कोरोना मरीज के लिए गहलोत सरकार करेगी ट्रांसपोर्टेशन की व्यवस्था, निर्देश जारी

कोरोना मरीज के लिए गहलोत सरकार करेगी ट्रांसपोर्टेशन की व्यवस्था, निर्देश जारी

कोरोना मरीज के लिए गहलोत सरकार करेगी ट्रांसपोर्टेशन की व्यवस्था, निर्देश जारी

जयपुर: प्रदेश में कोरोना मरीजों की सुविधाओं में विस्तार पर गहलोत सरकार लगातार प्रयासरत है. इसके तहत चिकित्सा विभाग ने एक तरफ जहां राज्य स्तरीय कोविड सेन्टर आरयूएचएस में भर्ती कोरोना मरीजों को होम आईसोलेशन या केयर सेन्टर में भेजने के लिए ट्रांसपोर्टेशन की समुचित के निर्देश दिए है, साथ ही गांवों तथा कस्बों में भी कोरोना संक्रमण की रोकथाम के लिए प्रभावी रणनीति बनाकर कार्यवाही करने के संबंध में अलग से आदेश जारी किए गए है. 

ट्रांसपोर्टेशन की भी समुचित आवश्यक व्यवस्था सुनिश्चित की जाएगी: 
चिकित्सा विभाग की ओर से जारी आदेश के मुताबिक प्रदेश के राज्य स्तरीय कोविड अस्पताल आरयूएचएस में भर्ती क्रिटिकल मरीज इलाज के बाद या कोरोना लक्षण बहुत कम रह जाने व डिस्चार्ज योग्य पाए जाने पर मरीजों को होम आईसोलेशन या कोविड केयर सेन्टर में भर्ती करने हेतु ट्रांसपोर्टेशन की भी समुचित आवश्यक व्यवस्था सुनिश्चित की जाएगी. साथ ही अन्य संभागीय मेडिकल कॉलेजों में इलाज के लिए भर्ती मरीजों हेतु भी सुधार की स्थिति में ट्रांसपोर्टेशन की यही व्यवस्था लागू होगी. प्रमुख शासन सचिव चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अखिल अरोडा ने इस संबंध में सभी अधिकारियों को निर्देश दिए है. आदेश में कहा गया है कि डिस्चार्ज किए गए व्यक्ति के संबंध में सूचना मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी जयपुर-प्रथम को एक दिन पूर्व देते हुए आवश्यक परिवहन तथा आइसोलेशन के लिए जानकारी दी जाएगी. यह सूचना मरीज या उसके अटेन्डेंट को भी आवश्यक रूप से दी जाएगी. 

होम आइसोलेशन या संस्थागत क्वारंटीन किया जाएगा:
सीएमएचओ जयपुर-प्रथम द्वारा जयपुर जिले एवं अन्य जिले के मरीजों के लिए संबंधित सीएमएचओ द्वारा मरीज के घर की स्थिति को देखते हुए उसे होम आइसोलेशन या संस्थागत क्वारंटीन किया जाएगा. इन मरीजों की सम्पूर्ण यात्रा हेतु एक ही वाहन का इस्तेमाल किया जाएगा. डिस्चार्ज किए जा रहे मरीजों की परिस्थिति को दृष्टिगत रखते हुए आरयूएचएस के प्राचार्य द्वारा आरयूएचएस के अन्तर्गत स्थापित कोविड केयर सेन्टर में भी रखा जा सकता है. उधर, सभी ब्लॉक स्तरीय सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्रों में कोविड-19 संभावित मरीजों के लिए अलग से ओपीडी की व्यवस्था करने के साथ ही टेस्टिंग की सुविधा, गंभीर मरीजों हेतु रेफरल ट्रांसपोर्ट तथा आक्सीजन आदि की व्यवस्था सुनिश्चित करने के निर्देश भी जारी किये गये हैं. कोरोना ओपीडी में प्रशिक्षित चिकित्साधिकारी एवं पैरा मेडिकल स्टॉफ तैनात करने के निर्देश दिए गए हैं.

- कोरोना मरीजों की सेहत में सुधार पर भेजा जाएगा होम क्वारेंटाइन
- राज्य स्तरीय कोविड अस्पताल आरयूएचएस को लेकर व्यवस्था
- कोरोना मरीजों की सेहत के परीक्षण के लिए दो सदस्यीय बोर्ड का गठन
- प्रमुख चिकित्सा सचिव अखिल अरोड़ा ने जारी किए आदेश
- बोर्ड सदस्यों की सिफारिश पर मरीज को भेजा जाएगा होम क्वारेंटाइन
- या फिर संस्थागत क्वारंटीन के लिए किया जाएगा डिस्चार्ज

- ग्रामीण इलाकों में स्क्रीनिंग के लिए तीन-तीन सदस्यों के दल गठित
- चिकित्सा विभाग का कोरोना रोकथाम का विशेष प्रयास
- प्रमुख चिकित्सा सचिव अखिल अरोडा ने जारी किए आदेश
- कोरोना संभावित मरीजों की स्क्रीनिंग पल्सऑक्सीमीटर एवं
- थर्मल स्केनर आदि के माध्यम से करने के दिए निर्देश
- आवश्यकतानुसार ही उनका होम आइसोलेशन या संस्थागत क्वारंटीन करने तथा
- टेस्ट की कार्यवाही के भी दिए गए निर्देश
- कस्बों एवं ग्रामीण क्षेत्रों में क्षेत्रवार स्क्रीनिंग कार्य हेतु आशा, एएनएम एवं
- आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं के तीन-तीन सदस्यों के गठित होंगे दल
- दल में रेंडम सेम्पलिंग के लिए दो-तीन प्रशिक्षित नर्सिंगकर्मी भी होंगे शामिल
- लगभग 5 पंचायतों पर एक दल गठित किया जाएगा

 

और पढ़ें