VIDEO: जयपुर एयरपोर्ट पर बढ़ा फ्लाइट रद्द का आंकड़ा, देखिए ये खास रिपोर्ट

VIDEO: जयपुर एयरपोर्ट पर बढ़ा फ्लाइट रद्द का आंकड़ा, देखिए ये खास रिपोर्ट

जयपुर: खबर आम हवाई यात्रियों से जुड़ी हुई है. यदि आप जयपुर एयरपोर्ट से किसी दूसरे शहर के लिए यात्रा कर रहे हैं तो दुआ कीजिए कि आपकी फ्लाइट में ठीक ठाक संख्या में यात्री हों. यदि यात्री कम हुए तो फ्लाइट ऐन वक्त पर रद्द भी की जा सकती है. क्यों हैं ऐसे हालात, क्या हो सकता है समाधान, क्या जयपुर एयरपोर्ट प्रशासन दिखाएगा सख्ती. 21 सितंबर को जयपुर अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे पर एयरपोर्ट सलाहकार समिति की बैठक हुई तो उसमें सभी सदस्यों ने एक बात पर पूरा जोर दिया. समिति सदस्य अजय धांधिया और अन्य ने यह मुद्दा उठाया कि एयरलाइंस द्वारा यात्रियों को फ्लाइट रद्द के बारे में समय पर सूचना नहीं दी जाती. कई बार 3 से 4 घंटे पहले फ्लाइट रद्द की जाती है. ऐसे में यदि किसी यात्री को जरूरी कार्य से यात्रा करनी हो तो वह कैसे करे. 

समिति सदस्यों की इस बात का जवाब न एयरपोर्ट अथॉरिटी के अधिकारी दे सके, न ही एयरलाइंस के प्रतिनिधि. दरअसल जयपुर हवाई अड्डे पर फ्लाइट रद्द करने की यह समस्या लगातार बढ़ती जा रही है. एयरलाइंस के लिए हवाई यात्रा मुफीद साबित नहीं होने पर वे अचानक फ्लाइट को रद्द कर देती हैं. जयपुर एयरपोर्ट के एयरलाइंस के ट्रेंड के मुताबिक यात्रीभार 40 प्रतिशत से ज्यादा होने पर एयरलाइंस फ्लाइट संचालित करती हैं, लेकिन 40 फीसदी से कम यात्रीभार की स्थिति में एयरलाइंस फ्लाइट रद्द कर देती हैं. हालांकि यात्रियों के लिए इस वजह से परेशानी खड़ी हो जाती है. कई बार तो ऐसा होता है कि सुबह 6 बजे की फ्लाइट के लिए रद्द का मैसेज देर रात 10 से 11 बजे आता है. मैसेज नहीं मिलने पर यात्री एयरपोर्ट भी पहुंच जाते हैं और निराश होकर वापस लौटते हैं. जयपुर एयरपोर्ट से रोज औसतन 4 से 5 फ्लाइट रद्द हो रही हैं.

ये फ्लाइट अक्सर हो जाती हैं रद्द:
- स्पाइसजेट की सुबह 6:30 बजे ग्वालियर की फ्लाइट SG-2035
- स्पाइसजेट की सुबह 6:30 बजे देहरादून की फ्लाइट SG-2035
- सप्ताह में 4 दिन ग्वालियर, 3 दिन देहरादून जाती है फ्लाइट, लेकिन सप्ताह में 2 से 3 दिन रहती रद्द
- स्पाइसजेट की सुबह 6:50 बजे अहमदाबाद की फ्लाइट SG-3433
- गो फर्स्ट की सुबह 8:50 बजे कोलकाता की फ्लाइट G8-703 
- इंडिगो की दोपहर 12:50 बजे गुवाहाटी की फ्लाइट 6E-131
- स्पाइसजेट की दोपहर 1:40 बजे गुवाहाटी की फ्लाइट SG-696
- गो फर्स्ट की शाम 5:05 बजे हैदराबाद की फ्लाइट G8-506
- गो फर्स्ट की शाम 7:40 बजे कोलकाता की फ्लाइट G8-702 
- एयर एशिया की रात 9:10 बजे हैदराबाद की फ्लाइट I5-974 

फ्लाइट्स को रद्द किए जाने के पीछे यात्रीभार बड़ा कारण है. जयपुर एयरपोर्ट से आमतौर पर कम दूरी के शहरों के लिए एटीआर और क्यू-400 श्रेणी के विमान संचालित हो रहे हैं. इंडिगो और एयर इंडिया एटीआर-72 श्रेणी का विमान संचालित करती हैं. इन विमानों में अधिकतम 78 सीट होती हैं. वहीं स्पाइसजेट क्यू-400 विमान चलाती है, जिसमें अधिकतम 90 सीट होती हैं. इन विमानों में जब सीट बुकिंग 30 से कम होती है तो एयरलाइंस के लिए फ्लाइट संचालित करना घाटे का सौदा साबित होता है. इसी वजह से देहरादून, अहमदाबाद या ग्वालियर की फ्लाइट अक्सर रद्द हो जाती हैं. गुवाहाटी, कोलकाता, बेंगलूरु की फ्लाइट्स भी कम यात्रीभार होने पर रद्द कर दी जाती हैं. एयरलाइंस द्वारा फ्लाइट रद्द करने की प्रवृत्ति पर एयरपोर्ट सलाहकार समिति ने भी सख्ती दिखाई है.

एयरपोर्ट समिति फ्लाइट रद्द पर हुई सख्त:
- जयपुर एयरपोर्ट सलाहकार समिति ने फ्लाइट रद्द की प्रक्रिया पर नाराजगी दिखाई
- समिति अध्यक्ष जयपुर सांसद रामचरण बोहरा ने एयरलाइंस को जिम्मेदारी तय करने को कहा
- कहा, सभी यात्रियों को फ्लाइट रद्द के बारे में समय पर सूचना दी जाए
- फ्लाइट रद्द हो तो उसी शहर की दूसरी फ्लाइट में यात्रियों को एडजस्ट किया जाए
- एयरपोर्ट प्रशासन से इसकी मॉनिटरिंग करने के निर्देश दिए गए

वर्तमान समय में श्राद्ध पक्ष होने से भी यात्रीभार की कमी देखी जा रही है. आगामी दिनों में जब नवरात्रि और दिवाली का त्योहारी सीजन शुरू होगा तो हवाई यात्रियों की संख्या में खासी बढ़ोतरी होने की संभावना है. ऐसे में उस दौरान फ्लाइट रद्द की प्रवृत्ति कम होने की उम्मीद रहेगी. हालांकि जरूरत इस बात की है कि एयरलाइंस यात्रियों के प्रति प्रोफेशनल व्यवहार रखते हुए फ्लाइट रद्द की स्थिति में न केवल समय पर सूचना दें, साथ ही यात्रियों को दूसरी फ्लाइट्स में समय रहते एडजस्ट करें, जिससे उनके लिए परेशानी न हो.

...काशीराम चौधरी,फर्स्ट इंडिया न्यूज, जयपुर

और पढ़ें