close ads


Arun Jaitley passes away : एक विजेता योद्धा की तरह रहा पूर्व वित्त मंत्री अरुण जेटली का जीवन

Arun Jaitley passes away : एक विजेता योद्धा की तरह रहा पूर्व वित्त मंत्री अरुण जेटली का जीवन

नई दिल्ली: देश पूर्व वित्त मंत्री अरुण जेटली का आज 66 साल की उम्र में निधन हो गया है. अरुण जेटली की हालत काफी लंबे समय से नाजुक बनी हुई थी और आज दोपहर करीब 12:07 बजे दिल्ली के एम्स में अंतिम सांस ली. उन्हें 9 अगस्त को एम्स में भर्ती कराया गया और वरिष्ठ डॉक्टर उनका इलाज कर रहे थे. वहीं उनके जीवन की बात करें तो उनका जीवन विलक्षण उपलब्धियों से भरा रहा. 

बतौर वित्त मंत्री:
वित्त मंत्री के तौर पर उनकी पारी खासतौर से हमेशा याद की जाएगी. अरुण जेटली ने मोदी सरकार के पहले कार्यकाल में कई साहस भरे आर्थिक सुधारों को अंजाम दिया. इनमें से कई सुधार दशकों से अटके थे, लेकिन कोई सरकार उन्हें अमलीजामा पहनाने की हिम्मत नहीं दिखा सकी थी. उन्होंने सरकार के विनिवेश लक्ष्यों को हासिल करने में भी सफलता पाई, जबकि आर्थिक माहौल को देखते हुए ये लक्ष्य काफी कठिन लग रहे थे.

बतौर नेता विपक्ष:
राज्यसभा में बतौर नेता विपक्ष जेटली के तार्किक और अचूक तर्क सत्ता पक्ष के लिए अबूझ चुनौती की तरह रहे. बतौर नेता सदन रहते हुए भी उन्होंने उसी तार्किकता से मोदी सरकार को घेरने के विपक्ष के प्रयासों को बेदम करते रहे. जेटली का राजनीतिक सफर एक विजेता योद्धा जैसा है जिसमें उन्होंने कभी पीछे मुड़कर नहीं देखा. 

संसद में सरकार के संकटमोचक: 
मोदी सरकार के पहले कार्यकाल में वित्त, रक्षा और सूचना प्रसारण जैसे अतिमहत्वपूर्ण मंत्रालय संभालने वाले अरुण जेटली को संसद में सरकार के संकटमोचक माना जाता था. यानी जब भी सरकार को कोई समस्या आई जेटली ने अपने अनुभव से उसे दूर करने का काम किया. जेटली पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की सरकार में भी मंत्री रहे, इसके बाद विपक्ष की भूमिका में भी जेटली बेहद मुखर प्रवक्ता रहे औक यूपीए सरकार को निशाने पर लेते रहे. उन्हें एनडीए का सफल रणनीतिकार भी माना जाता था.

47 साल की उम्र में पहली बार सांसद बने: 
अरुण जेटली के संसदीय सफर की बात करें तो वे 47 साल की उम्र में पहली बार सांसद बने. 19 अक्टूबर 1999 को अरुण जेटली वाजपेयी सरकार में मंत्री बने. सबसे पहले सूचना-प्रसारण (स्वतंत्र प्रभार) मंत्री बने. इसके बाद उन्हें विनिवेश मंत्रालय, कानून मंत्रालय, उद्योग और वाणिज्य मंत्रालय का भी जिम्मा मिला. साल 2000 में जेटली पहली बार कैबिनेट मंत्री बने.
 

और पढ़ें