कश्मीर में भारतीय सेना के साथ मुठभेड़, सुरक्षा बलों ने मार गिराए जैश-ए-मोहम्मद के तीन आतंकवादी 

कश्मीर में भारतीय सेना के साथ मुठभेड़, सुरक्षा बलों ने मार गिराए जैश-ए-मोहम्मद के तीन आतंकवादी 

कश्मीर में भारतीय सेना के साथ मुठभेड़, सुरक्षा बलों ने मार गिराए जैश-ए-मोहम्मद के तीन आतंकवादी 

श्रीनगर: जम्मू-कश्मीर के पुलवामा जिले में शनिवार को सुरक्षा बलों और आतंकवादियों के बीच मुठभेड़ में जैश-ए-मोहम्मद के तीन आतंकवादी मारे गए. इनमें से एक आतंकवादी जून में भाजपा कार्यकर्ता राकेश पंडिता की हत्या में शामिल था. अधिकारियों ने यह जानकारी दी. उन्होंने बताया कि आतंकवादियों की मौजूदगी की सूचना मिलने पर सुरक्षा बलों ने दक्षिण कश्मीर जिले के नागबेरान त्राल के वन क्षेत्र में ऊंचाई वाले इलाकों में घेराबंदी एवं तलाश अभियान चलाया.

आतंकवादियों ने सुरक्षा बलों पर की गोलीबारी:
अधिकारियों ने बताया कि आतंकवादियों ने सुरक्षा बलों पर गोलीबारी की, जिसके बाद मुठभेड़ शुरू हो गई. गोलीबारी के दौरान जैश-ए-मोहम्मद से संबद्ध तीन आतंकवादी मारे गए. पुलिस महानिरीक्षक (कश्मीर) विजय कुमार ने बताया कि इनमें से एक आतंकवादी की पहचान वकील शाह के रूप में की गई है. पुलिस महानिरीक्षक ने अवंतीपुरा में सेना के विक्टर फोर्स मुख्यालय में संवाददाता सम्मेलन में कहा कि शाह हाल में ही पुलिस द्वारा जारी 10 शीर्ष वांछित आतंकवादियों की सूची में शामिल था. वह भाजपा नेता राकेश पंडिता की हत्या में शामिल था. यह एक बड़ी सफलता मिली है. विक्टर फोर्स के जीओसी मेजर जनरल राशिम बाली ने भी मीडिया को संबोधित किया.

आतंकवादी गुर्जर समुदाय के परिवारों का करते थे उत्पीड़न:
उन्होंने कहा कि यह एक बहुत कठिन अभियान था और हमारे पक्ष को बिना नुकसान हुए यह पूरा हुआ. हमने इलाके की घेराबंदी कर उन्हें आत्मसमर्पण करने को कहा, लेकिन उन्होंने गोलियां चलाईं और जवाबी कार्रवाई में मारे गए. पुलिस महानिरीक्षक ने कहा कि आतंकवादी गुर्जर समुदाय के परिवारों का उत्पीड़न करते थे. ये यहीं छुपे थे. आतंकवादियों को कड़ा संदेश देते हुए उन्होंने कहा कि उनके छुपने के लिए कोई जगह नहीं है.

नागरिकों की हत्या करने वर आतंकवादियों को नहीं बख्सा जाएगा: आईजी
कुमार ने कहा कि मैं आतंकवादियों और उनके परिवारों को कहना चाहता हूं कि आप ऐसा न सोचें कि आप नागरिकों की हत्या करने के बाद पहाड़ों में जाकर छुप जाएंगे और कोई कुछ नहीं करेगा. हमारे सुरक्षाकर्मी पेशेवर हैं और हम आपका वहां भी पता लगा लेंगे और आपका सफाया कर देंगे. मेजर जनरल बाली ने कहा कि लंबे समय से आतंकवादी इस इलाके से काम कर रहे थे. उन्होंने कहा कि इस अभियान से हमारी तरफ़ से कड़ा संदेश गया है कि उनके लिए कोई जगह नहीं है, यहां तक कि जंगल में भी उनके लिए जगह नहीं है. हमें उनके बारे में जानकारी मिलेगी और हम उनका सफ़ाया करेंगे. जब भी हमें जानकारी मिलेगी, हम सही दिशा में अभियान शुरू कर उनका सफ़ाया करेंगे.

आंतरिक क्षेत्र में हथियार की मौजदूगी की सूचना नहीं: मेजर जनरल
बाली ने कहा कि मुठभेड़ स्थल से दो एके-47, एक एसएलआर, एक यूबीजीएल और भारी मात्रा में गोला-बारूद जब्त किए गए. कुलगाम में 13 अगस्त को मुठभेड़ स्थल से आरपीजी बरामद होने के बाद घाटी में इस तरह के और हथियारों की मौजूदगी संबंधी सूचना के बारे में कुमार ने कहा कि सुरक्षाबलों को आंतरिक क्षेत्र में इस तरह के हथियार की मौजदूगी की सूचना नहीं है. इसमें पाकिस्तानी आतंकवादी उस्मान मारा गया था. वहीं, एक अन्य सवाल के जवाब में कुमार ने कहा कि अब तक इस साल सिर्फ़ एक विदेशी आतंकवादी मारा गया है, जिसने ‘हाल में ही घुसपैठ’ की थी. (भाषा) 

और पढ़ें