Live News »

VIDEO: सियासी नियुक्तियों के लिये तैयार गहलोत सरकार, चुनाव हार चुके चर्चित नेताओं पर गंभीरता से विचार
VIDEO: सियासी नियुक्तियों के लिये तैयार गहलोत सरकार, चुनाव हार चुके चर्चित नेताओं पर गंभीरता से विचार

जयपुर: अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी की भारत बचाओ रैली के बाद राजस्थान की कांग्रेस की सियासत में तेजी से नये फैसले सामने आ सकते हैं. 25 दिसम्बर तक प्रदेश और जिला स्तर पर सियासी नियुक्तियों को अमलीजामा पहनाया जा सकता है. पंचायत चुनावों की आचार संहिता से पहले यह काम होना है. वहीं सरकार की वर्षगांठ पर सौगातों की बारिश हो सकती है. बड़ी खबर यह मिल रही है कि चुनाव हार चुके और विधायकों को भी सियासी नियुक्ति से नवाजा जा सकता है. खास रिपोर्ट:

दिल्ली की कांग्रेस रैली की सफलता से आलाकमान उत्साहित:
दिल्ली की कांग्रेस रैली की सफलता से आलाकमान ही उत्साहित नहीं है, बल्कि राज्य की कांग्रेस भी जोश पर सवार है. कारण साफ है रैली को सफल बनाने में राजस्थान की कांग्रेस का योगदान जोरदार रहा है. राजस्थान ने संख्याबल में हरियाणा और दिल्ली को कड़ी टक्कर दी. रैली की सफलता के बाद कांग्रेसियों की नजरें टिकी है मुख्यमंत्री अशोक गहलोत पर. रैली को सफल बनाने में योगदान देने वाले कांग्रेसियों को किस सियासी नियुक्ति से नवाजा जाता है, इसका बेसब्री से इंतजार है. बड़ी सियासी नियुक्तियां तो कम ही होगी लेकिन जिला स्तर पर सैंकड़ो की तादाद में नियुक्तियां की जानी है. जिला कांग्रेस कमेटी से नाम मांगे गये थे वो काम पूरा हो चुका है. कांग्रेस विधायकों को इसमें तवज्जो दिये जाने के आसार है. कैसे अशोक गहलोत इस कार्य को करेंगे, यह खास रहने वाला है. सीएम को उनकी 1 साल की वर्षगांठ का शायद इंतजार था. 

अशोक गहलोत किस तरह करेंगे नियुक्तियां ! 
—उन्हें नियुक्तियां देंगे जो समर्पित कार्यकर्ता रहे है 
—जिनकी कांग्रेस पार्टी के प्रति निष्ठा रही है 
—गुटबाजी से परे जिन्होंने कांग्रेस की सच्ची सेवा की
—पुराने और कर्मठ युवा चेहरों को प्राथमिकता मिलेगी
—चुनावों में सफलतापूर्वक टास्क निभाने वाले चेहरों को वरियता मिलेगी
—जिन्हें चुनावों में टिकट नहीं मिला था उन चेहरों को पुरस्कार मिल सकता है 

किसान आयोग, सूचना आयोग, उपभोक्ता आयोग, हाउसिंग बोर्ड, आर टी डी सी, बीज निगम, एससी आयोग, एस टी आयोग, महिला आयोग, हज हाउस, देवनारायण बोर्ड, खादी आयोग, देवस्थान बोर्ड, खादी बोर्ड, अधिनस्थ सेवा चयन बोर्ड, सिंधी अकादमी, केशकला बोर्ड, हिन्दी अकादमी, यूथ बोर्ड, क्रीडा परिषद, परशुराम बोर्ड, माटी कला बोर्ड समेत विभिन्न यू आ टी में नियुक्तियां होनी है. इनमें खासतौर पर आयोगों में जिला स्तर पर नियुक्तियां होनी है, लेकिन सबसे बड़ा सवाल है उन चेहरों को चांस मिलेगा जिन्हें चुनाव में पराजय मिली थी.

सियासी नियुक्तियों के पीछ बड़ा फेक्टर:
—सवाल अभी शेष है कि चुनावों में पराजित नेताओं को क्या नियुक्ति मिलेगी
—लोकसभा चुनाव में 25बड़े चेहरे चुनाव हार गये थे
—इन्होंने मोदी लहर को बड़ा कारण बताया था
—मोदी लहर के तर्क को खारिज भी नहीं किया जा सकता
—पूरे देश में ही बड़े बड़े नेता चुनाव हार गये थे, अमेठी से राहुल गांधी तक परास्त हो गये थे
—विधानसभा चुनाव में कुछ दिग्गज बेहद कम अंतर से चुनाव हार गये थे 
—अविनाश पांडे ने इस मसले पर मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और सचिन पायलट से गंभीरता से चर्चा की है
—करीब 1 दर्जन ऐसे नाम है जो चुनाव भले ही हार गये थे लेकिन यह बड़े चेहरे कहे जाते है 
—भंवर जितेंद्र सिंह, नमोनारायण मीना, रघुवीर सिंह मीना, मानवेंद्र सिंह, बद्री जाखड़, सुभाष महरिया, 
—गोपाल सिंह शेखावत, भरतराम मेघवाल, ताराचंद भगौरा, ज्योति खंडेलवाल ऐसे ही चर्चित नाम है जो लोकसभा चुनाव हार गये थे. 
—कमोबेश यहीं हाल विधानसभा चुनाव हारे कई शीर्ष नेताओं का भी है 
—इनमें प्रमुख है गिरिजा व्यास, घनश्याम तिवाड़ी, सुरेन्द्र जाडावत, 
—राजकुमार रिणवां, सुरेन्द्र गोयल, प्रशांत शर्मा, अर्चना शर्मा सरीखे चर्चित नाम

बसपा विधायकों को सत्ता में भागीदारी की तलाश:
अब बात कर लेते है बसपा के उन विधायकों की जो कांग्रेस में आ चुके है, लेकिन उन्हें तलाश है सत्ता में भागीदारी की. चर्चा ये है कि इनमें से कुछ को बोर्ड और आयोग में पद दिया जा सकता है. जोगेंद्र सिंह अवाना को देवनारायण अथवा डांग विकास बोर्ड, वाजिब अली को मेवात विकास बोर्ड का चैयरमैन बनाया जा सकता है इस तरह की अटकलें है. कांग्रेस को समर्थन कर रहे निर्दलीय विधायकों को भी तरजीह मिल सकती है. नये साल के आगमन से पहले सियासी नियुक्तियां चाह रहे नेताओं के चेहरे पर कितनी मुस्कान खिलेगी यह तो सियासी जादूगर के फैसलों पर निर्भर करेगा, किस तरह 8सिविल लाइंस और पीसीसी के बीच समन्वय आधारित फैसले होंगे. 

... संवाददाता योगेश शर्मा की रिपोर्ट 

First India News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे!
हर पल अपडेट रहने के लिए अभी डाउनलोड करें First India News Mobile Application
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBE चैनल को विजिट करें
और पढ़ें

Stories You May be Interested in