बैंक का कर्ज नहीं चुका पाने से परेशान किसान ने की आत्महत्या

FirstIndia Correspondent Published Date 2017/12/24 05:19

चितलवाना (जालोर)। जिले में चितलवाना क्षेत्र के झोटड़ा गांव में एक किसान ने अपने खेत में बने छपरे में फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली। बताया जा रहा है कि मृतक किसान बैंक का ऋण नहीं चुका पाने के कारण परेशान था। इस आशय की रिपोर्ट मृतक के भाई ने चितलवाना पुलिस थाने को दी है, जिस पर पुलिस ने मर्ग दर्ज कर जांच शुरू कर दी है।

मृतक के भाई प्रभुराम ने बताया कि परावा गांव की सरहद पर उसका भाई 45 वर्षीय टीकमाराम अरण्डी और जीरे की खेती करता था। रात में वह खेती की रखवाली कर रहा था। सुबह नौ बजे उसकी पत्नी उसके लिए खाना लेकर पहुंची तो टीकमाराम का शव फंदे से झूलता हुआ मिला।

मृतक के भाई ने बैंक से कर्ज से परेशान होकर आत्महत्या करने की बात कही है। मृतक के भाई ने बताया कि उसके पिताजी भैरुलाल की करीब पन्द्रह साल पहले मौत हो गई थी। उन्होंने करीब बीस हजार का ऋण बाड़मेर जिले की गुड़ामालानी शाखा से लिया हुआ था। अभी पांच लाख के करीब मांग निकल रही थी, जिस काश्त पर भाई खेती कर रहा था, उसी पर ऋण है। यह जमीन कुर्क नहीं हो जाए, इसको लेकर वह परेशान था।

गौरतलब है कि पिछले कुछ सालों से देशभर में किसानों की आत्महत्या एक मुद्दा बनकर उभरा है। वहीं कर्ज में डूबे किसानों की कर्जमाफी को लेकर भी देशभर में प्रदशर्न किए जा रहे हैं, लेकिन जिम्मेदार अफसर इस ओर ध्यान ही नहीं दे रहे हैं। ऐसे में खेती पर आश्रित जालोर जिले में किसान की मौत चौंकाने वाली है। फिलहाल पुलिस इस मामले में जांच कर रही है।

First India News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे!
हर पल अपडेट रहने के लिए अभी डाउनलोड करें First India News Mobile Application
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBE चैनल को विजिट करें

और पढ़ें

Most Related Stories

Stories You May be Interested in

मोदी UP में डालेंगे डेरा

येदियुरप्पा की रणनीति गलत तो नहीं
सलमान खान को कोर्ट में झूठ बोलने का लगा आरोप
राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार डोभाल का कथित फोन टैप कराने का मामला
कुमारस्वामी सरकार से 2 निर्दलीय विधायकों के समर्थन वापसी के बाद दिलचस्प हुई कर्नाटक की सियासत
आज के दिन इस विधि से गणेश जी की पूजा करके बना सकते हैं अपने बिगड़े काम
चुनाव से पहले \'तोहफों की बारिश\'
HAPPY \'B\' DAY \'बहिनजी\' !
loading...
">
loading...