गोरखपुर पहले दवा बनने में दशकों लगता था, लेकिन मोदी सरकार ने साल भर में टीका बना लिया- जेपी नड्डा

पहले दवा बनने में दशकों लगता था, लेकिन मोदी सरकार ने साल भर में टीका बना लिया- जेपी नड्डा

पहले दवा बनने में दशकों लगता था, लेकिन मोदी सरकार ने साल भर में टीका बना लिया- जेपी नड्डा

गोरखपुर: भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जगत प्रकाश नड्डा ने पूर्ववर्ती सरकारों पर निशाना साधते हुए कहा कि पहले देश में कोई बीमारी होती थी तो दवा विकसित होने में दशकों लग जाते थे, लेकिन मोदी सरकार में कोरोना महामारी का टीका एक साल के भीतर उपलब्ध करा दिया. परिवारवाद और भाई-भतीजावाद को लेकर भी पूर्ववर्ती सरकारों पर निशाना साधते हुए नड्डा ने कहा, ‘‘पहले राजनीति जातिवाद और भ्रष्टाचार का पर्याय थी लेकिन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इसे विकास का पर्याय बना दिया है. उन्होंने राजनीति की संस्कृति बदल डाली और विकासवाद की राजनीति खड़ी की है. गौरतलब है कि उत्तर प्रदेश में शुक्रवार को सात जिलों में भाजपा के नये कार्यालय भवनों का उद्घाटन हुआ. पार्टी अध्यक्ष नड्डा ने गोरखपुर से इन कार्यालयों का उद्घाटन किया. इस समारोह में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ भी उपस्थित थे. 

नड्डा ने अपने संबोधन में कहा कि पुरानी सरकारों के दौर में चिकन पॉक्स की दवा आने में 27 साल लग गये थे जबकि बीसीजी के टीके को 27 साल लगे और पोलियो की खुराक को 30 साल लगे. टेटनेस की दवा को भारत में आने में 38 साल और मीजल की दवा को 22 साल लग गये. जापानी इन्सेफेलाइटिस की दवा जापान में 1906 में बन गयी थी, लेकिन उसे भारत में आने में 100 साल लगे और वह योगी आदित्यनाथ नीत सरकार में 2006 में आयी. भाजपा अध्यक्ष ने कहा कि वहीं, दूसरी ओर देखें कि जिम्मेदार सरकार कैसी होती है? देश में जनवरी 2020 में कोरोना का पहला मामला आया, मोदी जी ने कार्यबल का गठन किया और अक्टूबर 2020 में टीके का परीक्षण शुरू हो गया. मोदी जी ने स्वयं फैक्टरी में जाकर निरीक्षण किया और 2021 जनवरी में देश को एक नहीं दो टीके मिले. उन्होंने कहा कि 130 करोड़ की आबादी वाले देश में लोगों को टीके की 200 करोड़ खुराक का इंजेक्शन लग चुका है. समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव का नाम लेकर उनपर निशाना साधते हुए नड्डा ने कहा कि यहां एक गैर जिम्मेदार नेता की बात याद दिलाना चाहूंगा. जब परीक्षण के बाद टीका लगना शुरू होना था, तो यही 'अखिलेश' था जिसने कहा था कि यह तो मोदी जी का है, यह भाजपा का टीका है. चुपके-चुपके खुद लगवा लिया और आपको लगाने से रोकता रहा. यह है इनकी सरकारों का हाल. उन्होंने दावा किया कि प्रधानमंत्री ने राजनीति की संस्कृति बदल डाली.  एक समय था जब राजनीति परिवारवाद, वंशवाद, जातिवाद, भाई भतीजावाद, भ्रष्टाचार, अनाचार के रूप में होती थी. 

यह राजनीति के पर्यायवाची बन गये थे. लेकिन प्रधानमंत्री मोदी परिवारवाद, वंशवाद, संप्रदायवाद, जातिवाद और भ्रष्टाचार तथा अनाचार को नकार कर विकासवाद की राजनीति शुरू की है, हमें इसे समझना चाहिए. नड्डा ने कहा कि मैं गर्व के साथ कह सकता हूं जब विकासवाद की बात आती है तो विकास सिर्फ भवनों का नहीं बल्कि देश की जनता का भी होना चाहिए. इसीलिए हमारा मंत्र है ‘सबका साथ, सबका विकास, सबका विश्वास और सबका प्रयास. हमारी सरकार इसी मंत्र को लेकर चलती है. केन्द्र की मोदी नीत सरकार को जिम्मेदार और जवाबदेह बताते हुए नड्डा ने कहा कि देश मोदी के नेतृत्व में और उत्तर प्रदेश योगी के नेतृत्व में आगे बढ़ रहा है. इससे पहले भाजपा के क्षेत्रीय कार्यालय का उद्घाटन करते हुए नड्डा ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और अमित शाह ने देश में 512 भाजपा कार्यालयों के निर्माण की योजना बनायी थी जिनमें से 230 बनकर तैयार हो चुके हैं और 150 का निर्माण चल रहा है. उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश में पार्टी के 72 कार्यालय खुलने थे जिनमें से 69 खुल चुके हैं. नड्डा का स्वागत करते हुए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि उत्तर प्रदेश में लोगों का एक बड़ा तबका नरेंद्र मोदी नीत केन्द्र सरकार की योजनाओं से लाभान्वित हुआ है. योगी ने केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री रहते हुए इन्सेफेलाइटिस के खिलाफ उत्तर प्रदेश सरकार के अभियान के समर्थन के लिए भी नड्डा की प्रशंसा की. मुख्यमंत्री ने दावा किया कि पिछले कुछ वर्षों में राज्य में इन्सेफेलाइटिस के मामलों में 95 प्रतिशत से अधिक की गिरावट आई है. सोर्स- भाषा

और पढ़ें