निर्वाचन विभाग की प्रिंट, इलेक्ट्रॉनिक और सोशल मीडिया पर रहेगी कड़ी नजर 

FirstIndia Correspondent Published Date 2019/03/14 09:15

जयपुर (ऋतुराज शर्मा)। निर्वाचन विभाग ने प्रिंट, इलेक्ट्रॉनिक और सोशल मीडिया पर पेड न्यूज, फेक न्यूज, संदिग्ध विज्ञापनों और खबरों पर कड़ी नजर रखने के निर्देश दिए हैं। एसीईओ डॉ.जोगाराम ने इसके लिए विभागीय अधिकारियों को डीआईपीआर से समन्वय करके कमेटियों का गठन करने को भी कहा है। 

अतिरिक्त मुख्य निर्वाचन अधिकारी डॉ जोगाराम ने मीडिया प्रकोष्ठ के अधिकारियों के साथ सचिवालय में वीसी की। इसमें पेड न्यूज और फेक न्यूज, संदेहास्पद विज्ञापनों पर कड़ी नजर रखने के  निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि किसी भी राजनीतिक दल या उम्मीदवार को इलेक्ट्रॉनिक मीडिया में विज्ञापन देने के लिए प्री-सर्टिफिकेशन अनिवार्य है। प्रिंट मीडिया में विज्ञापन देने के लिए प्री-सर्टिफिकेशन अनिवार्य नहीं है, लेकिन समाचार पत्रों के ई-पेपर में प्रकाशित किए जाने वाले विज्ञापनों के लिए प्री-सर्टिफिकेशन अनिवार्य हैं। 

प्रदेश के सभी 33 जिलों में जिला निर्वाचन अधिकारी की अध्यक्षता में एमसीएमसी कमेटी का गठन किया गया है। इसके साथ ही डॉ जोगाराम ने प्रदेशभर के स्वीप नोडल अधिकारियों के साथ वीसी के जरिए चर्चा की। जिसमें उन्होंने मतदान प्रतिशत बढ़ाने के लिए स्वीप गतिविधियों बढ़ाने के निर्देश दिए। कहा कि स्वीप गतिविधियों में लापरवाही बर्दाश्त नहीं की जाएगी। डॉ जोगराम ने कहा कि इस बार विधानसभा चुनाव में कम मतदान प्रतिशत रहने वाले जिलों में विशेष फोकस किया जाएगा। इसके साथ ही ग्रामीण क्षेत्रों में भी स्वीप एक्टिविटीज बढ़ाई जाएगी। 
 

First India News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे!
हर पल अपडेट रहने के लिए अभी डाउनलोड करें First India News Mobile Application
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBE चैनल को विजिट करें

और पढ़ें

Most Related Stories

Stories You May be Interested in

GST कौंसिल की बैठक

चाणक्य के साथ BJP कोर कमेटी ने किया मंथन
Goa Gets a New CM in the Wee Hours; BJP’s Pramod Sawant Takes Oath
Big Fight Live : मिलेगा टिकट या गिरेगा विकेट?
उमा भारती का कांग्रेस पर जुबानी प्रहार
जानिये सैलरी में शानदार इन्क्रीमेंट दिलवाने वाला एक चमत्कारी टोटका
तो फिर किसका करेंगे सलमान खान प्रचार ?
प्रियंका की बोट यात्रा के सियासी मायने