Live News »

सीएम बनने के बाद गहलोत का जोधपुर को पहला बड़ा तोहफा

सीएम बनने के बाद गहलोत का जोधपुर को पहला बड़ा तोहफा

जोधपुर। राजस्थान की राजनीति में कदम रखने के बाद से अशोक गहलोत ने सांसद,केन्द्रीय मंत्री,विधायक और मुख्यमंत्री के रूप में जब-जब भी कलम हाथ में आई तब तब राजस्थान के अन्य जिलो की तरह अपने गृह जिले जोधपुर पर हमेशा फौकस रखा। यही वजह है कि रेल लाइन विकास से लेकर पेयजल योजनाएं और जोधपुर को एज्युकेशन के मामले में राष्ट्रीय स्तर का केन्द्र बनाने में गहलोत की अनूठी भूमिका रही। उन्ही अशोक गहलोत ने तीसरी बार मुख्यमंत्री बनते ही जोधपुर को एक और तोहफे से नवाजा है। खास बात यह है कि आज ही के दिन गहलोत ने मुख्यमंत्री पद की एक माह पूर्व शपथ ली थी। जोधपुर में 200 करोड रूपए की लागत से सैन्य उपकरणों की एक यूनिट को हरीझंडी दे दी है।

अशोक गहलोत को मुख्यमंत्री बने हुए आज बराबर एक महीना हो गया है। इस दौरान कई चुनौतियों के बीच भी मुख्यमंत्री अशोक गहलोत को अपना घर यानि गृह जिला जोधपुर याद रहा। इस क्षेत्र के बेरोजगार युवक याद रहे और खासतौर पर उस पाली रोड पर 200 करोड की उस यूनिट को हरीझंडी दी है जिसे कथित रूप से भाजपा की रोड कहा जाता है। लेकिन गहलोत ने रोजगार और विकास दोनो को ध्यान में रखकर यह कदम उठाया है। 

प्रदेश के मुख्यमंत्री बनने के बाद अशोक गहलोत ने जोधपुर को पहला बड़ा तोहफा दे दिया है। रक्षा क्षेत्र में देश की सबसे प्रतिष्ठित सार्वजनिक क्षेत्र की कंपनी भारत इलेक्ट्रॉनिक्स लिमिटेड यानि बेल को कांकाणी में मेंटेनेंस, रिपेयर व ओवरहाल यूनिट स्थापित करने के लिए करीब 6 एकड़ जमीन आवंटित की गई है। इस प्रोजेक्ट में 200 करोड़ रुपए से ज्यादा का निवेश किया जाएगा। शुरुआत में बेल 50 करोड़ का निवेश कर रही हैं। इस यूनिट से जोधपुर में निवेश के आसार बढ़ने के साथ ही करीब 400 लोगों को रोजगार मिलेगा। इसके साथ ही जोधपुर में रक्षा क्षेत्र की अन्य इकाइयों की स्थापना का मार्ग प्रशस्त हो गया है। बेल की ओर से बताया गया है कि जमीन लेने के लिए कुछ पैसे जमा करवा दिए हैं और जल्दी ही इस पर काम शुरू होने वाला है। 

रीको के एमडी गौरव गोयल ने बताया कि सीएम के निर्देश पर बीईएल के लिए जमीन की लोकेशन बदली गई है। इससे रोजगार के अवसर भी बढ़ेंगे और जोधपुर में निवेश भी होगा। बेल ने 2 साल पहले जोधपुर में इकाई स्थापित करने के लिए राज्य सरकार से संपर्क किया था। रीको ने बेल को कांकाणी में प्रस्तावित औद्योगिक क्षेत्र में 6 एकड़ जमीन आवंटित कर दी। बेल ने इसकी राशि भी रीको में जमा करवा दी, लेकिन जमीन को लेकर न्यायालय में विवाद लंबित होने के कारण बेल को यह जमीन नहीं मिल पाई। बाद में तत्कालीन भाजपा सरकार और रीको ने इस पर ध्यान ही नहीं दिया। पिछले माह राजस्थान में नई सरकार के गठन के पश्चात बेल ने रीको को एक पत्र भेजकर 15 दिसंबर तक की समय सीमा तय कर जमीन आवंटन की मांग की। 

