close ads


भारतीय वायुसेना के हुए राफेल लड़ाकू विमान, वायुसेना की शक्ति में बढ़ोतरी

भारतीय वायुसेना के हुए राफेल लड़ाकू विमान, वायुसेना की शक्ति में बढ़ोतरी

नई दिल्ली: फ्रांस से उड़ान भरने के बाद पांच राफेल लड़ाकू विमान भारतीय जमीन पर पहुंच गए हैं. राफैल की लैंडिग के साथ ही भारतीय वायु सेना की शक्ति में बढ़ोतरी हुई है. हरियाणा के अंबाला एयरबेस में बुधवार को राफेल विमान लैंड होने के साथ ही सैल्यूट करने के साथ ही उनका स्वागत किया गया. इस दौरान वायुसेना चीफ RKS भदौरिया भी मौजूद रहे. फ्रांस से मिलने वाली राफेल विमानों की ये पहली खेप है. मंगलवार को फ्रांस से उड़ान भरने के बाद ये विमान UAE में रुके और बुधवार दोपहर को अंबाला पहुंचे.

नई शिक्षा नीति को मोदी कैबिनेट की मंजूरी, HRD मिनिस्ट्री का बदला नाम  

हर तरह के मिशन में भेजा जा सकता: 
राफेल विमान में ईंधन क्षमता 17 हजार किलोग्राम है. यह दो इंजन वाला लड़ाकू विमान है, जो भारतीय वायुसेना की पहली पसंद है. इसे हर तरह के मिशन में भेजा जा सकता. भारतीय वायुसेना ने लंबे टेस्ट के बाद राफेल को चुना है. दरअसल, राफेल विमान भारत सरकार के लिए एकमात्र विकल्प नहीं था. 

राजनीति के केंद्र में रहा है राफेल:
पिछले कई वर्षों से राफेल लड़ाकू विमान भारतीय राजनीति के केंद्र में रहा. लोकसभा चुनावों में यह विपक्षी दलों का मुद्दा भी था. हालांकि केंद्र सरकार आरोपों को सिरे से खारिज करती रही है. सरकार का दावा है कि वायुसेना को मजबूत बनाने के लिए इस सौदे को जल्दी पूरा करना जरूरी था. अब थोड़ी ही देर में ये विमान भारतीय धरती पर लैंड करने वाले हैं. 

राजभवन और राज्य सरकार के बीच और बढ़े टकराव के हालात! राजभवन ने एक बार फिर लौटाया राज्य सरकार का प्रस्ताव 

एक मिनट में भर सकता है 60 हजार फुट ऊंची उड़ान:
राफेल एक मिनट में करीब 60 हजार फुट की ऊंचाई तक उड़ान भर सकता है. इससे भारतीय वायुसेना के आधुनिकीकरण को गति मिलेगी. राफेल अधिकतम भार उठाकर इसके उड़ने की क्षमता 24500 किलोग्राम है. यह दो इंजन वाला लड़ाकू विमान है. 

और पढ़ें