Live News »

गुजरात के अंबाजी मंदिर में हुई घट स्थापना, भक्तों के लिए शुरू हुए ऑनलाइन दर्शन

गुजरात के अंबाजी मंदिर में हुई घट स्थापना, भक्तों के लिए शुरू हुए ऑनलाइन दर्शन

सिरोही: गुजरात का सबसे बड़ा शक्तिपीठ अंबाजी गुजरात और राजस्थान की सीमा पर स्थित है. बुधवार से देशभर में चैत्र नवरात्र की शुरुआत हो गई है. माता अंबाजी मंदिर में घट स्थापना की गई. गुजरात के सबसे बड़े शक्तिपीठ अंबाजी में श्रद्धालुओं के पट बंद रहे. नवरात्रि पर श्रद्धालुओं से गुलजार रहने वाले अंबाजी मंदिर में सन्नाटा पसारा हुआ है. मंदिर की लाइन पूरी तरह खाली नजर आई.

Rajasthan Lock Down: चैत्र नवरात्रि पर लगा कोरोना ग्रहण, प्रदेशभर के मंदिरों में हुई घट स्थापना, लेकिन दर्शनार्थियों के लिए पट रहे मंगल

भक्तों ने घर बैठे किए दर्शन:
जहां कोरोना वायरस की महामारी के चलते पूरा देश लॉक डाउन है. ऐसे में यह प्रसिद्ध मंदिर भी भक्तों के लिए बंद है. केवल पुजारियों ने माता की पूजा अर्चना कर इस बीमारी से निजात दिलाने की कामना की. बुधवार को अंबाजी मंदिर के भट्टजी महाराज की अगुवाई में घट स्थापना की गई. कोटेश्वर से सरस्वती नदी का जल लाकर यहां मातारानी की मंत्रोच्चार से झवेरे का पूजन किया गया. कोरोना वायरस की वजह से पहली बार भक्त घर बैठे मातारानी का दर्शन कर सके. उसके लिए मंदिर प्रशासन की ओर से ऑनलाइन दर्शन शुरू किए गए है. 

Chaitra Navratri: आज से शुरू हुए चैत्र नवरात्रि, नौ दिनों तक होगी मातारानी के इन स्वरूपों की पूजा

और पढ़ें

Most Related Stories

झालरापाटन में लगने वाले पशु मेले व कार्तिक स्नान पर लगा कोरोना का ग्रहण

झालरापाटन में लगने वाले पशु मेले व कार्तिक स्नान पर लगा कोरोना का ग्रहण

झालावाड़: कोरोना के ग्रहण की चपेट में अब तीज त्योहार व धार्मिक कार्यक्रमों पर भी चोट पहुंचाई है. झालरापाटन में लगने वाला पशु मेला व कार्तिक स्नान पर कोरोना का ग्रहण लग गया. अब झालरापाटन का प्रदेश में ख्याति प्राप्त मेला नहीं लगेगा न शाही स्नान होगा. प्रशासन ने चन्द्रभागा नदी के आस-पास के सम्पूर्ण क्षेत्र में धारा 144 लगा दी. साथ ही यहां बिना परमिशन के प्रवेश बन्द कर दिया गया. 

पूर्णिमा के अवसर पर काफी संख्या में श्रद्वालुओं द्वारा स्नान किया जाता है: 
झालरापाटन में चन्द्रभागा नदी में कार्तिक पूर्णिमा के अवसर पर काफी संख्या में श्रद्वालुओं द्वारा स्नान किया जाता है. वर्तमान में लगातार बढ़ रहे कोरोना महामारी संक्रमण को दृष्टिगत रखते हुए जिला कलक्टर एवं जिला मजिस्ट्रेट निकया गोहाएन द्वारा चन्द्रभागा नदी पर श्रद्वालुओं द्वारा किये जाने वाले स्नान पर कोविड़-19 महामारी अधिनियम के तहत प्रदत्त शक्तियों का प्रयोग करते हुए पूर्णतया प्रतिबंध लगा दिया है. साथ ही मेले में होने वाले सभी कार्यक्रम स्थगित कर दिये गए अब मेला नहीं लगेगा. 

{related}

कार्तिक मेला जानवरों के लिए प्रसिद्ध:
झालरापाटन का कार्तिक मेला यहां कपड़ों के लिए और जानवरों के लिए प्रसिद्ध था और राजस्थान सहित अन्य प्रदेश के व्यापारी यहां आकर मेले की शोभा बढ़ाते थे. ऐसे में अबकी बार झालावाड़ जिले वासियो के लिए यह दुखभरी खबर है. 

