RAS परीक्षा मामले पर शिक्षा मंत्री गोविंद सिंह डोटासरा का बयान, कहा- किसी के रिश्तेदार या जानकार होने से इंटरव्यू में नंबर नहीं मिलते

RAS परीक्षा मामले पर शिक्षा मंत्री गोविंद सिंह डोटासरा का बयान, कहा- किसी के रिश्तेदार या जानकार होने से इंटरव्यू में नंबर नहीं मिलते

RAS परीक्षा मामले पर शिक्षा मंत्री गोविंद सिंह डोटासरा का बयान, कहा- किसी के रिश्तेदार या जानकार होने से इंटरव्यू में नंबर नहीं मिलते

जयपुर: राजस्थान प्रशासनिक सेवा (RAS) के रिजल्ट आने के बाद टॉपर्स से ज्यादा चर्चा प्रदेश के शिक्षा मंत्री गोविंद सिंह डोटासरा की पुत्रवधू के भाई गौरव और बहन प्रभा के नंबरों को लेकर चल रही है. इसी के चलते शिक्षा मंत्री गोविंद सिंह डोटासरा का बयान सामने आया है. 

उन्होंने कहा कि RAS राजस्थान की बहुत ही प्रतिष्ठित परीक्षा है. RPSC पारदर्शिता के साथ परीक्षा करवाता है. ऐसे में जो बच्चे टैलेंडेट होते हैं वो सफल होते हैं. पहले प्री और फिर बाद में मेन परीक्षा पास करते हैं. उसके बाद इंटरव्यू होता है जिसमें बोर्ड मेंबर और एक्सपर्ट बैठते हैं. इसमें किसी भी राजनेता का कोई लेना देना नहीं होता है. ऐसे में यह कोई विषय ही नहीं होना चाहिए कि कितने नंबर आए. इंटरव्यू से पहले तो प्री और मेन पास करनी पड़ती है. किसी के रिश्तेदार या जानकार होने से इंटरव्यू में नंबर नहीं मिलते हैं. 

परीक्षा में असफल होते हैं वह अपनी खीज मिटाने के लिए ऐसा करते हैं:
इससे आगे बोलते हुए डोटासरा ने कहा कि यह केवल सोशल मीडिया पर चलाया गया प्रोपेगेंडा है. मेरा बेटा अविनाश 2016 में पास हुआ था. जब वह पास हुआ था तब तो उसका रिश्ता ही नहीं हुआ था. जब मेरी पुत्रवधू RAS बनी तो भाजपा का राज था. इसके साथ ही उन्होंने सवाल करते हुए कहा कि हनुमानगढ़ में पांच बहनें RAS बनी है तो क्या वह मेरी रिश्तेदार हैं? परीक्षा में असफल होते हैं वह अपनी खीज मिटाने के लिए ऐसा करते हैं. ऐसे तो मैं अपने विधानसभा क्षेत्र के सभी लोगों और परिवार के लोगों को RAS बना देता. 

यह है पूरा मामला: 
आपको बता दें कि प्रदेश के शिक्षा मंत्री गोविंद सिंह डोटासरा की पुत्रवधू के भाई गौरव और बहन प्रभा के नंबरों को लेकर चर्चाओ का बाजार गर्म है. दोनों ने आरएएस की परीक्षा उत्तीर्ण की है और दोनों को ही 80 फीसदी अंक हासिल हुए हैं. दरअसल इन अंकों को डोटासरा की पुत्रवधू प्रतिभा से जोड़कर देखा जा रहा है. प्रतिभा को भी 2016 के इंटरव्यू में 80 फीसदी अंक ही हासिल हुए थे. अब इसे लेकर ही सवाल उठ रहे हैं. कहा जा रहा है कि इससे पहले उनकी पुत्रवधू के भी 80 फीसदी ही अंक थे और अब उनके भाई और बहन के भी इतने ही अंक हैं. आखिर यह कैसा संयोग है. 


 

और पढ़ें