निर्वाचन आयोग ने संवेदनशील केंद्रों पर फोकस करने के दिए निर्देश

Dr. Rituraj Sharma Published Date 2018/11/17 06:41

जयपुर। भारत निर्वाचन आयोग ने प्रदेश के सातों संभागों के संभागीय आयुक्तों, कलेक्टर्स और पुलिस अधीक्षकों के साथ चुनाव तैयारियों की समीक्षा बैठक में कम मतदान वाले जिलों और क्षेत्रों और संवेदनशील केन्द्रों पर फोकस करने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने प्रत्याशियों की घोषणा और नामांकन भरने के साथ संवेदनशील केन्द्रों और क्षेत्रों की बदली स्थिति के मद्देनजर बदले सुरक्षा प्लान के मुताबिक इंतजाम करने के निर्देश दिए हैं। जयपुर में एसएमएस कन्वेंशन सेंटर में आज अजमेर, भरतपुर, बीकानेर और जयपुर संभाग के अधिकारियों के साथ बैठक में ये निर्देश दिए गए। साथ ही मुख्य भारत निर्वाचन आयुक्त ओ.पी.रावत, निर्वाचन आयुक्त सुनील अरोड़ा और अशोक लवासा ने स्वीप प्रदर्शनी का उद्घाटन किया और सरगम सप्ताह के पोस्टर्स का विमोचन किया। 

भारत निर्वाचन आयोग के मुख्य निर्वाचन आयुक्त ओ.पी.रावत ने प्रदेश में दूसरी बार विधानसभा चुनाव की तैयारियों का 360 डिग्री रिव्यू किया। जयपुर में आज एसएमएस कन्वेंशन सेंटर पर अजमेर,भरतपुर,बीकानेर और जयपुर संभाग के संभागीय आयुक्तों,कलेक्टर्स,आईजी और पुलिस अधीक्षकों के साथ कानून व्यवस्था और सुरक्षा प्लान को लेकर गहन मंथन किया। इस मौके पर उन्होंने स्वीप प्रदर्शनी का उद्घाटन किया। 

मुख्य चुनाव आयुक्त ने प्रदर्शनी में प्रदर्शित की गई स्वीप गतिविधियों की सराहना की।
—प्रदर्शनी में छाई चूरू और हनुमानगढ़ की स्वीप टीम।
—हनुमानगढ़ टीम ने कार्टून चरित्र वोटू के जरिए की मतदाताओं को आकर्षित करने की कोशिश।
—प्रभारी डॉक्टर भरत ओला की परिकल्पना के तहत वोटू रोजान नए संदेशों के जरिये वोटिंग के लिए प्रेरित कर रहे हैं। 
—चूरू की टीम ने छोटा भीम के जरिये दिया संदेश।
—स्वीप प्रदर्शनी के अंतर्गत लोगों को मतदान के लिए जागरुक करने के लिए विभिन्न जिला निर्वाचन अधिकारियों द्वारा किए गए नवाचारों को दर्शाया गया। 
—इन नवाचारों से पूरे प्रदेश में मतदाताओं के बीच मताधिकार के महत्व का संदेश पहुंच रहा है।
—युवाओं और नव मतदाताओं को जागरुक करने के लिए खास तौर पर कार्टून्स का सहारा लिया गया। 
—वोटर भायलो, छोटा भीम संग मतदान, वोटू की अपील के कटआउट प्रदर्शनी के आकर्षण का केंद्र रहे।
—मतदान के लिए प्रेरित करने हेतु कहीं रंगोली तो कहीं वॉकाथन, कहीं सांप-सीढ़ी के खेल से तो कहीं स्थानीय बोली में नारे, जिंगल और लोकगीतों के माध्यम से वातावरण निर्माण किया जा रहा है। 
—प्रदर्शनी में दर्शाए गए लोकतंत्र के उत्सव, वोट री बाल मनुहार, त्योहार संग स्वीप जैसी रोचक गतिविधियों को खूब पसंद किया गया। 
—प्रदर्शनी में मोटू-पतलू, चाचा चौधरी और टॉम एंड जैरी जैसे कार्टून पात्रों के दिलचस्प संवादों के माध्यम से भी युवाओं सहित सभी मतदाताओं को मतदान के लिए जागरुक करने के प्रयासों की झलक देखने को मिली।
—प्रदर्शनी में महिला जागरुकता अभियान, दिव्यांगजन के लिए निर्वाचन विभाग द्वारा किए जा रहे प्रयास, सी विजिल एप के बारे में भी महत्वपूर्ण जानकारियों का प्रदर्शन किया गया।
—इसके साथ ही स्वीप गतिविधियों में प्रयुक्त विभिन्न प्रचार सामग्रियों को भी आकर्षक तरीके से प्रस्तुत किया गया।
प्रदर्शनी में विभिन्न जिलों में संचालित की जा रही स्वीप गतिविधियों को खूबसूरत तरीके से दर्शाया गया। 
—सात दिवसीय सरगम सप्ताह के लिए सात पोस्टरों, सात सरगम गीतों तथा चार एनीमेशन फिल्म्स का लोकार्पण किया। 
—सरगम सप्ताह के दौरान प्रदेशभर में प्रतिदिन के लिए एक पोस्टर प्रदर्शित किया जाएगा। इसके साथ सरगम गीत भी गूंजेंगे।
—प्रदेश में एनीमेशन फिल्मों के जरिए भी मतदाताओं को मताधिकार के प्रति जागरुक किया जाएगा।