बेल ने साफ कहा कि जमीन आवंटन नहीं होने पर वह अपनी इकाई को किसी अन्य राज्य में ले जाएगी। इसकी जानकारी सीएम अशोक गहलोत को मिलते ही उन्होंने रीको के प्रबंध निदेशक गौरव गोयल को तुरंत जोधपुर भेजा और प्राथमिकता के आधार पर बेल को जमीन आवंटन की प्रक्रिया 15 दिसंबर से पहले पूरी करने को कहा। गोयल ने जोधपुर का दौरा कर यहां कई जगह जमीन तलाश की और आखिरकार कांकाणी में प्रस्तावित औद्योगिक क्षेत्र में छह एकड़ जमीन बेल को आवंटित करवा दी। स्थानीय स्तर पर कांकाणी क्षेत्र को विकसित करने में जुटे रिको के क्षेत्रीय प्रबंधक विनित गुप्ता ने बताया कि शुरूआती दौर में 400 और बाद में लगभग 1000 लोगो को रोजगार मिल सकेगा।
गौरतलब है कि बेल की जोधपुर में प्रस्तावित इकाई में एयरफोर्स व सेना के रक्षा उपकरणों की मेंटेनेंस व रिपेयरिंग की जाएगी। अभी इन उपकरणों को देखभाल और रिपेयर के लिए बेंगलुरु भेजना पड़ता है और इसमें काफी समय लगता है। जोधपुर में आकाश मिसाइल सिस्टम, टैंक के राडार, बॉर्डर के राडार, नाइट विजन कैमरे सहित कई उपकरणों की मरम्मत हो सकेगी। जोधपुर सहित पूरे पश्चिमी क्षेत्र के एयरफोर्स व आर्मी के उपकरणों की मरम्मत यहीं जाएगी। 

यह यूनिट लगने के बाद रक्षा क्षेत्र से जुड़ी अन्य कई कंपनियों के आने की संभावना जताई जा रही है। सामरिक नजरिए से जोधपुर का बहुत महत्व है। भारतीय सेना व वायुसेना का यहां पर काफी जमावड़ा रहता है। साथ ही पोकरण में हमेशा व्यापक पैमाने पर अभ्यास भी चलते रहते हैं। इसके अलावा नए हथियारों का परीक्षण भी यहीं पर किया जाता है। ऐसे में माना जा रहा है कि रक्षा क्षेत्र में सेना व वायुसेना को सेवा प्रदान करने वाली कई निजी कंपनियां भी जोधपुर की राह पकड़ेगी।
राजीव गौड,जोधपुर

और पढ़ें

Most Related Stories

पूर्व हॉकी कप्तान और तीन बार ओलंपिक गोल्ड मेडलिस्ट रहे हॉकी लीजेंड बलबीर सिंह सीनियर नहीं रहे

पूर्व हॉकी कप्तान और तीन बार ओलंपिक गोल्ड मेडलिस्ट रहे हॉकी लीजेंड बलबीर सिंह सीनियर नहीं रहे

चंडीगढ़: पूर्व हॉकी कप्तान और तीन बार ओलंपिक गोल्ड मेडलिस्ट रहे 96 वर्षीय बलबीर सिंह सीनियर का निधन हो गया. सुबह 6 बजकर 17 मिनट पर उनका देहांत हो गया. 96 साल के थे. दो सप्ताह से अधिक समय तक स्वास्थ्य संबंधी समस्याओं से जूझने के बाद सोमवार को चंडीगढ़ के एक अस्पताल में उन्होंने अंतिम सांस ली. 

Coronavirus: भारत कोरोन संक्रमित देशों की सूची में टॉप-10 में शामिल, लगातार चौथे दिन सबसे ज्यादा बढोत्तरी 

उनके दिमाग में खून का थक्का जम गया था:
बलबीर सिंह सीनियर 18 मई से अर्ध चेतन अवस्था में थे और उनके दिमाग में खून का थक्का जम गया था. इस बार वह शुरू से ही वेंटिलेटर पर रहे और इस दौरान उन्हें तीन बार हार्ट अटैक भी आया. उन्हें फेफड़ों में निमोनिया और तेज बुखार के बाद अस्पताल में भर्ती कराया गया था. इस बार उनकी तबीयत लगातार बिगड़ती रही और सोमवार को उन्होंने इस दुनिया को अलविदा कह दिया. देश के महानतम खिलाड़ियों में से एक बलबीर सीनियर अंतरराष्ट्रीय ओलंपिक समिति द्वारा चुने गए आधुनिक ओलंपिक इतिहास के 16 महानतम ओलंपियनों में शामिल थे.

