जोधपुर VIDEO: पूर्व मंत्री महिपाल मदेरणा पंचतत्व में विलीन, पैतृक गांव चाडी में हुआ अंतिम संस्कार

VIDEO: पूर्व मंत्री महिपाल मदेरणा पंचतत्व में विलीन, पैतृक गांव चाडी में हुआ अंतिम संस्कार

जोधपुर: पूर्व मंत्री महिपाल मदेरणा के पार्थिव देह का पैतृक गांव चांडी में अंतिम संस्कार किया गया. पूर्व मंत्री महिपाल मदेरणा को नम आंखों से अंतिम विदाई दी गई. अंतिम संस्कार में कांग्रेस और भाजपा के दिग्गज नेता पहुंचे. वहीं ओसियां के अलावा विभिन्न विधानसभा क्षेत्रों से ग्रामीण अंतिम संस्कार में पहुंचे. निवास स्थान से एंबुलेंस में शव यात्रा रवाना हुई. पुत्री दिव्या मदरेणा और रूबल मदेरणा ने एम्बुलेंस तक नम आंखों से विदाई दी. बड़ी संख्या में कांग्रेस कार्यकर्ता और किसान मौजूद रहे. 

पूर्व मंत्री महिपाल मदेरणा की अंतिम यात्रा में दूरदराज क्षेत्रों से कांग्रेस के नेता और ग्रामीणजन शामिल हुए. पुष्प चक्र चढ़ाए जाने के साथ अर्पित पुष्पांजलि अर्पित की गई. अंतिम यात्रा में अलग-अलग क्षेत्रों से आए कांग्रेस नेता शामिल हुए. अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के सदस्य वैभव गहलोत मौजूद रहे. पूर्व केंद्रीय मंत्री सी आर चौधरी भी मौजूद रहे. विधायक प्रशांत बैरवा व पब्बाराम विश्नोई भी मौजूद रहे.लोहावट विधायक किसनाराम, पूर्व विधायक जोगाराम पटेल, भैराराम सियोल, बाल संरक्षण आयोग अध्यक्ष संगीता बेनीवाल, भाजपा नेता शंभू सिंह खेतासर और समाजसेवी एसएस सांखला मौजूद रहे.

पूर्व मंत्री महिपाल मदेरणा के निधन की खबर लगते ही ओसियां विधानसभा क्षेत्र में शोक की लहर छा गई. मथानिया,रामपुरा, नेवरा व ओसिया में प्रतिष्ठान बंद रखे गए. जहां-जहां से मदेरणा की पार्थिव देह का का काफिला गुजरा ग्रामीणों ने हाथ जोड़कर प्रिय नेता को अंतिम नमन किया. परसराम मदेरणा और महिपाल मदेरणा का ग्रामीणों से अटूट रिश्ता रहा है. गांव की तकलीफ में हमेशा दोनों नेता खड़े रहते थे. पानी,बिजली व अन्य समस्याओं के समाधान में मदद किया करते थे. सहकारी और पंचायतीराज से जुड़े होने के चलते ग्रामीणों को कई तरह की उम्मीदें थी. दोनों मदेरणा ग्रामीण जनता के दिलों पर राज करते थे.

आपको बता दें कि राजस्थान के पूर्व मंत्री महिपाल मदेरणा का रविवार सुबह निधन हो गया. उन्होंने सुबह 7 बजकर 44 मिनट पर आखिरी सांस ली. वो काफी लंबे वक्त से कैंसर से जूझ रहे थे और उनका इलाज जारी था. महिपाल मदेरणा चर्चित भंवरी देवी हत्याकांड के मुख्य आरोपी भी थे.महिपाल मदेरणा का जन्म 5 मार्च 1952 को जोधपुर के फलोदी में हुआ था. उन्होंने रविवार सुबह आखिरी सांस ली. उनके निधन की खबर मिलते ही उनके सरकारी आवास के बार भीड़ जमा हो गई है. उनका अंतिम संस्कार पैतृक गांव चाडी में किया गया.

और पढ़ें