Horoscope Today 28 november 2020: इन राशियों की चमकेगी किस्मत, कुछ के लिए रहेगा अशुभ

Horoscope Today 28 november 2020: इन राशियों की चमकेगी किस्मत, कुछ के लिए रहेगा अशुभ

जयपुर: दैनिक राशिफल चंद्र ग्रह की गणना पर आधारित होता है. राशिफल की जानकारी करते समय पंचांग की गणना और सटीक खगोलीय विश्लेषण किया जाता है. दैनिक राशिफल में सभी 12 राशियों के भविष्य के बारे में बताया जाता है. ऐसे में आप इस राशिफल को पढ़कर अपनी दैनिक योजनाओं को सफल बना सकते हैं. बुध का महा राशि परिवर्तन आज शनिवार दिनांक 27 नवम्बर 2020 को प्रातः 7-04  पर वृश्चिक राशि में होने जा रहा है. बुध के गोचर से सोना-चांदी में तेजी जाएगी. देश में राजनितिक गिरावट देखने को मिल सकती है. बुध के महा राशि परिवर्तन आप में से किसे बनायेगा अमीर, किसके पास होगा गाड़ी, घोड़ा, बंगला, पैसा...

{related}

मेष:-
बुध आपकी राशि से आठवें भाव में गोचर करेगा. आर्थिक रूप से सावधान रहने की आवश्यकता होगी. जॉब और बिजनेस में आपके लिए उतार-चढ़ाव वाला समय रहेगा. अपनी सेहत का ख़्याल रखें.  

उपायः बुधवार के दिन वृद्वाश्रम में ताज़ा फलों का दान करे.  

वृषभ:-
बुध आपकी राशि से सातवें भाव में गोचर करेगा. प्रोफ़ेशनल क्षेत्र में आपका प्रमोशन अथवा सैलरी इंक्रीमेंट हो सकता है. जॉब और बिजनेस में आपको फायदा मिलने की संभावना है. लाइफ में सकारात्मक परिणाम देखने को मिल सकते हैं.  

उपायः बुधवार के दिन जरूरतमंद को रोटी और चने से बनी सब्जी खिलाएं. 

मिथुन:-
इस गोचर में बुध आपकी राशि से छठे भाव में जाएगा. कोर्ट-कचहरी के फ़ैसले आपके पक्ष में आ सकते हैं. जॉब और बिजनेस में मेहनत बहुत होगी. मुद्दों पर सूझबूझ के साथ अपना वक्तव्य दें. हार्ड वर्क से घबराये नहीं. 

उपायः ‘ बुधवार को हरे रंग के वस्त्र पहने और गणपति को दूर्वा अर्पण करे.

कर्क:- 
बुध आपकी राशि से पाँचवें भाव में गोचर करेगा. आमदनी में वृ्द्धि की संभावना नज़र आ रही है. मन में आते अच्छे विचारों को आप अमल में लेकर आएंगे. जॉब करने वाले जातकों को शुभ समाचार मिलेंगे. संतान की सेहत कुछ नाजुक रह सकती है.

उपायः श्री गणेश मंदिर में शुद्ध घी चढ़ाएँ.

सिंह:-
बुध ग्रह आपकी राशि से चौथे भाव में जाएगा. सोच-विचार कर ही आप कोई फ़ैसला लें. घर में चल-अचल संपत्ति में वृद्धि हो सकती है. कार्य क्षेत्र में आपकी कार्य क्षमता में वृद्धि होने की संभावना है.  व्यापार में आपको फ़ायदा मिल सकता है.  

उपायः बुधवार को जरूरतमंद को हरी सब्जी का दान करे. 

कन्या:- 
बुध आपकी राशि से तीसरे भाव में प्रवेश करेगा.अपने लक्ष्य को पाने के लिए पूर्ण रूप से कटिबद्ध रहे. मार्केटिंग, मीडिया एवं लेखन से जुड़े प्रोफ़ेशन में जातकों को लाभ मिलने की संभावना है. गोचर के दौरान आपकी नौकरी में परिवर्तन के आसार नज़र आ रहे हैं.

उपायः बुधवार के दिन गणेश मंदिर में साफ़ सफ़ाई के काम में हाथ बटाये. 

तुला:-

बुध आपकी राशि से दूसरे भाव में जाएगा. फाइनेंसियल बेनिफिट होंगे. कैरियर में ऊँचाई प्राप्त हो सकती है.  शब्दों का चयन सोच-समझकर करें और मधुर बोलें. पारिवारिक जीवन के लिए गोचर शुभ है.

