सूरत भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व तेज गेंदबाज मुनाफ पटेल बना रहे हैं नए 'मुनाफ'

भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व तेज गेंदबाज मुनाफ पटेल बना रहे हैं नए 'मुनाफ'

भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व तेज गेंदबाज मुनाफ पटेल बना रहे हैं नए 'मुनाफ'

सूरत: कुछ साल पहले भरूच और बरौडा जिलों के हर क्रिकेट मैदान में "मुन्ना, मुन्ना, मुन्ना" के नारे गूंजते थे और बाद में यह नाम अंतरराष्ट्रीय स्तर पर गूंजने लगा. 2011 विश्व कप विजेता टीम में भी उन्हें 'अज्ञात योद्धा' कहा जाता था. अब यह योद्धा अपने जैसे योद्धाओं की सेना तैयार करने की ठान चुका है. यह ' मुन्ना ' तेज गेंदबाज मुनाफ पटेल हैं जिन्हें इखर एक्सप्रेस के नाम से जाना जाता है. रिटायरमेंट के बाद बैठने के बजाय 140 किमी प्रति घंटे की सबसे तेज रफ्तार से गेंद फेंकने वाले मुनाफ पटेल बरौडा क्रिकेट एसोसिएशन के मैदान में इसी तरह की 'प्रतिभा' खोजने और विकसित करने के लिए लगन से काम कर रहे हैं. मुनाफकी मेहनत भारतीय क्रिकेट को भविष्य में मुनाफ जैसा एक और तेज गेंदबाज दे सकती है.

मुनाफ से ट्रेनिंग लेकर गांवों के युवा भारतीय क्रिकेट टीम में कर सकते हैं दस्तक
बीसीए आदित्य बिड़ला के स्ट्रीट लाइट टु  फ्लड लाइट नामक प्रायोजन के तहत मुनाफ पटेल के माध्यम से  प्रतिभा खोज कर रहा है और बीसीए के सीईओ शिशिर हटगंडी और कोर टीम द्वारा निगरानी की जा रही है. वर्तमान में, मुनाफ पटेल भरूच और बरौडा जिलों के साथ-साथ पुराना गायकवाड़ी राज्य के जिलों और गांवों में शिविर कर कई चुने हुए युवाओं को तेज गेंदबाजी का पाठ पढ़ा रहे हैं. मुनाफ का कहना है कि मेरा फोकस गांवों से टैलेंट ढूंढकर उसे भारतीय टीम के लिए तैयार करने पर है. हम 16 से 21 साल के युवकों की तलाश कर रहे हैं और उन्हें बरौडा कैंप में ले जा रहे हैं. जिसमें सबसे ज्यादा रिस्पॉन्सिव लड़कों पर बीसीए द्वारा मेहनत की जा रही है. कई जगह कैंप लगाए जाएंगे. अगर मेरे जैसे खिलाड़ी, जहीर खान, राकेश पटेल, लुकमान गांवों से आ सकते हैं, तो दूसरे क्यों नहीं? इसी को ध्यान में रखते हुए हम आगे बढ़ रहे हैं. नतीजे आने वाले दिनों में सामने आएंगे. स्वभाव से साधारण मुनाफ का अब केवल एक ही लक्ष्य है कि वह भारतीय क्रिकेट टीम को सबसे तेज गेंदबाज भेंट दे.

भारतीय क्रिकेट टीम में जगह बनाने के लिए संघर्षरत किसान का बेटा
भरूच जिले के इखर गांव के किसान मुसाभाई के बेटे मुनाफ पटेल का क्रिकेट में करियर बनाने का कोई सपना नहीं था. वह अपने शौक के लिए ही क्रिकेट खेलते थे. जब वे कक्षा-7 में थे, तब वे अपने गृह विद्यालय में तथा छोटे-बड़े टूर्नामेंटों में खेलते थे. कुछ ही समय में वह आसपास के गांवों में सबसे तेज गेंदबाज और विकेट टेकर के रूप में प्रसिद्ध हो गए. किसान पिता नहीं चाहते थे कि उनका बेटा मुनाफ अपने शौक के लिए भी क्रिकेट खेले. चूंकि आर्थिक स्थिति बहुत खराब थी, मुनाफ ने इतनी कम उम्र में परिवार की मदद करने का फैसला किया और गांव के पास स्थित एक टाइल बनाने वाली कंपनी में, उन्होंने रु. 35 दैनिक मजदूरी किया . हालांकि, स्कूल के शिक्षकों ने उन्हें क्रिकेट खेलना जारी रखने के लिए प्रोत्साहित किया. भरूच और बरौडा जिलों में, मुनाफ पटेल का नाम गूंजने लगा. गरीबी ऐसी थी कि वह सीजन क्रिकेट सिर्फ स्लीपर चप्पल में ही खेलते थे.

