को करारा जवाब देने के लिए भारत में ताकत और राजनीतिक इच्छाशक्ति है.

हम कभी नहीं भूल सकते कि सतर्कता ही सुरक्षा की राह: 
प्रधानमंत्री ने मजबूत क्षमता होने के महत्व को रेखांकित करते हुए कहा कि भले ही अंतरराष्ट्रीय सहयोग कितना ही आगे क्यों न बढ़ गया हो, समीकरण कितने ही बदल क्यों न गए हों, लेकिन हम कभी नहीं भूल सकते कि सतर्कता ही सुरक्षा की राह है, सजगता ही सुख-चैन का संबल है और सक्षमता से ही शांति का पुरस्कार है.

हर भारतवासी को अपने सैनिकों की ताकत और शौर्य पर गर्व:
उन्होंने कहा कि दुनिया का इतिहास हमें ये बताता है कि केवल वहीं राष्ट्र सुरक्षित रहे हैं, वही राष्ट्र आगे बढ़े हैं जिनके भीतर आक्रांताओं का मुकाबला करने की क्षमता थी.  उन्होंने जवानों से कहा कि आपके इसी शौर्य को नमन करते हुये आज भारत के 130 करोड़ देशवासी आपके साथ मजबूती से खड़े हैं. आज हर भारतवासी को अपने सैनिकों की ताकत और शौर्य पर गर्व है. उन्हें आपकी अपराजेयता पर गर्व है. 

{related}

हमारे देश के वायु सैन्य कर्मियों ने दूसरे देशों के नागरिकों की भी मदद की:
प्रधानमंत्री ने कोविड-19 के दौरान चीन के वुहान से लोगों को बाहर निकाल कर लाने के भारत के प्रयासों का भी जिक्र किया, जहां से कोरोना वायरस फैलना शुरु हुआ था. उन्होंने कहा कि हमारी वायुसेना वुहान (चीन) से लोगों को बाहर लाने में आगे-आगे रही. कुछ ऐसे देश थे, जिन्होंने अपने नागरिकों को वहीं फंसा रहने दिया. हमने न सिर्फ अपने लोगों को बाहर निकाला बल्कि हमारे देश के वायु सैन्य कर्मियों ने दूसरे देशों के नागरिकों की भी मदद की..

सैनिकों के बीच आने के बाद ही उनकी दिवाली पूरी होती है:
मोदी ने कहा कि सैनिकों के बीच आने के बाद ही उनकी दिवाली पूरी होती है. उन्होंने कहा कि मैं दिवाली पर खुद को आप से दूर नहीं रख सकता, इसीलिए मैं यहां आपके साथ हूं.  उन्होंने कहा कि जितना अधिक समय मैं आपके साथ बिताता हूं, देश की सेवा और रक्षा करने का मेरा संकल्प उतना मजबूत होता है.

आपका बलिदान देश को अनुशासन और सेवा की भावना सिखाता है:
उन्होंने कहा कि आपका बलिदान देश को अनुशासन और सेवा की भावना सिखाता है. प्रधानमंत्री ने अपनी सरकार की कोरोना वायरस के खिलाफ लड़ाई के लिए उठाए गए कदमों और आर्थिक गतिविधियों को पूरी तरह से दोबारा शुरू करने की कोशिशों का उल्लेख किया.

इनोवेट करने की आदत को अपनी रोजमर्रा की जिंदगी का हिस्सा बनाइए:
मोदी ने जवानों से कहा कि आज के दिन मैं आपसे तीन आग्रह करना चाहता हूं. पहला कुछ न कुछ नवीन (इनोवेट) करने की आदत को अपनी रोजमर्रा की जिंदगी का हिस्सा बनाइए. दूसरा योग को अपने जीवन का हिस्सा बनाए रखिए. तीसरा अपनी मातृभाषा, हिंदी और अंग्रेजी के अलावा, कम से कम एक भाषा जरूर सीखिए. आप देखिएगा, ये बातें आपमें एक नयी ऊर्जा का संचार करेंगी.'