उपायः ‘बुधवार के दिन कन्यायों के अनाथाश्रम में  एक बोरी आटे का दान करे .

वृश्चिक:-
बुध आपकी राशि में गोचर करेगा.आय के नए स्रोत बढ़ेंगे. आर्थिक लाभ होंगे. बरसों की कोई तमन्ना पूरी हो सकती है. त्वचा, रक्त आदि से संबंधित कोई परेशानी हो सकती है.प्रॉपर्टी से संबंधित मामलों में आपको लाभ मिल सकता है.

उपायः बुधवार के दिन गौशाला में गौपालक को हरे मूँग (साबुत) की दाल दान में दें

धनु:-
बुध आपकी राशि से बारहवें भाव में संचरण करेगा. स्वास्थ्य संबंधी परेशानी से बचे. ख़र्च, असंतोष, विवादों, क़ानूनी मामलातों जैसी चीजों का सामना करना पड़ सकता है. कार्य क्षेत्र में आप बेहतर प्रदर्शन करेंगे.  

उपायः बुधवार के दिन गौ माता को  गुड़ खिलाएं और पानी पिलाये. 

मकर:- 
बुध आपकी राशि से ग्यारहवें भाव में जाएगा.आय में वृद्धि की संभावना है. कैरियर तरक्की, प्रमोशन इत्यादि के मौक़े मिल सकते हैं इसलिए इन अवसरों को भुनाने के लिए ख़ुद को तैयार रखें. अपनी भाषा पर संयम रखें.

उपायः बुधवार के दिन गणेश मंदिर में दर्शन करे ,लड्डू का भोग लगाए. 

कुंभ:- 
बुध आपकी राशि से दसवें भाव में प्रवेश करेगा. कार्य क्षेत्र में आपका प्रदर्शन अच्छा रहेगा. आपकी मेहनत आपको आगे बढ़ाएगी. किसी तरह का विवाद है तो उसका समाधान निकालने का प्रयास करें. मीठी वाणी बोलें,.

उपायः बुधवार के दिन माता जी के मंदिर में हरे रंग की साड़ी और श्रृंगार का सामान चढ़ाये.

मीन:-
बुध आपकी राशि से नौवें भाव में जाएगा. किस्मत का साथ आपको मिल सकता है और उच्च लाभ के योग हैं. समाज में आपका क़द ऊँचा हो सकता है. लोग आपका सम्मान करेंगे. विदेश यात्रा पर जा सकते हैं.  

उपायः हरे रंग की गणेश जी की प्रतिमा को दूर्वा (घास) चढ़ाएँ.

सौजन्य - राज ज्योतिषी पंडित मुकेश शास्त्री


 

28 नवंबर 2020: पंचांग से जानें आज का शुभ-अशुभ मुहूर्त और राहुकाल का समय

28 नवंबर 2020: पंचांग से जानें आज का शुभ-अशुभ मुहूर्त और राहुकाल का समय

जयपुर: पंचांग का हिंदू धर्म में शुभ व अशुभ देखने के लिए विशेष महत्व होता है. पंचाम के माध्यम से समय एवं काल की सटीक गणना की जाती है. यहां हम दैनिक पंचांग में आपको शुभ मुहूर्त, शुभ तिथि, नक्षत्र, व्रतोत्सव, राहुकाल, दिशाशूल और आज शुभ चौघड़िये आदि की जानकारी देते हैं. तो ऐसे में आइए पंचांग से जानें आज का शुभ और अशुभ मुहूर्त और जानें कैसी रहेगी आज ग्रहों की चाल...  

{related}

शुभ तिथि त्रयोदशी जया संज्ञक तिथि प्रातः 10 बजकर 22 मिनट तक तत्पश्चात चतुर्दशी तिथि रहेगी. त्रयोदशी तिथि को यज्ञोपवीत को छोड़ कर समस्त शुभ एवं मांगलिक कार्य, विवाह, उपनयन, प्रतिष्ठा, देव कार्य, गृह प्रवेश इत्यादि कार्य शुभ माने जाते हैं. त्रयोदशी तिथि मे जन्मे जातक धर्मात्मा, धनवान, बुद्धिवान, भाग्यवान, पराक्रमी होते हैं. 