मुनाफ को पहले किरण मोरे और बाद में सचिन तेंदुलकर ने मदद की थी
मुनाफ की प्रतिभा और जुनून को देखकर, मूल रूप से इखर गांव के और विदेश में रहने वाले यूसुफभाई पटेल नाम के एक व्यक्ति ने उन्हें जूते दिलवाए और उन्हें अपने खर्च पर बरौडा क्रिकेट एसोसिएशन में पेशेवर प्रशिक्षण के लिए भेजना शुरू किया . पिता चाहते थे कि मुनाफ थोड़ा पढ़े और जाम्बिया में अपने चाचा के पास कुछ काम करने जाए लेकिन मुनाफ की किस्मत कुछ और थी. बरौडा में उन पर पूर्व विकेटकीपर किरण मोरे की नजर पड़ी और मुनाफ गुजरात में प्रथम श्रेणी क्रिकेट खेलने लगे. बाद में उन्हें कोलकाता में एमआरएफ पेस फाउंडेशन भेजा गया जहां उन्हें गेंदबाजी कोच डेनिस लिली ने तैयार किया.  यहां मास्टर ब्लास्टर सचिन तेंदुलकर मुनाफ से प्रभावित हुए और उन्हें मुंबई के लिए रणजी मैच खेलने का सुझाव दिया और ऐसा करने में उनकी मदद की. वहां अच्छे प्रदर्शन के कारण  पहली बार 2006 में इंग्लैंड की प्रथम श्रेणी क्रिकेट टीम में प्रवेश मिला, और उन्होंने टेस्ट में 10 विकेट लिए और चयनकर्ताओं का ध्यान आकर्षित किया. ऑस्ट्रेलियाई तेज गेंदबाज ग्लेन मैक्ग्रा का रूप चयनकर्ताओं ने मुनाफ में देखा और उन्हें 2007 विश्व कप टीम में जगह मिली. हालांकि, टीम हार गई और इसके खराब प्रदर्शन के लिए काफी आलोचना की गई, लेकिन मुनाफ ने टेस्ट, वनडे, टी20ई और बाद में आईपीएल के लिए क्वालीफाई किया. 2011 वर्ल्ड कप के दौरान जब तेज गेंदबाज प्रवीण कुमार चोटिल हुए थे तो मुनाफ को मौका मिला और उन्होंने उसे नतीजे में बदल दिया. उनकी गेंदबाजी इतनी प्रभावशाली थी कि उन्हें भारत के कोच एरिक सिमंस ने विश्व कप टीम का 'अज्ञात योद्धा' नामित किया था. फाइनल में उन्होंने दो बेहद अहम विकेट लिए और टीम इंडिया की जीत की नींव रखी.

हालांकि मुनाफ पैर में चोट लगने के बाद टीम में वापसी नहीं कर सके
2011 विश्व कप विजेता टीम के एक प्रमुख सदस्य, बाद में उन्हें टखने की चोट के कारण छह महीने विश्राम करना पड़ा , उसके बाद वह कभी भारतीय टीम में जगह नहीं बना पाए . हालांकि, आईपीएल में राजस्थान रॉयल्स के साथ उनके 6 सफल सीजन रहे. लेकिन नई प्रतिभाओं के बीच 2014 में आईपीएल की किसी टीम ने उनके लिए बोली नहीं लगाई. हालांकि, 2017 में फिर से, गुजरात लायंस ने रु 30 लाख उन्हें टीम में शामिल किया. बाद में चोट से परेशान मुनाफ पटेल ने साल 2018 में सभी क्रिकेट फॉर्मेट से संन्यास की घोषणा कर दी. मुनाफ के नाम टेस्ट, वनडे, टी20 और आईपीएल में 199 विकेट हैं. मुनाफ गेंद को दोनों तरफ से स्विंग करा सकते थे और उनकी सबसे तेज गेंद 140 किलोमीटर प्रति घंटे की थी. वह सामान्य गेंदबाज भी 126 किमी की गति से फेंकते थे . मुनाफ इस उचाई के लिए ईश्वर का आभार व्यक्त करते है पर अफसोस सिर्फ इस बात का है की उन्हें चोट की वजह से क्रिकेट को अलविदा कहना पड़ा. और अब मुनाफ उस अफसोस को भुला कर गांवो से अब वह अपने से भी बेहतर गेंदबाज ढूंढ कर खड़ा करने में एक्टिव भूमिका निभा रहे हैं और उनका टारगेट देश को सबसे तेज गेंदबाज देना है.

और पढ़ें