इसके अलावा आयोग के सामने प्रदेश भर में आयकर, आबकारी, पुलिस निरोधक दस्ते और अन्य विभागों और दलों की कार्रवाइयों का ब्योरा रखा गया।

—राज्य भर में 13 करोड की अवैध लेनदेन की राशि पकड़ी 
—करीब ढाई लाख लीटर अवैध शराब पकड़ी गई बरामद 
—लाखों किलोग्राम अवैध मादक पदार्थों की बरामदगी 
—इन निरोधात्मक कार्रवाइयों का लिया फीडबैक 

आयोग ने ये दिए निर्देश

—पार्टियों की ओर से प्रत्याशियों की घोषणा की जा रही हैं। साथ ही नामांकन का दौर भी जारी है। 
—इस बदली स्थितियों अनुसार संवेदनशील केन्द्रों की स्थिति भी बदल रही है। इसे अपडेट करते हुए नए सुरक्षा प्लान को अमल में लाया जाए।—आचार संहिता की कंट्रोल रूम में आ रही शिकायतों की मॉनिटरिंग और उसके अनुसार अधिकारियों को निर्देशित कर कार्रवाई करने का मैकेनिज्म पुख्ता किया जाए। 
—सी विजिल एप पर आ रही शिकायतों पर खास ध्यान दिया जाए। इसमें बताए गए फोटो या वीडियो का सत्यापन करके तय समय में राहत दी जाए और जरूरी कार्रवाई की जाए। 
—शादी समारोहों,पर्व-त्योहारों में नेताओं की उपस्थिति पर खास निगाह रखी जाए।
—आयोजनों में जाकर राजनीतिक अपील करने पर आयोजन का खर्चा संबंधित नेता के खर्चे में जोड़ा जाए। 
—आयोग को कलेक्टर्स और पुलिस अधीक्षकों ने सुरक्षा की डिटेल रिपोर्ट दी और अब तक उठाए गए अहम कदमों को बताया।

इसके साथ ही मुख्य सचिव और डीजीपी के साथ बैठकें करके यह सुनिश्चित किया गया कि चुनाव की तैयारियों की कड़ी में जरूरी निर्देश जारी किए गए या नहीं। सीएस और डीजीपी ने उनकी ओर से संभागों के किए गए दौरे की रिपोर्ट भी दी। वहीं निरोधात्मक कार्रवाइयों के लिए जरूरी उपायों को भी बताया। बैठक में भारतीय निर्वाचन आयुक्त सुनील अरोड़ा, अशोक लवासा, सीईओ आनंद कुमार सहित अन्य अधिकारी मौजूद रहे। 

ऋतुराज शर्मा फर्स्ट इंडिया न्यूज जयपुर

First India News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे!
हर पल अपडेट रहने के लिए अभी डाउनलोड करें First India News Mobile Application
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBE चैनल को विजिट करें

और पढ़ें

Most Related Stories

Stories You May be Interested in

सपना ने थामा कांग्रेस का हाथ, ड्रीम गर्ल को देंगी टक्कर !

16 साल बाद चुनावी राजनीति में दिग्गी की एंट्री, भोपाल से लड़ेंगे चुनाव
बीजेपी की शत्रु से दोस्ती खत्म! पटना साहिब से कटा शत्रुघ्न सिन्हा का टिकट
राहुल गांधी 2 सीटों से लड़ सकते हैं चुनाव
देखिये BJP की पांचवीं लिस्ट
क्रिकेट खेलते समय बॉल लगी तो घर में घुसकर की मारपीट
बीजेपी सरकार से हर वर्ग दुखी है : राहुल गाँधी
बिहार में NDA की सीटों का ऐलान