भरणी  "उग्र-अधोमुख" संज्ञक नक्षत्र रात्रि 3 बजकर 19 मिनट तक तत्पश्चात कृतिका "मिश्र व अधोमुख " संज्ञक नक्षत्र रहेगा. भरणी नक्षत्र मे उग्र व अग्निविषादिक कार्य,कुंआ-बावड़ी, बोरिंग,कृषि इत्यादि कार्य सिद्ध होते हैं. भरणी नक्षत्र मे जन्म लेने वाला जातक सत्यवादी, सुमार्ग पर चलने वाला, सुन्दर, धनवान, बुद्धिमान होता है. इनका भाग्योदय प्राय 25 वर्ष कि उम्र के बाद होता है.   

चन्द्रमा - सम्पूर्ण दिन मेष राशि में संचार करेगा  

व्रतोत्सव - द्वादशी तिथि वृद्धि,प्रदोष व्रत  

राहुकाल - प्रातः 9 बजे से 10.30 बजे तक

दिशाशूल - शनिवार को पूर्व दिशा मे दिशाशूल रहता है. यात्रा को सफल बनाने लिए घर से अदरक या उरद दाल खा कर निकले.      

आज के शुभ चौघड़िये - प्रातः 8.19 मिनट से प्रातः 9.37 मिनट तक शुभ, दोपहर 12.15 मिनट से सायं 4.10 तक चर, लाभ, और अमृत  का चौघड़िया.   

सौजन्य- राज ज्योतिषी पंडित मुकेश शास्त्री

Horoscope Today 27 november 2020: आज इन तीन राशि वालों को मिलेगी खुशियां, जानिए बाकि के लिए कैसा रहेगा दिन

Horoscope Today 27 november 2020: आज इन तीन राशि वालों को मिलेगी खुशियां, जानिए बाकि के लिए कैसा रहेगा दिन

जयपुर: दैनिक राशिफल चंद्र ग्रह की गणना पर आधारित होता है. राशिफल की जानकारी करते समय पंचांग की गणना और सटीक खगोलीय विश्लेषण किया जाता है. दैनिक राशिफल में सभी 12 राशियों के भविष्य के बारे में बताया जाता है. ऐसे में आप इस राशिफल को पढ़कर अपनी दैनिक योजनाओं को सफल बना सकते हैं. 

{related}

मेष (Aries) :- आज का दिन आपके लिए कुछ विपरीत और खिन्नता से भरा हुआ रहेगा. किसी काम में लगातार असफलता मिलने से मन में उदासी रहेगी. चलते -फिरते भी किसी नए बवाल में उलझने से आपको व्यर्थ कालांछन और कानूनी झंझट झेलना पड़ सकता है.

वृष(Taurus):- आपका स्वास्थ्य आज सुधार की ओरअग्रसर हो रहा है. यदि आप अपने समय का सही उपयोग करेंगे तो निर्धारितलक्ष्य के नजदीक पहुंचने में देर नहीं लगेगी. लेकिन दूसरों की तरफ ध्यान आकर्षित होने से आपका काम रूक सकता है.

मिथुन(Gemini):- अचानक ही कुछ विपरीत परिस्थितियां पैदा होने से आपका आत्मविश्वास विचलित हो सकता है. जिन लोगों ने आपके लिए रूकावट खड़ी की हैउनको पहचानना आपके लिए जरूरी होगा. तभी आपको आगे की चिन्ता कम होगी.

कर्क(Cancer):- आपको आज मन में उदासी और आशान्ति का समावेश रहेगा. बार - बार किसी न किसी कारण आपको अपने परिजनों और मित्रों से उपेक्षा और विरोध कासामना करना होता है. यदि आप न चाहते हुए भी किसी प्रकार की गलत धारणा से ग्रस्त हैं तो उसमें सुधारलाना जरूरी होगा.  

सिंह(Leo):- आज आपके स्वाभाविक उत्साह और पराक्रम में वृद्धि हो रही है.  सामाजिक और राजनितिक मंच पर भी आपका नाम सम्मान और आदर सेलिया जाएगा. यदि किसी संस्था या संगठन के प्रतिनिधि हैं तो आपको कुछ जिम्मेदारी भी सौंपी जा सकती हैं.

कन्या(Virgo):- फिलहाल आपके आगे पीछे विरोधियों और आलोचकों का दबदबा चल रहा है. लेकिन यह भीठीक नहीं है कि आप इन छोटी - मोटी दिक्कतों को दूर नहीं सकते हैं. यदि आप दृढ़ निश्चय से मुकाबला करेंगे तोआपकी विजय होनी निश्चित है .

