VIDEO: किसान कर्ज माफी और गुर्जर आरक्षण को लेकर सदन में हुआ जोरदार हंगामा

FirstIndia Correspondent Published Date 2019/02/11 11:30

जयपुर। भाजपा ने आज अपनी रणनीति के तहत किसान कर्ज माफी के मुद्दे पर सरकार को घेरते हुए जोरदार हंगामा किया। हंगामे के दौरान भाजपा की ओर से वेल में आकर किए प्रदर्शन और नारेबाजी की स्थिति ऐसी रही कि सदन की कार्यवाही दो बार स्थगित करनी पड़ी। इस दौरान गुर्जर आरक्षण मामला भी सदन में गूंजा जिसे लेकर खासा शोरशराबा हुआ। एक रिपोर्ट-

विधानसभा में आज की कार्यवाही में प्रश्नकाल शांतिपूर्ण रहा लेकिन शून्यकाल शुरू होते ही  किसान कर्ज माफी के मुद्दे पर हंगामा शुरु हो गया। नेता प्रतिपक्ष गुलाबचंद कटारिया ने सरकार पर किसानों को गुमराह करने का आरोप लगाया, कटारिया ने पूछा सरकार बताए कितने किसानों का कितना कर्ज माफ हुआ, भाजपा के जेल भरो आंदोलन की घोषणा के बाद सरकर ने हर जले में महज पांच पांच कैंप लगाकर खानापूर्ति की। इस पर संसदीय कार्यमंत्री शांति धारीवाल ने पलटवार करते हुए कहा कि किसानों का कर्ज माफ कर दिया है, जब पिछली बीजेपी सरकार में कर्ज माफी की घोषणा की थी तब यह बताया था कि कितने किसानों का माफ करेंगे। इस पर जमकर नोकझोंंक हुई,। इसी बीच भाजपा विधायकों ने वेल में आकर नारेबाजी शुरु कर दी। भाजपा विधायकों की नारेबाजी के बीच ही शून्यकाल की कार्यवाही चलती रही। हंगामे के बीच विधानसभा अध्यक्ष डॉक्टर सीपी जोशी ने 1 बजे एक घंटे तक के लिए कार्यवाही स्थगित कर दी। दोपहर दो बजे सदन की कार्यवाही दोबारा शुरू होने के बाद प्रतिपक्ष उप नेता राजेन्द्र राठौड़ ने फिर कर्ज माफी का मुद्दा उठाया। इस पर जब हंगामा शुरू हुआ तब हंगामे के कारण कार्यवाही महज 10 मिनट चली क्योंकि प्रतिपक्ष के सदस्यों ने फिर वेल में आकर नारेबाजी शुरु कर दी। अध्यक्ष ने 2 बजकर 10 मिनट पर 3.45 तक के लिए स्थगित कर दी। 

उधर गुर्जर आरक्षण आंदोलन की गुंज आज विधानसभा में भी सुनाई दी, आरएलपी विधायक हनुमान बेनीवाल ने मामला उठाते हुए सरकार से स्थिति स्पष्ट करने की मांग की, इसके बाद विधायक जोगेन्द्र अवाना ने सरकार से गुर्जरों को 5 प्रतिशत आरक्षण देने की मांग की। इसके बाद आरएलपी और बसपा विधायकों ने वैल में आकर नारेबाजी की, नारेबाजी करने के बाद आरएलपी और बसपा विधायक वैल में धरने पर बैठ गये, विधायक जोगेन्द्र अवाना ने पूर्ववर्ती बीजेपी सरकार पर आरोप लगाते हुए कहा कि पूर्ववर्ती बीजेपी सरकार ने 72 गुर्जर बेटों की बली ली, ऐसे में बीजेपी को बोलने का हक नहीं है, अवाना ने कहा कि गुर्जर समाज शांति से आरक्षण चाहता है, सरकार स्थिति स्पष्ट करे, वहीं विधायक हनुमान बेनीवाल ने कहा कि 4 दिन से गुर्जर ट्रैक पर है, सरकार को संज्ञान लेना चाहिए, इस दौरान बेनीवाल ने पूर्ववर्ती सरकार को भी निशाने पर लिया।

उधर सरकार की तरफ से संसदीय कार्यमंत्री शांति धारीवाल ने विधानसभा के बाहर मीडिया से बातचीत में गुर्जर आरक्षण मसले की गेंद केन्द्र के पाले में डाल दी, संसदीय कार्यमंत्री शांति धारीवाल ने कहा कि केन्द्र को गुर्जर आरक्षण पर आगे आना चाहिए, उन्होनें कहा कि अगर सवर्ण समाज को संविधान संशोधन कर 10 प्रतिशत का लाभ दिया जा सकता है, तो गुर्जरों को क्यों नहीं

किसान कर्ज माफी को लेकर सरकार को घेरने की रणनीति पर काम करते हुए बीजेपी ने शून्यकाल के बाद पूरा समय शोरशराबा किया...वहीं गुर्जरों को पांच फीसदी आरक्षण के लिए केन्द्र को पत्र भेजने को लेकर कई विधायक सरकार के समर्थन में खड़े नजर आए। 


First India News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे!
हर पल अपडेट रहने के लिए अभी डाउनलोड करें First India News Mobile Application
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBE चैनल को विजिट करें

और पढ़ें

Most Related Stories

Stories You May be Interested in

लोकसभा चुनाव को लेकर क्या है चौमूं की जनता का मूड

भारत ने दिखाई ताकत, वायुसेना का युद्धाभ्यास
पुलवामा हमले के बाद सहमा पाकिस्तान, LoC पर मची खलबली
आज की चर्चा प्रियंका गाँधी पर | Good Luck Tips
लंदन में लगे पाकिस्तान मुर्दाबाद के नारे
2019 के लोकसभा चुनाव को लेकर क्या है बूंदी की जनता का मूड | Janta Ka Mood
सवर्दलीय बैठक में गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने लिया प्रण !
पाकिस्तान प्रेम नवजोत सिंह सिद्धू को पड़ा भारी, कपिल के शो से हुए बाहर
loading...
">
loading...