आज से शुरू हुआ नौतपा, आसमान से जमकर बरसेगी आग 

1956 के ओलंपिक में वह भारतीय हॉकी टीम के कप्तान बने थे:
बलबीर सिंह सीनियर लंदन ओलंपिक 1948, हेलसिंकी ओलंपिक 1952 और मेलबर्न ओलंपिक 1956 में गोल्ड मेडल जीतने वाली भारतीय टीम का हिस्सा रहे हैं. 1956 के ओलंपिक में वह भारतीय हॉकी टीम के कप्तान बने थे. इसके अलावा वह वर्ल्ड कप 1971 में ब्रॉन्ज और वर्ल्ड कप 1975 में गोल्ड जीतने वाली भारतीय हॉकी टीम के मुख्य कोच थे. भारत सरकार ने उन्हें 1957 में पद्मश्री से सम्मानित किया था.


 

आटे में मिट्टी डालने से गुस्साई मां ने दो बेटियों का गला रेता, खुद की गर्दन पर भी चाकू से किए वार

आटे में मिट्टी डालने से गुस्साई मां ने दो बेटियों का गला रेता, खुद की गर्दन पर भी चाकू से किए वार

हिसार(हरियाणा): गांव खेदड़ के पाबड़ा मार्ग पर झुग्गियों में रविवार को एक दिलहलाने वाला मामला सामने आया है. दरअसल आटे में मिट्टी मिलाने से एक मां ने अपना आपा खो दिया और दो मामूस बेटियों का गला रेतकर हत्या कर दी. उसके बाद उसने खुद का भी गला रेतकर आत्महत्या करने का प्रयास किया. जानकारी मिलने पर मौके पर पहुंची पुलिस ने दोनों बच्चियों के शव और चाकू को कब्जे में लेकर कार्रवाई शुरू कर दी है. पुलिस ने महिला के पति के बयान पर केस दर्ज कर लिया है. 

जलती गर्मी में लू से बचने के लिए अपनाएं ये टिप्स  

सड़क निर्माण कार्य में मजदूरी करता है अहमद:
राजस्थान के जिला हनुमानगढ़ के गांव भिराण निवासी अहमद अपनी पत्नी चारयां के साथ सड़क निर्माण कार्य में मजदूरी करता है. अहमद कुछ दिनों से अन्य परिचितों के साथ गांव खेदड़ में पाबड़ा मार्ग पर बनीं झुग्गियों में रह रहा है. आसपास के लोगों के अनुसार अमहद सुबह काम पर गया तो उसके कुछ देर बाद ही उसकी पत्नी चारयां खाना बनाने में जुट गई. जब वह आटा गूंद रही थी तो बेटी  ममता (3) और किरन (1) ने आटे में मिट्टी डाल दी. 

खुद की गर्दन पर भी चाकू से वार किए:
इससे नाराज चारयां ने पहले तो दोनों बच्चियों की जमकर पिटाई की और उसके बाद चाकू से गला रेतकर दोनों की हत्या कर दी. बच्चियों की हत्या के बाद चारयां ने खुद की गर्दन पर भी चाकू से वार किए, जिससे वह भी गंभीर रूप से घायल हो गई. महिला को हिसार के सरकारी अस्पताल में भर्ती करवाया गया है. 

Coronavirus: भारत कोरोन संक्रमित देशों की सूची में टॉप-10 में शामिल, लगातार चौथे दिन सबसे ज्यादा बढोत्तरी 

सदमे में है पिता अहमद:
बेटियों की हत्या की जानकारी मिलने के बाद ही उसका पति अहमद गहरे सदमे में है. वह केवल एक ही बात कह रहा है कि उसका पूरा परिवार बर्बाद हो गया.  पति के बयान पर उसकी पत्नी चारयां के खिलाफ विभिन्न धाराओं के तहत मामला दर्ज कर लिया है. 

