VIDEO: अंगदान मुहीम को लेकर टूट गई धर्म की दीवारें, हिन्दू युवक का अंग...मुस्लिम को नई जिन्दगी

VIDEO: अंगदान मुहीम को लेकर टूट गई धर्म की दीवारें, हिन्दू युवक का अंग...मुस्लिम को नई जिन्दगी

जयपुर: SMS अस्पताल में अंगदान की मुहीम ने एक बड़ी मिसाल पेश कर दी है. इस मिसाल ने धर्म, जात-पात की सभी दीवारों को लांघते हुए सिर्फ और सिर्फ मानवता का उदारहण पेश किया है. सार्दुलशहर के "देवदूत" के परिजनों ने उसके ब्रेनडेड होने के बाद उसके अंगदान कर सांप्रदायिक सौहार्द की मिसाल पेश की है. जिसके चलते 18 साल के हिंदू नौजवान की किडनी ने मुस्लिम व्यक्ति को नई जिंदगी दी है.. "देवदूत" के परिजनों को सलाम है जिन्होंने अपने बेटे के ब्रेन डेड होने के बाद भी सात दिन तक इंतजार किया जिसके चलते तीन लोगों को नई जिंदगी मिली है. इस जज्बे ने इस बात साबित कर दी है कि मानवता का कोई मजहब नहीं होता. 

VIDEO: विधानसभा अध्यक्ष सीपी जोशी की एक टिप्पणी से हैरत में पड़ा पूरा सदन, सीएम के दखल से कायम हुई शांति

दोनों किडनियों के अलावा हार्ट ने तीन लोगों को जीवनदान दिया: 
"देवदूत" की दोनों किडनियों के अलावा हार्ट ने तीन लोगों को जीवनदान दिया. "देवदूत" की एक किडनी 55 साल के एक मुस्लिम व्यक्ति को लगाई गई है जो एक रिक्शाचालक है. हमारे देश में अंगदान का प्रतिशत बेहद कम है. आलम ये है कि तमाम सरकारी और गैरसरकारी जागरूकता अभियानों के बावजूद पढ़े लिखे लोग भी अंगदान को तैयार नहीं हो रहे. ऐसे में "देवदूत" के अंगदान और हिंदू का अंग मुस्लिम को जीवन देकर नयी मिसाल पेश की है. जरूरत है हर परिवार को इससे सीख लेने की. ईश्वर किसी को ऐसा दिन न दिखाए कि उसका अपना ब्रेनडेड हो लेकिन यदि होगा तो "देवदूत" के परिवार की कहानी उसे जरूर प्रेरित करेगी. s.m.s. अस्पताल में संभवत यह पहला मौका है जब इस तरह एक दूसरे धर्म के व्यक्ति ने किडनी डोनेट कर किसी व्यक्ति की जान बचाई हो. 

14 फरवरी को वीसी के जरिये फिर कलेक्टर्स की क्लास लेंगे सीएम गहलोत

और पढ़ें