आज के युग में भी 65 प्रतिशत जनसंख्या की आजीविका कृषि पर निर्भर: कटारिया

आज के युग में भी 65 प्रतिशत जनसंख्या की आजीविका कृषि पर निर्भर: कटारिया

आज के युग में भी 65 प्रतिशत जनसंख्या की आजीविका कृषि पर निर्भर: कटारिया

जयपुर: कृषि, मत्स्य एवं पशुपालन मंत्री लालचन्द कटारिया ने कहा कि आज देश की 65 प्रतिशत जनता कृषि पर निर्भर है. भारत एक कृषि प्रधान देश है. राजस्थान सरकार किसानों के हितों को ध्यान में रखकर कार्य कर रही है और मुख्यमंत्री अशोक गहलोत हमेशा से ही किसान हितेषी नेता रहे है. कटारिया शनिवार को वीडियों कांफ्रेंसिंग के माध्यम से मुख्यमंत्री किसान मित्र ऊर्जा योजना के शुभारंभ समारो​ह में बोल रहे थे.

​कृषि भारतीय अर्थव्यवस्था की रीढ़:
कृषि, मत्स्य एवं पशुपालन मंत्री लालचन्द कटारिया ने कृषि को भारतीय अर्थव्यवस्था की रीढ़ बताते हुए कहा कि आज भी 65 प्रतिशत जनसंख्या की आजीविका कृषि पर निर्भर है. उन्होंने कहा कि किसानों और पशुपालकों के हित को ध्यान में रखते हुए देश में पहली बार राजस्थान प्रदेश में कृषि बजट अलग से पेश करने का ऎतिहासिक निर्णय किया गया है. उन्होंने अपने सम्बोधन में श्री कर्ण नरेन्द्र  कृषि विवि जोबनेर के गौरवशाली अतीत को भी याद किया.

भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद के महानिदेशक एवं कृषि अनुसंधान एवं शिक्षा विभाग, भारत सरकार के सचिव, डॉ. त्रिलोचन महापात्र ने कहा कि देश के कृषि विश्वविद्यालयों में नई शिक्षा नीति को लागू करने के लिए कुलपतियों की एक कमेटी का गठन किया गया है. उन्होंने कृषि शिक्षा, शोध एवं प्रसार शिक्षा की गुणवत्ता में वृद्धि के लिए परिषद द्वारा किए जा रहे प्रयासों की जानकारी भी दी.

आरम्भ में कर्ण नरेन्द्र कृषि विश्वविद्यालय के कुलपति डॉ. जीत सिंह सन्धू ने विश्वविद्यालय के गौरवशाली इतिहास, शैक्षणिक, शिक्षणेत्तर गतिविधियों तथा नवाचारों आदि के बारे में प्रस्तुतीकरण के माध्यम से जानकारी दी.

राज्यपाल ने इस अवसर पर कर्ण नरेन्द्र कृषि विश्वविद्यालय परिसर में तैयार वर्षा जल संग्रहण तालाब का ऑनलाइन लोकार्पण भी किया. उन्होंने कार्यक्रम के दौरान महाविद्यालय पर आधारित स्मारिका कृषि शिक्षा का ध्रुवतारा’ का विमोचन भी किया. कार्यक्रम में राज्यपाल मिश्र ने उपस्थितजनों को संविधान की उद्देश्यिका और मूल कर्तव्यों का वाचन भी करवाया.

 

इस अवसर पर  राज्यपाल के सचिव सुबीर कुमार,  प्रमुख विशेषाधिकारी गोविन्द राम जायसवाल, महाराणा प्रताप कृषि एवं प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय उदयपुर के कुलपति डॉ. नरेन्द्र सिंह राठौड़, स्वामी केशवनानन्द राजस्थान कृषि ववि बीकानेर के कुलपति डॉ. रक्षपाल सिंह, कृषि विवि जोधपुर के कुलपति डॉ. बी.आर. चौधरी, कृषि विवि कोटा के कुलपति डॉ. दिनेश चन्द्र जोशी एवं राजुवास बीकानेर के कुलपति डॉ. विष्णु शर्मा ऑनलाइन उपस्थित रहे.

और पढ़ें