आगे की कार्रवाई जल्द, Former Chief Secretary अलापन पर नरमी के मूड में नहीं है Central Government

आगे की कार्रवाई जल्द, Former Chief Secretary अलापन पर नरमी के मूड में नहीं है Central Government

आगे की कार्रवाई जल्द, Former Chief Secretary अलापन पर नरमी के मूड में नहीं है Central Government

नई दिल्ली: PM मोदी (PM Narendra Modi) की समीक्षा बैठक में शामिल नहीं होने वाले पूर्व मुख्य सचिव अलापन बंद्योपाध्याय (Former Chief Secretary Alapan Bandyopadhyay) को लेकर सियासी तूफान जारी है. पश्चिम बंगाल के पूर्व मुख्य सचिव अलापन बंद्योपाध्याय के जवाब पर केंद्र सरकार जल्‍द ही अगला कदम उठा सकती है. 

सरकार आगे की कार्रवाई पर कर रही है विचार:
सरकारी सूत्रों (Government Sources) की मानें तो केंद्र सरकार को पश्चिम बंगाल (West Bengal) के पूर्व मुख्य सचिव अलापन बंद्योपाध्याय का कल रात जवाब मिला और उसकी जांच की जा रही है. इस मामले से अवगत लोगों ने कहा कि सरकार आगे की कार्रवाई पर विचार कर रही है.

प्रधानमंत्री की बैठक से अलापन रहे थे गायब:
सरकारी सूत्रों के हवाले से बताया कि केंद्र को पिछले महीने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Prime Minister Narendra Modi) की बैठक से अलापन के गायब रहने के लिए आपदा प्रबंधन अधिनियम (Disaster Management Act) के तहत उन्हें दिए गए कारण बताओ नोटिस पर केंद्र को अलापन बंदोपाध्याय का जवाब मिला है और इसकी जांच की जा रही है. आगे की कार्रवाई जल्द ही तय की जाएगी.

अलापन ने दिया सरकारी नोटिस का जवाब:
दरअसल, पश्चिम बंगाल के पूर्व मुख्य सचिव अलापन बद्योपाध्याय ने गुरुवार को केंद्र सरकार के नोटिस का जवाब दे दिया और कहा था कि वह ममता बनर्जी के कहने पर चक्रवात (Cyclone Yaas) प्रभावित इलाकों का दौरा करने गए थे. उन्हें आपदा प्रबंधन अधिनियम के तहत जारी नोटिस में 28 मई को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ चक्रवात संबंधी समीक्षा बैठक से उनकी अनुपस्थिति को लेकर स्पष्टीकरण देने को कहा गया था. पश्चिम बंगाल सरकार ने भी इस मामले में अपना जवाब केंद्रीय गृह मंत्रालय (Union Home Ministry) को गुरुवार को भेज दिया, जो कि जवाब भेजने का आखिरी दिन था.

चक्रवात यास से प्रभावित इलाकों का ले रहे थे जायजा: द्विवेदी  
सूत्रों ने बताया कि बंद्योपाध्याय का स्थान लेने वाले मुख्य सचिव HK द्विवेदी (Chief Secretary HK Dwivedi) ने जवाब लिखा है. हालांकि इसकी सामग्री के बारे में जानकारी नहीं मिली है. सूत्रों ने बताया कि बंदोपाध्याय ने अपने जवाब में कहा कि वह मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के निर्देश पर वह चक्रवात यास से बुरी तरह प्रभावित दीघा का जायजा लेने की वजह से उस बैठक में शामिल नहीं हुए. दीघा पूर्व मेदिनीपुर जिले (Digha East Medinipur District) का एक लोकप्रिय समुद्री रिसॉर्ट शहर (Popular Maritime Resort Cities) है.

और पढ़ें