जलती गर्मी में लू से बचने के लिए अपनाएं ये टिप्स

जलती गर्मी में लू से बचने के लिए अपनाएं ये टिप्स

जयपुर: गर्मी बढ़ने के साथ ही लोगों के पसीन छूटने लगे हैं. इस भयंकर गर्मी में लोगों के लिए खुद को हेल्दी बनाए रखना पहले से ज़्यादा जरूरी हो गया है. ऐसे में लोगों को लू के प्रति जागरूक होने की जरूरत है. लू का अगर समय रहते उपचार नहीं किया गया तो यह जानलेवा हो सकता है. लू लगने से सिरदर्द, थकान, चक्कर, शरीर में पानी की कमी और बुखार होने लगता है. व्यक्ति को भूख कम लगती है. इनके लक्षणों में उल्टी और बहुत अधिक पसीना भी शामिल हैं. ऐसे में आज हम आपको लू से बचने के कुछ उपाय बता रहे हैं...

आज से शुरू हुआ नौतपा, आसमान से जमकर बरसेगी आग 

-  शरीर को पूरी तरह से ढंक कर ही घर से बाहर निकलें और अपनी आंखों को भी धूप से बचाएं. 

- ठंडी जगह से निकलकर अचानक धूप में ना जाएं.

- अधिक से अधिक पानी पिएं और पानी से भरपूर फलों का सेवन करें.

- रोज़ाना खाने में कच्चे प्याज़ का इस्तेमाल करें अगर सफ़ेद प्याज़ का इस्तेमाल करें तो और बढ़िया होगा. 

- अधिक मात्रा में तरल पदार्थ पिएं.

- इसके अलावा सौंफ के बीज भी बड़े काम के साबित हो सकते हैं क्योंकि इसमें ठंडक देने वाले गुण होते हैं.

- नींबू नमक पानी, नारियल पानी आदि के जरिए पानी की पूर्ति करें.

- कटे हुए फल व सब्जियों के सेवन से बचे.

- कच्चे आम को उबालने की अपेक्षा उसे आग में भुनें और ठंडा होने पर उसका गूदा निकालकर उसमें जीरा, धनिया, चीनी, नमक, कालीमिर्च और पानी मिलाकर घोल बना लें. लू लगे व्यक्ति को पना का सेवन उसके ठीक होने तक करवाते रहें. 

SHO की आत्महत्या का मामला पहुंचा हाईकोर्ट, CBI जांच की मांग लेकर जनहित याचिका दायर 

Coronavirus: भारत कोरोन संक्रमित देशों की सूची में टॉप-10 में शामिल, लगातार चौथे दिन सबसे ज्यादा बढोत्तरी

Coronavirus: भारत कोरोन संक्रमित देशों की सूची में टॉप-10 में शामिल, लगातार चौथे दिन सबसे ज्यादा बढोत्तरी

नई दिल्ली: देश में कोरोना वायरस के मामलों में लगातार इजाफा हो रहा है. देश में जारी स्वास्थ्य मंत्रालय के ताजा आंकड़ों के अनुसार कोरोना संक्रमण के अब तक 138,845 मामले सामने आ चुके  हैं. इसी के साथ भारत सबसे ज्यादा संक्रमित देशों की सूची में नंबर 10 पर पहुंच गया है. 

Rajasthan Corona Updates: पिछले 12 घंटे में 72 पॉजिटिव केस आए सामने, राजस्थान में फिलहाल 3081 कोरोना के एक्टिव केस 

लगातार चौथे दिन सबसे ज्यादा बढोत्तरी: 
पिछले 24 घंटों में देश में संक्रमित मरीजों के 6977 नए मामले सामने आए हैं. यह लगातार चौथे दिन सबसे ज्यादा बढोत्तरी है. वहीं इसके साथ ही पिछले 24 घंटे में 154 लोगों ने दम भी तोड़ा है. ऐसे में अब मृतकों की संख्या भी बढ़कर 4021 पहुंच गई है. वहीं राहत वाली खबर यह है कि 57 हजार 721 लोग ठीक भी हो चुके हैं. 

