गौरी पुत्र की भक्ति में डूबी धार्मिक नगरी, दस दिवसीय गणेश महोत्सव शुरू

FirstIndia Correspondent Published Date 2018/09/13 02:36

पुष्कर(अजमेर)। गणेश चतुर्थी के मौके पर धार्मिक नगरी पुष्कर में भी विध्नहर्ता गणेश जी का जन्मोत्सव धूमधाम से मनाया जा रहा है। ब्रह्म चौक स्थित बड़े गणेशजी के मंदिर में बुधवार शाम को नयनाभिराम श्रृंगार किया गया। देर रात तक भजनों का दौर चला, जिसमें श्रद्धालुओं ने बढ़ चढ़कर हिस्सा लिया।

पुजारी मुकेश पराशर और राजेश पाराशर ने बताया कि, "गुरुवार की सुबह भगवान का वैदिक मंत्रोच्चार के साथ अभिषेक किया गया।" भक्तों का अलसुबह से मंदिरों में तांता लग गया। इस दौरान मंदिरों में विशेष सजावट की गई है। जयपुर रोड स्थित करीब 12 सौ साल पुराने और प्रसिद्ध भटबाय गणेश मंदिर में रात 2 बजे से ही श्रदालुओं ने भगवान गणेश को रिझाने के लिए विधि-विधान से पूजा अर्चना शुरू कर दी। भक्त लम्बी-लम्बी कतारों में लगकर अपनी बारी का इंतजार करते हुए नजर आये। पुजारी कुंजबिहारी शर्मा ने बताया की, "यहां भगवान गणपति की प्रतिमा स्वयं प्रकट हुई थी। यह मंदिर 24 घंटे खुला रहता है और श्रदालु अपने हाथों से गणपति को प्रिय वस्तुओ का भोग लगा सकते है।" वराह घाट स्थित 18वीं शताब्दी में इंदौर की अहिल्या बाई होल्कर की ओर से बनाये गणेश मंदिर में भी वैदिक मंत्रोच्चार के साथ अभिषेक किया गया।

प्रतिवर्ष की भांति इस वर्ष भी शाम को भटवाय गणेश मंदिर में विशाल मेला भरेगा। कस्बे में जगह जगह आज से दस दिवसीय गणेशोत्सव की शुरुआत भी हो गई। कस्बे के सभी क्षेत्रों में इस उत्सव को लेकर लोगों का उत्साह चरम पर है। ब्रह्म चौक में महिला मंडल की ओर से आयोजित कार्यक्रम में पालिकाध्यक्ष कमल पाठक ने पूजा अर्चना की। इसी तरह सभी जगह आकर्षक पांडाल बनाकर शोभायात्रा के बाद गणेशजी को विराजमान किया गया। 

First India News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे!
हर पल अपडेट रहने के लिए अभी डाउनलोड करें First India News Mobile Application
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBE चैनल को विजिट करें

और पढ़ें

Most Related Stories

Stories You May be Interested in