तुला(Libra):- आज आपके मन में काफी चिन्ता और उत्सुकता रहेगी. हो सकता है कुछ बाधाओं की वजह से आपकी इच्छापूर्ति  को पूरा करने में कुछ समय और लग जाए. लेकिन यदि आप अपने इरादेऔर उदारता के बल पर कोई नई रणनीति बनायेगे  सफलता प्राप्त होगी.  

वृश्चिक(Scorpio):-  आपके जीवन उतार-चढ़ाव बहुत जल्दी -जल्दी आते हैं. आज भी कुछ ऐसा ही संकेत आपको मिल रहे हैं. विचलित होने की जरूरत नहीं लेकिन थोड़ाइन्तजार जरूर करना होगा.

धनु(Sagittarius):- आज आपको अपनी शारीरिक और मानसिक इच्छापूर्ति का सुख मिलेगा. किसी नएव्यक्ति द्वारा सम्मान और दावत दिए जाने की खुशी होगी. कोई अच्छा उपहार या सौगात भी आपको सांयकालतक मिल सकती है.  

मकर(Capricorn):- बहुत समय से चल रहा कोई विवाद या मामला आज अचानक ही समाप्त होने जा रहाहै. आर्थिक और सामाजिक क्षेत्र में आपकी भागीदारी एक नया विकल्प बन सकती है.  

कुंभ(Aquarius):-  आज के दिन आपके पासकोई ऐसी खबर आ रही है जो आपके लिए आगे चलकर लम्बी दौड़ का घोड़ा साबित हो. दीर्घकालीन योजनाओं और परियोजनाओं में आपकी भागीदारी न केवल आपके यश और ख्याति को बढ़ाएगी बल्कि धन लाभ भी करवाएगी.

मीन (Pisces):- आज का दिन आपके लिए मिलाजुला असर देगा. परिवार में सुख शांति रहेगी. अच्छे भोजन का आनंद लेंगे. अधिक गर्म मसालों का प्रयोग बीमार बना सकता है। चोट लगने की संभावना है, इसलिए वाहन सावधानी पूर्वक चलाएं. निजी प्रयासों से धन अर्जन में सफलता मिलेगी. 

सौजन्य - राज ज्योतिषी पंडित मुकेश शास्त्री

27 नवंबर 2020: जानिए आज का पंचांग, ये रहेगा शुभ-अशुभ मुहूर्त और राहुकाल का समय

27 नवंबर 2020: जानिए आज का पंचांग, ये रहेगा शुभ-अशुभ मुहूर्त और राहुकाल का समय

जयपुर: पंचांग का हिंदू धर्म में शुभ व अशुभ देखने के लिए विशेष महत्व होता है. पंचाम के माध्यम से समय एवं काल की सटीक गणना की जाती है. यहां हम दैनिक पंचांग में आपको शुभ मुहूर्त, शुभ तिथि, नक्षत्र, व्रतोत्सव, राहुकाल, दिशाशूल और आज शुभ चौघड़िये आदि की जानकारी देते हैं. तो ऐसे में आइए पंचांग से जानें आज का शुभ और अशुभ मुहूर्त और जानें कैसी रहेगी आज ग्रहों की चाल...  

{related}

शुभ तिथि द्वादशी भद्रा संज्ञक तिथि प्रातः 7 बजकर 47 मिनट तक रहेगी. द्वादशी तिथि मे विवाह आदि मांगलिक, यज्ञोपवीत, गृह आरम्भ, प्रवेश, देव कार्य सहित सभी प्रकार के चर-स्थिर कार्य शुभ व सिद्ध होते हैं. द्वादशी तिथि मे जन्मे जातक चंचल, अस्थिर, परोपकारी, ऐश्वर्यवान, धर्म परायण, गुणवान, होते हैं. 

शुभ नक्षत्र-अश्विनी "क्षिप्र " संज्ञक नक्षत्र रात्रि 12 बजकर 23 मिनट तक तत्पश्चात भरणी नक्षत्र रहेगा. अश्विनी नक्षत्र मे विवाह, यात्रा, विद्या इत्यादि कार्य सिद्ध होते हैं. अश्विनी नक्षत्र मे जन्म लेने वाला जातक धनी, सरल स्वाभाव वाला, साहसी, प्रसिद्ध, सुन्दर, धनवान, बुद्धिमान होता है. अश्विनी नक्षत्र गण्डान्त मूल संज्ञक नक्षत्र है अतः इस नक्षत्र मे जन्मे जातकों को मूल शांति करवा लेनी चाहिये.    