भारत दुनिया में कोरोन संक्रमित देशों की सूची में टॉप-10 में शामिल:
बता दें कि देश में कोरोना वायरस का पहला मामला 30 जनवरी को सामने आया था. तब से अब तक करीब 138,845 लोग कोरोना से संक्रमित हो चुके हैं. देश में बढ़ते कोरोना संक्रमण के चलते भारत दुनिया में कोरोन संक्रमित देशों की सूची में टॉप-10 में शामिल हो गया है. इस सूची में अमेरिका टॉप पर है. इसके बाद ब्राजील, रूस, स्पेन, ब्रिटेन, इटली, फ्रांस, जर्मनी और तुर्की हैं.

आज से शुरू हुआ नौतपा, आसमान से जमकर बरसेगी आग 

देश में लॉकडाउन लागू किए आज दो महीने पूरे:
वहीं देश में लॉकडाउन लागू किए आज दो महीने पूरे हो गए हैं. पीएम मोदी ने 24 मार्च को पहले लॉकडाउन की घोषणा की थी, जो कि 25 मार्च से लागू हुआ था. फिलहाल लॉकडाउन का चौथा चरण कुछ रियायतों के साथ 31 मई तक जारी रहेगी. 


 

पहली बार देश में घरों में हुई ईद की नमाज, जयपुर में कई परिवारों ने की एक साथ नमाज अदा

पहली बार देश में घरों में हुई ईद की नमाज, जयपुर में कई परिवारों ने की एक साथ नमाज अदा

जयपुर: राजधानी सहित प्रदेशभर में आज ईदुलफितर की नमाज अदा की गयी. लॉकडाउन के चलते केन्द्र और राज्य सरकार की ओर से जारी गाइडलाइन के अनुसार मस्जिदों और ईदगाह में नमाज की इजाजत नहीं दी गयी है. ऐसे में प्रदेश में भी मुस्लिम समाज के लोगों ने अपने अपने घरों में ईद की नमाज अदा की. 

300 साल में पहली बार ईद पर नहीं हुई सामूहिक नमाज, ईदगाह और जामा मस्जिद में 5-5 नमाजियों ने अदा की नमाज 

ईद की नमाज में बच्चों से लेकर बुजुर्ग तक शामिल हुए: 
पहली बार घरों में हो रही ईद की नमाज में बच्चों से लेकर बुजुर्ग तक शामिल हुए. लॉकडाउन के चलते इस बार घरों में भी रंग रोगन नहीं करवाए गये और ना नए कपड़ों, जूतों और अन्य सामान की खरीदारी हुई. लेकिन तमाम दिक्कतों के बीच ईद-उल-फितर पर सेवइयों की मिठास के साथ ही दस्तरख्वान पर परोसे जाने वाले व्यंजनों की फेहरिस्त जरूर तैयार हो गई है.   

Rajasthan Corona Updates: पिछले 12 घंटे में 72 पॉजिटिव केस आए सामने, राजस्थान में फिलहाल 3081 कोरोना के एक्टिव केस

Rajasthan Corona Updates: पिछले 12 घंटे में 72 पॉजिटिव केस आए सामने, राजस्थान में फिलहाल 3081 कोरोना के एक्टिव केस

Rajasthan Corona Updates: पिछले 12 घंटे में 72 पॉजिटिव केस आए सामने, राजस्थान में फिलहाल 3081 कोरोना के एक्टिव केस

जयपुर: राजस्थान में कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या में लगातार इजाफा होता ही जा रहा है. पिछले 12 घंटे में 72 नए पॉजिटिव मामले सामने आए है. इसमें सर्वाधिक 25 केस अकेले पाली जिले में सामने आए हैं. इसके अलावा अलवर में 5, धौलपुर में 1, जयपुर में 11, कोटा में 7, सवाईमाधोपुर में 1 और सीकर में 22 पॉजिटिव मरीज मिले हैं. ऐसे में राजस्थान में अब पॉजिटिव मरीजों का ग्राफ बढ़कर 7100 पहुंच गया है. वहीं अब तक इस वायरस की चपेट में आने से 163 लोगों ने दम तोड़ दिया है. 

आज से शुरू हुआ नौतपा, आसमान से जमकर बरसेगी आग 

राजस्थान में फिलहाल 3081 कोरोना के एक्टिव केस: 
दूसरी ओर राहत की खबर यह है कि प्रदेश में 3856 मरीज पॉजिटिव से नेगेटिव हो गए है. ऐसे में राजस्थान में फिलहाल 3081 कोरोना के एक्टिव केस है. इनमें से 1701 प्रवासी राजस्थानी शामिल है. राजस्थान में कोरोना से ठीक होने वालों की दर एक महीने में दोगुने से ज्यादा हो गई है. 

