जीएमआर हवाई अड्डों के विस्तार और विकास पर खर्च करेगी 20,000 करोड़ रुपये  

जीएमआर हवाई अड्डों के विस्तार और विकास पर खर्च करेगी 20,000 करोड़ रुपये  

जीएमआर हवाई अड्डों के विस्तार और विकास पर खर्च करेगी 20,000 करोड़ रुपये  

हैदराबाद: जीएमआर समूह के अध्यक्ष जीएम राव ने कहा कि कंपनी मौजूदा हवाई अड्डों के विस्तार और नए एयरोड्रोम विकसित करने के लिए 20,000 करोड़ रुपये का निवेश कर रही है.

उन्होंने समूह की ताजा वार्षिक रिपोर्ट में कहा कि हवाई अड्डे का विकास और निर्माण: जीएमआर समूह ने विश्वस्तरीय हवाई अड्डा बुनियादी ढांचे के विकास के लिए मानक स्थापित किए हैं. आपकी कंपनी इस समय मौजूदा हवाई अड्डों के विस्तार और नए हवाई अड्डे विकसित करने के लिए करीब 20,000 करोड़ रुपये निवेश कर रही है. 

जीएमआर के हवाई अड्डा कारोबार में चार हवाई अड्डे परिचालन में हैं. इंदिरा गांधी अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डा (दिल्ली), राजीव गांधी अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डा (हैदराबाद), कर्नाटक में बीदर हवाई अड्डा और फिलीपींस में मैक्टन सेबू अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डा.

 

इसके अलावा गोवा के मोपा और ग्रीस में क्रेते अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे के रूप में दो ग्रीनफील्ड हवाई अड्डे निर्माणाधीन हैं. समूह ने जून 2020 में आंध्र प्रदेश में एक ग्रीनफील्ड भोगापुरम अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे के लिए समझौते पर भी हस्ताक्षर किए हैं. इस समय दिल्ली हवाई अड्डे का विस्तार किया जा रहा है. राव ने कहा कि चरण 3ए के विस्तार को अब जून 2023 तक पूरा करने की योजना है. (भाषा)

और पढ़ें