वोकल फॉर लोकल’ अभियान का जिक्र किया:
प्रधानमंत्री ने अपनी सरकार के आत्मनिर्भरता और ‘वोकल फॉर लोकल’ अभियान का जिक्र किया. उन्होंने कहा कि हाल ही में हमारी सेनाओं ने निर्णय लिया है कि वे 100 से ज्यादा हथियारों और साजो-सामान को विदेश से नहीं मंगवाएगी जो सराहनीय है. लोंगेवाला की शानदार लड़ाई को याद करते हुए, उन्होंने कहा कि इसे रणनीतिक योजना और सैन्य वीरता के उद्घोषों में हमेशा याद किया जाएगा.

पाकिस्तान का कुरूप चेहरा उसकी सेना द्वारा उजागर हुआ:
उन्होंने कहा कि वह समय था जब पाकिस्तान का कुरूप चेहरा उसकी सेना द्वारा उजागर हुआ जो बांग्लादेश की निर्दोष जनता को आतंकित और महिलाओं का शोषण कर रही थी. मोदी ने कहा कि पाकिस्तान ने दुनिया का ध्यान भटकाने के लिए पश्चिमी मोर्चा खोला लेकिन हमारी सेना ने माकूल जवाब दिया.

ब्रिगेडियर कुलदीप सिंह चांदपुरी के पराक्रम को सलाम किया: 
इस मौके पर उन्होंने पाकिस्तान के खिलाफ 1971 के युद्ध में ब्रिगेडियर कुलदीप सिंह चांदपुरी के पराक्रम को सलाम किया और उन्हें श्रद्धांजलि दी जो इस युद्ध के नायक है. मोदी ने कहा कि वह अपनी बहादुरी से ‘राष्ट्र दीप’ बन गए है. मोदी ने रेखांकित किया कि वर्ष 2021 में इस युद्ध की 50वीं सालगिरह है. उन्होंने कहा कि पाकिस्तान के खिलाफ 1971 का युद्ध थल सेना, नौसेना और वायुसेना के बीच अनुकरणीय समन्वय का उदाहरण था. भारत ने 1971 के युद्ध में पाकिस्तान को पराजित कर दिया था.

राष्ट्ररक्षा और राष्ट्रसेवा का मेरा संकल्प: 
मोदी ने बाद में ट्वीट किया कि हर बार, हर त्योहार में, जब भी मैं आपके बीच आता हूं, जितना समय आपके बीच बिताता हूं, जितना आपके सुख-दुख में शामिल होता हूं, राष्ट्ररक्षा और राष्ट्रसेवा का मेरा संकल्प उतना ही मजबूत होता जाता है. प्रधानमंत्री ने लोंगेवाला दौरे की कई तस्वीरें भी अपने ट्विटर अकाउंट के जरिये साझा की जिनमें एक तस्वीर में वह टैंक पर सवार दिख रहे हैं. मोदी ने जैसलमेर में हवाई योद्धाओं और सुरक्षा जवानों से भी संवाद किया.

लोंगेवाला स्थित युद्ध स्मारक की तस्वीर साझा की:
प्रधानमंत्री ने ट्वीट किया कि यह महत्वपूर्ण है कि हमारी आने वाली पीढ़ियां उस वीरता के बारे में जानें जो हमारे सैनिक और सुरक्षा बल, हमारी इलाके पर कुदृष्टि रख रहीं शक्तियों से भारत की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए दिखाते हैं. इसके साथ ही मोदी ने लोंगेवाला स्थित युद्ध स्मारक की तस्वीर साझा की. मोदी 2014 में उनकी सरकार के सत्ता में आने के बाद से ही हर दिवाली अग्रिम चौकियों पर जाते हैं. पिछले साल वह राजौरी गये थे, 2018 में उत्तराखंड और 2017 में गुरेज गये थे.
सोर्स- भाषा