300 साल में पहली बार ईद पर नहीं हुई सामूहिक नमाज, ईदगाह और जामा मस्जिद में 5-5 नमाजियों ने अदा की नमाज 

रविवार को 286 नए रोगी मिले:
वहीं इससे पहले प्रदेश में रविवार को 286 नए रोगी मिले, जबकि जयपुर, पाली और चित्तौड़गढ़ में एक-एक मौत भी हुई. जयपुर के शहरी इलाकों के अलावा 13 गांवों में एकसाथ संक्रमण फैला. यहां सेंट्रल जेल और जिला जेल में क्रमश: 10 व 13 सहित 78 नए पॉजिटिव मिले. जोधपुर में मिले 35 नए रोगियों में रविवार को ही जन्मी बच्ची भी शामिल है. इसके अलावा राजसमंद में 24, उदयपुर में 21, अजमेर में 22, अलवर में 1, बाड़मेर में 6, भरतपुर में 6, भीलवाड़ा में 6, बीकानेर में 3, दौसा में 2, धौलपुर में 3, डूंगरपुर में 4, जैसलमेर में 4, झुंझुनूं में 3, कोटा में 6, नागौर में 47, पाली में 7, सीकर में 3, सिरोही में 3 नए रोगी मिले. इनके अलावा दो रोगी बाहरी राज्यों के हैं. 

आज से शुरू हुआ नौतपा, आसमान से जमकर बरसेगी आग

 आज से शुरू हुआ नौतपा, आसमान से जमकर बरसेगी आग

जयपुर: हिंदू कैलेंडर के अनुसार हर साल ज्येष्ठ महीने में सूर्य रोहिणी नक्षत्र में आ जाता है. जिससे गर्मी बढ़ने लगती है.  इस बार ज्येष्ठ महीने के शुक्लपक्ष की तृतीया तिथि यानी 25 मई को सूर्य कृतिका से रोहिणी नक्षत्र में प्रवेश करेगा और 8 जून तक इसी नक्षत्र में रहेगा. सूर्य के नक्षत्र बदलते ही नौतपा शुरू हो जाएगा. यानी 9 दिनों तक तेज गर्मी रहेगी. इसकी वजह यह है कि इस दौरान सूर्य की लंबवत किरणें धरती पर पड़ती हैं. लेकिन इस बार शुक्र तारा अस्त होने से इसका प्रभाव कम रहेगा. 

300 साल में पहली बार ईद पर नहीं हुई सामूहिक नमाज, ईदगाह और जामा मस्जिद में 5-5 नमाजियों ने अदा की नमाज 

नौतपा के दौरान महिलाएं हाथ पैरों में मेहंदी लगाती हैं:
परंरपरा के अनुसार नौतपा के दौरान महिलाएं हाथ पैरों में मेहंदी लगाती हैं. क्योंकि मेहंदी की तासीर ठंडी होने से तेज गर्मी से राहत मिलती है. इन दिनों में पानी खूब पिया जाता है और जल दान भी किया जाता है ताकि पानी की कमी से लोग बीमार न हो. इस तेज गर्मी से बचने के लिए दही, मक्खन और दूध का उपयोग ज्यादा किया जाता है. इसके साथ ही नारियल पानी और ठंडक देने वाली दूसरी और भी चीजें खाई जाती हैं. 

25 मई से 2 जून तक रहेगा नौतपा: 
25 मई को सुबह करीब 8.10 पर सूर्यदेव रोहिणी नक्षत्र में प्रवेश करेंगे. सूर्य जब रोहिणी नक्षत्र में होकर वृष राशि के 10 से 20 अंश तक रहता है तब नौतपा होता है. इस नक्षत्र में सूर्य करीब 15 दिनों तक रहेगा. लेकिन शुरुआती 9 दिनों में गर्मी बहुत बढ़ जाती है.  इसलिए इन 9 दिनों के समय को ही नौतपा कहा जाता है. ये समय 25 मई से 2 जून तक रहेगा. इसके अलावा ज्येष्ठ महीने के शुक्लपक्ष में चंद्रमा जब आर्द्रा से स्वाती तक 10 नक्षत्रों में रहता हो तो नौतपा होता है. रोहिणी के दौरान बारिश हो जाती है तो इसे रोहिणी नक्षत्र का गलना भी कहा जाता है. 