चन्द्रमा - सम्पूर्ण दिन मेष राशि में संचार करेगा  

व्रतोत्सव - द्वादशी तिथि वृद्धि,प्रदोष व्रत  

राहुकाल - प्रातः 10.30 बजे से 12 बजे तक

दिशाशूल - शुक्रवार को पश्चिम दिशा मे दिशाशूल रहता है. यात्रा को सफल बनाने लिए घर से जौ खा कर निकले.

आज के शुभ चौघड़िये - सूर्योदय से पूर्वाह्न 10.56  तक लाभ ,अमृत का ,दोपहर 12.14 मिनट से  1.33 तक शुभ का, सायं 4.10 से सूर्यास्त तक चर का चौघड़िया

सौजन्य - राज ज्योतिषी पंडित मुकेश शास्त्री

Horoscope Today 26 november 2020: गुरुवार का दिन इन 5 राशियों के लिए रहेगा भाग्यशाली, पढ़े दैनिक राशिफल

Horoscope Today 26 november 2020: गुरुवार का दिन इन 5 राशियों के लिए रहेगा भाग्यशाली, पढ़े दैनिक राशिफल

जयपुर: दैनिक राशिफल चंद्र ग्रह की गणना पर आधारित होता है. राशिफल की जानकारी करते समय पंचांग की गणना और सटीक खगोलीय विश्लेषण किया जाता है. दैनिक राशिफल में सभी 12 राशियों के भविष्य के बारे में बताया जाता है. ऐसे में आप इस राशिफल को पढ़कर अपनी दैनिक योजनाओं को सफल बना सकते हैं. 

मेष( Aries): आज धन कमाने के कई प्रपोसल आपको मिल सकते है लेकिन पार्टनरशिप के काम से बचे. लेकिन अगर अपने ही बलबूते पर आगे पैर बढ़ाना चाहते हैं तो कमर कस लीजिये क्यूंकि आगे बहुत मेहनत करनी है. आज के दिन की सफलता के लिए हल्दी की गांठ अपने पास रखे.

वृष( Taurus): काफी लंबे अर्से के बाद आज का दिन सुख प्रदान करने वाला रहेगा  ,आगे बढ़ने का मौका मिलेगा. उलझे हुए मैटर्स आज सुलझ सकते है. भविष्य की प्लानिंग कर के रखे.आज के दिन के सफलता के लिए माता पिता की परिक्रमा करके घर से निकले.

मिथुन( Gemini):  आज अपने आप  को समय के हवाले कर दे ,जो होता है ,जैसा होता है उसे स्वीकार करते जाये उसी में आज आपकी भलाई है. कोई ऐसा काम करने को मिल सकता है , जिससे आपको यश ,सम्मान प्राप्त हो सकता है. आज के दिन के सफलता के लिए बेसनले लड्डू बच्चों में बाटे.  

कर्क( Cancer): आज किसी भी तरह का एक्स्पेरीमेंट , प्रयोग करते से बचे. ज़्यादा जल्दबाजी ,उतावलापन,जोख़िम उठाने की प्रवत्ति ,ओवर कॉन्फिडेंस से अपने आप को दूर रखने का प्रयास करे. आज के दिन के सफलता के लिए विष्णु मंदिर में इत्र का दान करे.

सिंह( Leo): आज के दिन आप अपने आपको सर्वगुण संपन्न स्वतंत्र और खुशहाल महसूस करेंगे. आज के दिन जिस काम में आप को  हाथ डालेंगे उसी कार्य में  प्राप्त होगी. सर्दी जुखाम से बचे. आज के दिन के सफलता के लिए अपने पितरों के तस्वीर के समक्ष देशी घी का दीपक जलाये.

कन्या( Virgo): आज का दिन आज कल करने में नहीं बिताये. कुछ अच्छा करने की प्लानिंग करे.आज के दिन आप दबाव रहित होकर अपने रचनात्मक और मौलिक काम को अमल में लाने के लिए भरसक प्रयास करे. आज के दिन की सफलता के लिए हल्दी मिश्रित दूध का सेवन अवश्य करे.

तुला( Libra): आज पिछले दिनों किये गए प्रयासों के कारण पेंडिंग पड़े सभी मसले एक-एक करके हल होते नजर आएंगे. किसी भी तरह के विवाद में पड़ने से बचे क्यूंकि आज कोई बात आपके लिए एक नया सिरदर्द बन सकती है.आज के दिन की सफलता के लिए गौ माता की सेवा करे.

