VIDEO: राजस्थान में 'तीसरी शक्ति' बनने के प्रयास, प्रयास में जुटे तीन सियासी दल

FirstIndia Correspondent Published Date 2019/05/09 09:23

जयपुर। राजस्थान में तीसरी शक्ति बनने की कोशिश में बीटीपी, कम्युनिस्ट पार्टी और बहुजन समाज पार्टी जुटी है। तीनों ही पार्टियों को लोकसभा चुनावों में उम्मीदें है। विधानसभा चुनावों में बीएसपी ने अलवर और भरतपुर में कमाल का प्रदर्शन किया था, वहीं नहरी इलाके में कम्युनिस्ट पार्टी ने विरोधी दलों के किले फतह कर डाले, वागड़ में बड़ी ताकत बन कर उभरी भारतीय ट्राइबल पार्टी ..अब लोकसभा चुनावों में झंडे गाड़ने का इरादा है ,हालांकि राह आसान नहीं है। गैर कांग्रेसी और गैर भाजपाई दलों की कोशिश है लोकसभा चुनावों के नतीजों को प्रभावित करने की और खुद ताकत बनने की। 

पिछले विधानसभा चुनावों में मतस्य और मेवात क्षेत्र में हाथी का ग्राफ बढ़ा। बीएसपी के टिकट पर दो विधायक जीतने में कामयाब हो गये थे। तिजारा से संदीप यादव और किशनगढ़ बास से दीपचंद खैरिया। रामगढ़ के विधानसभा उपचुनाव भले कांग्रेस की साफिया ने जीता था लेकिन यहां भी बीएसपी के उम्मीदवार जगत सिंह 24 हजार वोट लेकर तीसरे स्थान पर रहे। विधानसभा चुनावों के दौरान तिजारा से संदीप यादव और किशनगढ़बास से दीपचंद खैरिया ने हाथी के सिम्बल पर जीत दर्ज की। दलित वोटों की बहुलता और उसकी शिफ्टिंग के कारण ही ऐसा हो पाया। यहीं कारण है 16 प्रतिशत के लगभग वोट BSP को केवल अलवर जिले में मिला। 

पूर्वी राजस्थान के भरतपुर में बीएसपी पहले से ही दखल 
मौजूदा लोकसभा चुनाव में बीएसपी ने इमरान खान को चुनावी समर में उतरकर मुकाबले को त्रिकोणीय बनाने की कोशिश की है। पूर्वी राजस्थान के भरतपुर में बीएसपी पहले से ही दखल रखती है यहां बीते विधानसभा चुनाव में नदबई से जोगेन्द्र सिंह अवाना और नगर से वाजिब अली शाह ने जीत दर्ज की। भरतपुर से बीएसपी ने जाटव कार्ड खेला है और यहां से सूरज जाटव को चुनावी समर में उतारा। प्रधान रह चुके सूरज पहले बीजेपी में थे। यूपी से सटे होने के कारण मायावती की विचारधारा यहां सियासी तौर पर काम कर जाती है। मायावती ने अपने उम्मीदवारों के लिये भरतपुर और अलवर दोनों जगहों पर चुनावी सभाएं भी की। करौली-धौलपुर में भी बीएसपी ने बैरवा कार्ड खेला है और पूर्व जिला प्रमुख रामकुमार बैरवा को चुनावी समर में उतार दिया। 

बीएसपी को इन सीटों पर उम्मीद - 
--अलवर
उम्मीदवार- इमरान खान
ताकत - मेव और दलित वोट 

--भरतपुर
उम्मीदवार- सूरज प्रधान
ताकत-जाटव और पार्टी के कॉडर के वोट 

--करौली-धौलपुर 
उम्मीदवार- रामकुमार बैरवा 
ताकत-बैरवा वोट

शेखावाटी, नहरी और बीकाणा के इलाके में साम्यवादियों की सियासी जमीन बरसों से है। यहां से समय समय पर कॉमरेड़ ताल ठोक रहे है। 1989 में श्योपत सिंह मक्कासर सांसद रह चुके है। बीते विधानसभा चुनाव में श्रीडूंगरगढ से गिरधारी लाल मईया और भादरा से बलवान पूनिया ने चुनाव जीता और विधानसभा में पहुंचे। बलवान पूनिया लड़ रहे है चूरु से लोकसभा का चुनाव। वहीं दिग्गज किसान नेता अमराराम लड़ रहे है सीकर से लोकसभा का चुनाव। सीकर लोकसभा सीट एक बार अमराराम लोकसभा चुनावों में 1 लाख 90 हजार वोट तक ले जा चुके है। 

सीकर के दांतारामगढ,धोद,लक्ष्मणगढ़,फतेहपुर,खंडेला,श्रीमाधोपुर क्षेत्रों में लाल सलाम का असर दांतारामगढ़ से विधायक भी रह चुके है अमराराम। चूरु लोकसभा सीट से चुनाव लड़ रहे बलवान पूनिया कॉमरेड विचारधारा के नये अगुवा है। किसानों की आवाज बुलंद करने के लिये चर्चित है। 

साम्यवादियों को उम्मीद - 
--चूरु 
उम्मीदवार - बलवान पूनिया 
ताकत - किसान वोट और नोहर - भादरा फेक्टर 

--सीकर
उम्मीदवार - अमराराम
ताकत - किसान वोट और दांतारामगढ फेक्टर 

कु़छ ही महिनों पहले राजस्थान के दक्षिणी भाग में वनवासियों के बीच एक पार्टी ने हिलौंरे मारना शुरु कर दिया था, हालांकि शुरुआत हो चुकी थी बांसवाड़ा और डूंगरपुर के कॉलेजों के छात्रसंघ चुनावों से.... गठन हो चुका था भारतीय ट्राइबल पार्टी.. टीएसपी के क्षेत्र में आदिवासियों की मांगो को लेकर रहे आंदोलनों से भारतीय ट्राइबल पार्टी चमकी... फिर क्या था विधानसभा चुनावों के रण में उतर गई.... दो सीटें जीतकर सबको चौंका दिया। सागवाड़ा से रामप्रसाद और चौरासी से राजकुमार रोत ने चुनाव जीता। भारतीय ट्राइबल पार्टी का गठन को मात्र दो साल ही बीते है और इसने मेवाड़-वागड़ की सियासत में धमक पैदा कर दी। गुजरात के आदिवासी नेता छोटू भाई असावा इसके जनक है। बीटीपी का गुजरात, राजस्थान, महाराष्ट्र, एमपी के वनवासी बेल्ट में प्रभाव है। उल्लेखनीय है कि उदयपुर संभाग की 17 सीटों पर 70 फीसदी के लगभग आदिवासी वोटर है। विधानसभा चुनाव में बीटीपी ने 12 उम्मीदवार उतारे थे और दो जीते। अब खेला है लोकसभा चुनाव में दांव। कांतिलाल लाल रोत यहां बीटीपी के उम्मीदवार है। 

...योगेश शर्मा फर्स्ट इंडिया न्यूज जयपुर

First India News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे!
हर पल अपडेट रहने के लिए अभी डाउनलोड करें First India News Mobile Application
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBE चैनल को विजिट करें

और पढ़ें

Most Related Stories

Stories You May be Interested in