सीएमओ के फर्जी आईएएस अफसर बनकर ठगी करने वाले गिरोह का भंडाफोड़

FirstIndia Correspondent Published Date 2019/09/16 08:44

अजमेर: सीएमओ का फर्जी आईएएस अफसर बन कर पुलिस व सर्किट हाउस स्टाफ को मूर्ख बनाने वाले ठग और उसके गुर्गों का भंडाफोड़ आज एसपी कुंवर राष्ट्रदीप ने किया. जिन युवकों को फर्जी आईएएस ने अजमेर सर्किट हाउस भेजा था, उन्हें अजमेर के संभागीय आयुक्त कार्यालय में कम्प्यूटर ऑपरेटर के पद पर नियुक्त कर झांसा दिया गया था. 

शातिर ठग के कई मामले:
फर्जी आईएएस का कारनामा यहीं नहीं रुका, उसने भरतपुर संभागीय आयुक्त बनकर एक लिफाफा भी संभागीय आयुक्त अजमेर को कोरियर के जरिए भिजवाया. यह संभागीय आयुक्त कार्यालय अजमेर में प्राप्त भी हो गया. इसमें तीन जीपीएफ/ एसआई की पास बुक थीं. साथ ही कम्प्यूटर ऑपरेटर के पद पर नियुक्ति दिए जाने का पत्र भी था. वहीं जब मामला फर्जी भर्ती से जुड़ा होना सामने आया, तो एडीए सिटी सेंगवा ने आरपीएससी सचिव को भी मामले की जानकारी दी. इसके बाद आरपीएसी में पड़ताल शुरु हुई तो शातिर ठग के कई मामले अब सामने आ गए हैं।

मैनेजर को मामला लगा संदेहास्पद:
अजमेर एसपी कुंवर राष्ट्रदीप ने मामले का खुलासा करते हुए बताया कि शातिर ठग ने 9 सितम्बर की रात्रि 10 बजे पुलिस कंट्रोल रूम तथा सर्किट हाउस में फर्जी आईएएस अफसर एस.के. शर्मा बन कर फोन किया. एसएचओ क्लॉक्ट टावर व सर्किट हाउस मैनेजर ने उससे बात की. एसएचओ ने फर्जी आईएएस के तीनों गुर्गों 10 सितम्बर की अल सुबह रेलवे स्टेशन से पुलिस जीप में सर्किट हाउस पहुंचवाया तथा मैनेजर ने कमरे उपलब्ध करवा दिए. वहीं जब सर्किट हाउस के मैनेजर को मामला संदेहास्पद लगा तो उन्होनें आईएएस अफसर के सम्बन्ध में एडीएम सिटी से बात की तथा उसका का नम्बर भी दिया. 

सीएमओ में नियुक्ति का दिखाया रौब:
एडीएम सिटी अरविंद सेंगवा ने जब फर्जी आईएएस से बात की तो वह सीएमओ में नियुक्ति का रौब दिखाने लगा, इस पर सेंगवा ने कहा कि इस नाम का कोई अफसर सीएमओ में नहीं, तो उसने कहा कि वह अजमेर आकर उनसे मिलेगा. इस पर सेंगवा को मामले में फर्जीवाड़े का अंदेशा हो गया. उन्होनें सर्किट हाउस मैनेजर तथा पुलिस को मामले में तत्काल कार्रवाई के निर्देश दिए. मामले की पड़ताल में अजमेर पुलिस जुट गई और मुख्यय आरोपी भरतपुर निवासी सौरभ कुमार को गिरफ्तार कर लिया. राष्ट्रदीप ने यह भी बताया कि आरोपी के खिलाफ पूर्व में पांच मुकदमे भरतपुर में दर्ज हैं और यह अजमेर में भी किसी बड़ी वारदात को अंजाम देने के लिए पहुंचा था. हालांकि जो तीन व्यक्तियों को हम ने हिरासत में ले रखा है उनसे पूछताछ जारी है. 
 

First India News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे!
हर पल अपडेट रहने के लिए अभी डाउनलोड करें First India News Mobile Application
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBE चैनल को विजिट करें

और पढ़ें

Most Related Stories

Stories You May be Interested in