वृश्चिक( Scorpio): बिजनस फील्ड में अच्छा रहेगा ,कोई बड़ा  कॉन्ट्रैक्ट  धन कमाने का स्रोत बन सकता है. यदि आप  कार्यक्षेत्र में ज्यादा उलझनें महसूस कर रहे हों तो उसके लिए भी आपका रास्ता साफ होने जा रहा है. आज के दिन की सफलता के लिए ॐ हरये नमः मन्त्र का जाप करें.

धनु( Sagittarius): कुछ बढ़ते हुए काम का बोझ आपको आज सारे दिन बिजी रखेगा लेकिन धैर्य और सुकून बनाए रखें और अपने आर्थिक नियोजन को पूरी तरह इस्तेमाल करके खजाने को मजबूत बनाएं।आज के दिन की सफलता के लिए केले के पौधे की पूजा परिक्रमा करे.

मकर( Capricorn): आज के दिन किसी मांगलिक कार्य की शुरूआत आप कर सकते हैं. पिछले कई महीनों से आप तनावग्रस्त और परेशानी के माहौल में रहने के कारण आपकी हिम्मत फ्रीज हो गई थी, लेकिन आज का दिन इन सबके दबाव से मुक्त रहेगा. आज के दिन की सफलता के लिए चनेकी दाल का सेवन करे.

{related}

कुंभ( Aquarius ): आज अपने कारोबार से प्रॉफिट बटोरने का दिन है. सुबह से ही अच्छे मेसेज और फोनकाल आपके लिए और भी फायदेमंद साबित हो सकते हैं. शाम का समय पार्टी दावत में गुजर सकता है. आज के दिन की सफलता के लिए विष्णु सहस्त्रनाम का पाठ करें.

मीन( Pisces): कुछ जद्दोजहद और परेशानी से भरा दिन रह सकता है लेकिन आपकी सकरात्मक सोच आज आपकी मदद करती रहेगी. कुछ ऐसे अवसर आपको मिल सकते है, जो आपकी महत्वाकांक्षा को साकार कर सकते है. आज के दिन की सफ़लता के लिए विष्णु मंदिर में कमल का पुष्प अर्पण करे.

सौजन्य - राज ज्योतिषी पंडित मुकेश शास्त्री

26 नवंबर 2020: जानिए आज का पंचांग, ये रहेगा शुभ-अशुभ मुहूर्त और राहुकाल का समय

26 नवंबर 2020: जानिए आज का पंचांग, ये रहेगा शुभ-अशुभ मुहूर्त और राहुकाल का समय

जयपुर: पंचांग का हिंदू धर्म में शुभ व अशुभ देखने के लिए विशेष महत्व होता है. पंचाम के माध्यम से समय एवं काल की सटीक गणना की जाती है. यहां हम दैनिक पंचांग में आपको शुभ मुहूर्त, शुभ तिथि, नक्षत्र, व्रतोत्सव, राहुकाल, दिशाशूल और आज शुभ चौघड़िये आदि की जानकारी देते हैं. तो ऐसे में आइए पंचांग से जानें आज का शुभ और अशुभ मुहूर्त और जानें कैसी रहेगी आज ग्रहों की चाल...  

शुभ तिथि द्वादशी भद्रा संज्ञक तिथि सम्पूर्ण दिन रात्रि रहेगी. द्वादशी  तिथि मे विवाह आदि मांगलिक , यज्ञोपवीत ,गृह आरम्भ, प्रवेश,देव कार्य सहित सभी प्रकार के चर -स्थिर कार्य शुभ व सिद्ध होते है. द्वादशी तिथि में जन्मे जातक चंचल,अस्थिर,परोपकारी ,ऐश्वर्यवान ,धर्म परायण ,गुणवान,होते है.

शुभ नक्षत्र रेवती नक्षत्र रात्रि 9 बजकर 20  मिनट तक रहेगा. रेवती नक्षत्र मे स्थिर कार्य,वास्तु,शांति कर्म,विवाह इत्यादि मांगलिक कार्य विशेष रूप से सिद्ध होते है.रेवती नक्षत्र में जन्म लेने वाला जातक धनी ,साहसी,प्रसिद्ध ,सुन्दर , धनवान, बुद्धिमान होता है.

