close ads


15वीं राजस्थान विधानसभा का पंचम सत्र, शांति धारीवाल बोले, प्रदेश नहीं देश की जनता के लिए ऐतिहासिक क्षण

15वीं राजस्थान विधानसभा का पंचम सत्र, शांति धारीवाल बोले, प्रदेश नहीं देश की जनता के लिए ऐतिहासिक क्षण

जयपुर: 15वीं राजस्थान विधानसभा का पंचम सत्र चल रहा है. वंदे मातरम के साथ सदन की कार्यवाही शुरू हुई. दिवंगत प्रबुद्धजनों के लिए सदन में शोकाभिव्यक्ति की गई. मिजोरम,मणिपुर और झारखंड के पूर्व राज्यपाल वेद मारवाह, मध्य प्रदेश के पूर्व राज्यपाल लालजी टंडन, छत्तीसगढ़ के पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी, महाराष्ट्र के पूर्व सीएम शिवाजीराव पाटील निलांगेकर, पूर्व विधायक भंवरलाल शर्मा, बजरंगलाल शर्मा, हनुमान सहाय व्यास, गलवान घाटी शहीद हुए सैनिकों को सदन में श्रद्धांजलि दी गई. सदन में दो मिनट का मौन रखकर दिवंगतों को श्रद्धांजलि दी गई. जयपुर में बारिश की वजह से कई विधायक देरी से सदन पहुंचे. 

शांति धारीवाल का संबोधन:
संसदीय कार्य मंत्री शांति धारीवाल ने सदन में अपने संबोधन में कहा कि प्रदेश नहीं देश की जनता के लिए ऐतिहासिक क्षण है. हमारे लिए खासतौर से परीक्षा का समय है. राजनीतिक दलों के लिए परीक्षा का समय है. एक तरफ गांधीवादी चेहरा सबके सामने है और दूसरी तरफ अहंकार ही अहंकार है. गहलोत सरकार ने किसानों का कर्ज माफ किया है. कोरोना को नियंत्रित करने के लिए सरकार ने बेहतर प्रबंधन किया. पहली बार किसी मुख्यमंत्री ने वादा किया कोई भूखा नहीं सोएगा और यह वादा आज भी निरंतर पूरा किया जा रहा है. 55 लाख लोगों को रोजगार दिया गया. OBC के लिए सिर्फ 8 लाख की शर्त की गई. लेकिन केंद्र सरकार ने बदलाव नहीं किया. धारीवाल बोल ने कहा कि केंद्र के इशारे पर एमपी,मणिपुर,गोवा में सरकार को गिराया गया. धन व सत्ता के बल पर गिराया गया.

अडाणी और अंबानी को लेकर लगाए आरोप:
इस बीच धारीवाल ने अडाणी और अंबानी को लेकर आरोप लगाए. कहा-बेशकीमती जमीनों को कोड़ियों में दिया गया. दीनदयाल उपाध्याय मार्ग पर BJP ने जो दफ्तर बनाया, वहां से 500 करोड़ किसके पास गया. राजस्थान में खरीद फरोख्त के लिए 500 करोड़ रुपये आये. उसका हिसाब जनता मांगेगी. राठौड़ व पूनियां साहब आपस में झगड़ा मत करना वरना भंडा फूट जाएगा. पैसा दिया है तो हिसाब तो मांगा जाएगा. अकबर व महाराणा प्रताप का किस्सा सुनाया. जब अकबर मेवाड़ पहुंचा तो महाराणा प्रताप ने नाको चने चबा दिए. अब BJP वाले राजस्थान पहुंचे, तो राजस्थान के रण बांकुरों ने उनको दिन में तारे दिखा दिए. 

धारीवाल ने यमुना जी के घाट पर कविता सुनाई:
अशोक गहलोत ने उनको छठी का दूध याद दिला दिया. ED,CBI या अन्य एजेंसी लेकर आये. चाहे जितनी एजेंसी ले आओ कुछ नहीं बिगाड़ सकते है. सिर्फ फौज ही नहीं लेकर आये, फौज भी लेकर आ जाते है. धारीवाल ने यमुना जी के घाट पर कविता सुनाई. छोटा भाई और मोटा भाई ने विधायकों के लिए MSP बढ़ा दी. विधायकों ने हाथ जोड़ लिए इतनी बड़ी रकम कहां रखेंगे. पत्नी ने कहा इतने पैसे आये तो बच्चे बिगड़ जाएंगे. मोड ऑफ ऑपरेंडी की जगह मोदीज ओपरेंडी शब्द आ गया.व्यक्ति की जैसी संगत होगी वैसी ही रंगत होगी. हमारे विधायकों की बाड़ेबंदी बताई गई. BJP ने क्या विधायकों को गुजरात रासलीला रचाने भेजे थे.

और पढ़ें