आखिरी दो दिन तेज हवा-आंधी चलने व बारिश होने के भी योग:
इस बार नौतपा के दौरान 31 मई को शुक्र ग्रह वक्री होकर अपनी ही राशि में अस्त हो जाएगा और सूर्य के साथ रहेगा. रोहिणी नक्षत्र का का स्वामी ग्रह चंद्रमा है. सूर्य के साथ शुक्र भी वृषभ राशि में रहेगा. शुक्र रस प्रधान ग्रह है, इसलिए वह गर्मी से राहत भी दिलाएगा. इसलिए देश के कुछ हिस्सों में बूंदाबांदी और कुछ जगहों पर तेज हवा और आंधी-तूफान के साथ बारीश होने की संभावना ज्यादा है. नौतपा के आखिरी दो दिन तेज हवा-आंधी चलने व बारिश होने के भी योग बन रहे हैं. वराहमिहिर के बृहत्संहिता ग्रंथ में ने बताया है कि ग्रहों के अस्त होने से मौसम में बदलाव होता है. 

SHO की आत्महत्या का मामला पहुंचा हाईकोर्ट, CBI जांच की मांग लेकर जनहित याचिका दायर 

देश के रेगिस्तानी और पर्वतीय इलाकों में ज्यादा बारीश की संभावना:
इस साल संवत्सर के राजा बुध है और रोहिणी का निवास संधि में है. इससे बारीश तो समय पर आ जाएगी लेकिन कहीं पर ज्यादा तो कहीं पर कम बारिश हो सकती है. इस बार देश के रेगिस्तानी और पर्वतीय इलाकों में ज्यादा बारीश हो सकती है. बारीश के कारण अनाज और धान की पैदावार अच्छी रहेगी. धान्य, दूध व पेय पदार्थों में तेजी रहेगी. जौ, गेहूं, राई, सरसों, चना, बाजरा, मूंग की पैदावार आशानुकूल होगी. 

300 साल में पहली बार ईद पर नहीं हुई सामूहिक नमाज, ईदगाह और जामा मस्जिद में 5-5 नमाजियों ने अदा की नमाज

300 साल में पहली बार ईद पर नहीं हुई सामूहिक नमाज, ईदगाह और जामा मस्जिद में 5-5 नमाजियों ने अदा की नमाज

जयपुर: कोरोना महामारी के बीच लॉकडाउन की बंदिशों के साथ आज जयपुर सहित प्रदेशभर में ईदुल फितर ईद की नमाज अदा की गयी. जयपुर की स्थापना के बाद ये पहला मौका है जब इस गुलाबीशहर में ईद की सामुहिक नमाज नही हुई. दिल्ली रोड़ स्थित ईदगाह में चीफ काजी और जौहरी बाजार स्थित जामा मस्जिद में मौलना मुफती अमजद अली ने ईद की नमाज अदा करायी. 

SHO की आत्महत्या का मामला पहुंचा हाईकोर्ट, CBI जांच की मांग लेकर जनहित याचिका दायर 

5-5 नमाजियों को नमाज की अनुमति दी गयी थी: 
दोनों ही जगहों पर प्रशासन की ओर से केवल 5—5 नमाजियों को नमाज की अनुमति दी गयी थी. प्रशासन की गुजारिश पर ईदगाह में सुबह 6 बजे तो वही जामा मस्जिद में सुबह सवा 6 बजे नमाज अदा करायी गयी. नमाज के बाद मुल्क और मुल्म की अवाम को कोरोना से निजात के लिए खास दुआ भी की गयी. वहीं नमाज के नमाजियों ने मौके पर मौजुद पुलिसकर्मियों को ईद की मुबारकबाद देते हुए उनके जज्बे लिए सलाम किया.

आज शुरू हुईं घरेलू उड़ान सेवा, इन दो राज्यों को छोड़कर पूरे देश में संचालन बहाल 

Open Covid-19