{related}

चन्द्रमा- सम्पूर्ण दिन मीन राशि में संचार करेगा.
व्रतोत्सव - देवउठनी एकादशी व्रत वैष्णव ,तुलसी विवाह,वंजुली महाद्वादशी व्रत  
राहुकाल -दोपहर 1.30 बजे से 3 बजे तक                              
दिशाशूल- गुरुवार को दक्षिण दिशा मे दिशाशूल रहता है. यात्रा को सफल बनाने लिए घर से दही खा कर निकले.

आज के शुभ चौघड़िये - सूर्योदय से प्रातः 8.18 मिनट तक शुभ का,प्रातः 10.55 से दोपहर 2.52 मिनट तक चर,लाभ ,अमृत का और सायं 4.10 से सूर्यास्त तक शुभ का चौघड़िया.

सौजन्य - राज ज्योतिषी पंडित मुकेश शास्त्री

Devuthani Ekadashi 2020: 4 माह की नींद के बाद जाग गए भगवान विष्णु, मांगलिक कार्यों की हुई शुरूआत

Devuthani Ekadashi 2020: 4 माह की नींद के बाद जाग गए भगवान विष्णु, मांगलिक कार्यों की हुई शुरूआत

जयपुर: आज देशभर में देव उठनी एकादशी का पर्व मनाया जा रहा हैं. ये पर्व इसलिए खास हैं, क्योंकि इसी दिन भगवान विष्णु 4 माह की नींद के बाद जागते हैं. कार्तिक शुक्ल एकादशी बुधवार को देवोत्थान एकादशी के रूप भी मनाई जा रही हैं. भगवान श्रीहरी 4 माह के शयन यानी योग निद्रा से जाग गए. इसी दिन हिन्दू धर्मावलंबियों के शुभ मांगलिक कार्यों का शुभारंभ भी हो गया. प्रबोधनी एकादशी ही वृंदा (तुलसी) के विवाह का दिन है.इस दिन से हिंदु धर्म में सभी शुभ कार्य शुरू हो जाते हैं. इसी के साथ इसी एकादशी के दिन तुलसी और शालिग्राम के विवाह का उत्सव मनाया जाता हैं. तुलसी विवाह कार्तिक मास की शुक्ल पक्ष की एकादशी को मनाया जाता है. मान्यता है की तुलसी विवाह कराने से तुलसी विवाह कन्यादान के बराबर फल मिलता है.

ऐसे ​कीजिए एकादशी पूजा: 
इस दिन सुबह जल्दी उठकर सही कामों ने निवृत्त होकर स्नान कर लें और साफ वस्त्र पहन लें. इसके बाद भगवान विष्णु का स्मरण करें.सायंकाल को पूजा वाली जगह को साफ करके चूना और गेरू की सहायता से रंगोली बनाएं. इसके साथ ही भगवान विष्णु का चित्र या फिर तस्वीर रखें. अब ओखली को भी गेरू के माध्यम से चित्र बना लें. इसके बाद ओखली के पास फल, मिठाई, सिंघाड़े और गन्ना रखें.इसके बाद इसे डालिया से ढक दें.रात के समय यहां पर घी के 11 दीपक देवताओं को निमित्त करते हुए जलाएं. इसके बाद घंटी बजाते हुए भगवान विष्णु को उठाएं और बोले- उठो देवा, बैठा देवा, आंगुरिया चटकाओ देवा, नई सूत, नई कपास, देव उठाए कार्तिक मास. तुलसी का भगवान विष्णु के साथ विवाह करके लग्न की शुरुआत होती है.

{related}

भगवान को पूरे विधि-विधान से जगाएंगे भक्त :
मान्यता है कि आषाढ़ शुक्ल हरिशयन एकादशी पर भगवान चार महीने के लिए शयन करने चले जाते और देवोत्थान एकादशी पर जागते हैं.प्रबोधनी एकादशी पर बुधवार को भगवान को पूरे विधि-विधान से भक्त जगाएंगे.दिनभर श्रद्धालु उपवास में रहेंगे.शाम को शालिग्राम भगवान को रखकर पूजा की जाएगी. वेद मंत्रोच्चार के साथ श्रद्धालु भगवान विष्णु को जगाते हैं.

भगवान विष्णु को जगाने के लिए इस मंत्र का करें जाप:
उत्तिष्ठ गोविन्द त्यज निद्रां जगत्पतये।
त्वयि सुप्ते जगन्नाथ जगत्‌ सुप्तं भवेदिदम्‌॥
उत्थिते चेष्टते सर्वमुत्तिष्ठोत्तिष्ठ माधव।
गतामेघा वियच्चैव निर्मलं निर्मलादिशः॥
शारदानि च पुष्पाणि गृहाण मम केशव।