1 अप्रैल से कनेक्टिंग ट्रेन छूटने पर मिलेगा फुल रिफंड, जानिए किसको मिलेगा फायदा

FirstIndia Correspondent Published Date 2019/03/31 07:18

जयपुर। पिछले दिनों रेलमंत्री पीयूष गोयल ने एयरलाइंस की तर्ज पर रेलवे में भी यात्रियों के पीएनआर को लिंक करने की सुविधा की घोषणा की थी। जिससे यात्रियों को विरोध प्रदर्शन, आंदोलन आदि से ट्रेन लेट होने पर और कनेक्टिंग (आगे की) ट्रेन के छूट जाने पर टिकट कैंसिल कराने पर रुपए नहीं कटेंगे। यानि उन्हें टिकट कैंसिलेशन पर फुल रिफंड मिलेगा। यह सुविधा यात्रियों को 1 अप्रैल से मिलेगी। क्या है नई सुविधा, कैसे मिलेगा यात्रियों को इसका लाभ, देखिए ये खास रिपोर्ट-

ट्रेन के लेट होने पर अगली ट्रेन छूट जाने की स्थिति में यात्रियों को किराया राशि का रिफंड हो सकेगी। इसका लाभ लेने के लिए यात्रियों को रिजर्वेशन क्लर्क को पीएनआर लिंक करने का आग्रह करना होगा। हालांकि रेलवे ने इसके लिए नया फॉर्म भी जारी किया है। जो कि जल्द ही सभी स्टेशनों पर उपलब्ध हो सकेंगे। इस सुविधा के शुरू हो जाने के बाद स्टेशन और पीआरएस स्टाफ द्वारा टिकट कैंसिलेशन और रिफंड में किया जाने वाला मनमाना रवैया खत्म हो जाएगा। यानि अब स्टेशन स्टाफ चाहते हुए भी आपको टिकट कैंसिल और रिफंड देने से मना नहीं कर सकेगा। 

उदाहरण के लिए इस तरह समझें जैसे अगर आप जयपुर से पुणे जा रहे हैं, लेकिन जयपुर से सीधी ट्रेन नहीं होने के कारण आपने एक टिकट जयपुर-मुंबई का और दूसरा मुंबई-पुणे का लिया है। रेलवे इन दोनों टिकट के पीएनआर नंबर को आपस में जोड (लिंक) देगा। ऐसे में अगर ट्रेन जयपुर से चलकर मुंबई पहुंचने में लेट हो जाती है। जिसके चलते आपकी मुंबई से पुणे जाने वाली ट्रेन छूट जाती है। तो आपको मुंबई से पुणे का टिकट कैंसिल कराने पर फुल रिफंड मिलेगा। हालांकि आपको इस रिफंड के लिए पहली ट्रेन के वास्तविक आगमन या प्रस्थान समय के तीन घंटे के भीतर टिकट को रिजर्वेशन कार्यालय, बुकिंग क्लर्क या हैड टीसी कार्यालय में जमा कराना होगा। वहीं अगर आप इस दूरी को किसी अन्य ट्रेन से तय करना चाहते हैं। तो रेलवे आपको पूर्व की भांति दूसरी ट्रेन में जाने के लिए अधिकृत कर देगा। हालांकि संबंधित ट्रेन में सीट देने के लिए रेलवे बाध्य नहीं होगा। अगर स्टेशन स्टाफ ऐसा करने से मना करता है, तो आप इसकी शिकायत रेलवे के हैल्पलाइन नंबर या ट्विटर अकाउंट पर कर सकते हैं। इस सुविधा का लाभ ई-टिकट और विंडो टिकट धारकों को एसी की सभी श्रेणियों यानी फर्स्ट एसी/सैकंड/थर्ड/एक्जिक्यूटिव क्लास/चेयरकार में ऑफलाइन और ऑनलाइन मोड में दिया जाएगा।

पीएनआर लिंकिंग से जुडे नए नियम के बारे में और समझिए:
- दोनों पीएनआर में नाम सहित यात्री की डिटेल एक जैसी होनी चाहिए
- पहली ट्रेन में यात्री का गंतव्य स्टेशन और कनेक्टिंग ट्रेन का बोर्डिंग स्टेशन एक होना चाहिए
- काउंटर से लिए टिकट को कैंसिल कराने के लिए यदि स्टेशन पर कोई करंट काउंटर उपलब्ध नहीं
- तो टीडीआर तीन दिनों तक फाइल किया जा सकता है
- सीसीएम या रिफंड कार्यालय द्वारा एग्जामिनेशन के बाद पूरा पैसा वापस कर दिया जाएगा
- आईआरसीटीसी ई-टिकट के लिए, इंटरकनेक्टिंग स्टेशन पर ट्रेन के वास्तविक आगमन के 3 घंटे के भीतर टीडीआर दाखिल करना संभव
- पूरा पैसा तब मिलेगा, जब टीडीआर को पहली ट्रेन के देर से चलने के कारण कनेक्टिंग ट्रेन छूटने की स्थिति में फाइल किया जाएगा

यात्रियों को यहां यह समझना चाहिए कि आपके गंतव्य स्थल के लिए सीधी ट्रेन नहीं होने पर बीपीटी बनवाना चाहिए। रेलवे के नए नियमों में इसी टिकट पर रिफंड मिलेगा। इसके लिए यात्री को रिजर्वेशन स्लिप में यात्रा शुरू और खत्म करने वाले स्टेशनों के नाम लिखकर टिकट बनवाना चाहिए। इसमें कहां तक रिजर्वेशन के कॉलम में ट्रेन बदलने वाले स्टेशन का नाम लिखा जाता है। इस स्लिप के नीचे कॉलम में आगे की यात्रा के लिए ट्रेन व स्टेशनों की जानकारी देनी होती है। ई-टिकट के मामले में यात्री एक ट्रेन के टिकट के साथ दूसरी ट्रेन का पीएनआर लिंक करेगा तो उसे रिफंड का फायदा मिल सकेगा। वहीं जो यात्री सीधी ट्रेन नहीं मिलने पर दो टुकड़ों में टिकट बनवाते हैं, उन्हें ट्रेन छूटने पर किराये का नुकसान होता ही है। साथ ही अलग-अलग टिकट के कारण रेलवे के टेलिस्कोपिक किराये का फायदा भी नहीं मिल पाता। टेलीस्कोपिक किराए में एक ही टिकट बनने से किलोमीटर ज्यादा होते हैं, जिस पर रेलवे किराये में कुछ कमी करता है। रेलवे में ट्रेन चलने से आधे घंटे पहले तक ही टिकट रद्द होते हैं, ऐसे में ट्रेन छूटने पर रिफंड नहीं मिलता। कुलमिलाकर उम्मीद की जानी चाहिए कि नए नियमों से यात्रियों को राहत मिल सकेगी।

... संवाददाता काशीराम चौधरी की रिपोर्ट 

First India News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे!
हर पल अपडेट रहने के लिए अभी डाउनलोड करें First India News Mobile Application
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBE चैनल को विजिट करें

और पढ़ें

Most Related Stories

Stories You May be Interested in