कपड़ा फैक्ट्री में भयंकर आग, सब कुछ स्वाहा, लाखों का नुकसान

FirstIndia Correspondent Published Date 2018/11/08 09:38

शाहपुरा (भीलवाड़ा)। भीलवाड़ा जिले के शाहपुरा कस्बे में कोठी रोड़ पर दुरदर्शन रिलें केंद्र के पास स्थित एक हैंडलूम कपड़ा फैक्ट्री में गुरूवार को रात 7 बजे अचानक आग लग गई। दीपावली पर कपड़ा का स्टाॅक होने के कारण धूं धू कर आग की उंची लपटे उठना प्रांरभ हो गई। आस पास से जमा हुए लोगों ने अपने स्तर पर आग पर काबू पाने का प्रयास किया पर वो विफल रहे। 

आग से वहां लगी सभी मशीने भी जल गई। आग से लाखों का नुकसान होने का प्रांरभिक आंकलन लगाया गया है। रात 8.30 बजे भीलवाड़ा से दो दमकल गाड़ियों के पहुंचने पर आग पर काबू पाने का प्रयास प्रारंभ किया जो जारी है। जानकारी के अनुसार शाहपुरा हाथ करघा समिति की संचालित हैंडलूम कपड़ा फैक्ट्री में गुरूवार को सांयकाल दिवाली पर दीपक करने व आस पास आतिशबाजी होने से अचानक वहां आग लग गई। आग का धूंआ देख आस पास के लोगों की सूचना पर फैक्ट्री संचालक यशपाल पाटनी व मामोड़िया मौके पर पहुंचे। शाहपुरा पुलिस भी मौके पर पहुंची।

आग पर काबू पाने का काफी प्रयास किया गया। शाहपुरा नगर पालिका में नई दमकल गाड़ी आ जाने के बाद भी उसका स्टाफ न होने से उसका भी आज आग लगने की वारदात में कोई उपयोग नहीं किया जा सका। बाद में भीलवाड़ा के एक कार्मिक के यहां पर ही होने से उसके प्रयास से उसको चालू किया गया। 8.30 भीलवाड़ा से दो दमकल गाडियों के पहुंचने के बाद आग पर काबू पाने का प्रयास शुरू किया गया। 

शाहपुरा उपखंड अधिकारी चेतन त्रिपाठी, तहसीलदार अशोक सोनी, पुलिस उपाधीक्षक भोमाराम, सीआई भजनलाल मय जाब्ते के मौके पर पहुंचे और लोगों के सहयोग से आग पर काबू पाने का प्रयास किया जा रहा है। 

First India News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे!
हर पल अपडेट रहने के लिए अभी डाउनलोड करें First India News Mobile Application
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBE चैनल को विजिट करें

और पढ़ें

Most Related Stories

Stories You May be Interested in

विजय माल्या के प्रत्यर्पण पर आज आ सकता है बड़ा फैसला

संसद सत्र हंगामेदार रहने के आसार
प्रधानमंत्री कार्यालय के PRO जगदीश ठक्कर का निधन
धौलपुर जेल से कैदी का वीडियो वायरल
मासूम बच्चो की प्रस्तुतियों ने मोहा मन
प्रेरक वक्ता राम चंदानी ने दिए सफलता के मूल मंत्र, जिंदगी वैसी बनाएं जैसी जीना चाहते है
मासूम बच्चो की प्रस्तुतियों ने मोहा मन
थम गई सरिस्का के बाघ ST-4 की साँसे
loading...
">
loading...