राज्य में बेरोजगारों की भरमार, बेरोजगारी भत्ते में 26 अरब की दरकार

Madan Kalal Published Date 2019/01/11 07:48

जयपुर। प्रदेश के बेरोजगारों की लंबी कतार है.... यदि सरकार अपने वादे के मुताबिक 3500 रुपए का मासिक बेरोजगारी भत्ता देती है तो सालाना करीब 26 अरब रुपए का इंतजाम करना होगा। सरकारी रिकॉर्ड को आधार माना जाए तो इस वक्त रोजगार कार्यालय में 6 लाख 16 हजार 706 बेरोजगार रजिस्टर्ड है। बेरोजगारी भत्ते के ऐलान के साथ ही रजिस्ट्रेशन के लिए अब संख्या भी तेजी से बढ़ती जा रही है । ऐसे में सरकारी खजाने पर और भी भारी भारी पड़ेगा। हालात यह है कि जनघोषणा पत्र में बेरोजगारी भत्ते की घोषणा होते ही नवंबर के 6050 की तुलना में दिसंबर में दुगुने से ज्यादा 13013 बेरोजगार रजिस्टर्ड हो गए हैं। अब बेरोजगारों को इंतजार है तो सिर्फ अपने भत्ते का।  

सरकारी आंकड़ों के अनुसार फिलहाल रजिस्टर्ड बेरोजगारों में जयपुर जिला अव्वल नंबर पर है । यहां कुल बेरोजगारों का 10.22 फीसदी है। इसके बाद सीकर में 8.84 तो अलवर में बेरोजगारों की संख्या प्रदेशभर के बेरोजगारों की तुलना में 8.40 फीसदी है। बेरोजगार युवाओं का कहना है कि कांग्रेस ने बेरोजगारी भत्ते का ऐलान कर उन्हें भारी राहत देने का काम किया है, लेकिन भारी भरकम आर्थिक भार के चलते यह देना संभव हो पाएगा अथवा नहीं यह बड़ा सवाल है। अलबत्ता युवाओं की मांग है कि सरकार अब जल्द से जल्द उन्हें बेरोजगारी भत्ता शुरु कर देना चाहिए। कई का कहना है कि यह अमल लोकसभा चुनाव से पहले हो जाना चाहिए। 

बेरोजगारों की असल संख्या रजिस्ट्रेशन की तुलना में काफी ज्यादा है। राजस्थान बेरोजगार संघ के प्रदेशाध्यक्ष उपेन यादव का दावा है कि राज्य में इस समय करीब 50 लाख युवा बेरोजगार हैं। यादव का कहना है सरकारी रिकॉर्ड में यह संख्या काफी कम है क्योंकि ज्यादातर बेरोजगार रजिस्ट्रेशन नहीं करवाते। बेरोजगारी भत्ते की घोषणा के साथ ही अब रजिस्ट्रेशन कराने वालों की संख्या में तेजी से इजाफा होगा। इधर रोजगार कार्यालय से जुड़े अफसरों का कहना है कि बेरोजगारी भत्ते को लेकर जो भी फैसला करना है वो मुख्यमंत्री के स्तर पर ही होगा, उनका काम सिर्फ रजिस्ट्रेशन का है । 

राज्य में कहां कितने रजिस्टर्ड बेरोजगार-
अजमेर      20289
अलवर       51831
बांसवाड़ा    6273
बारां          7720
बाडमेर      7561
भरतपुर      26784
भीलवाड़ा   12572
बीकानेर     14614
बूंदी          9203
चित्तौड़गढ़   6717
चुरु          23284
दौसा        26866
धौलपुर      12979
डूंगरपुर      3845
गंगानगर    16566
हनुमानगढ़  25788
जयपुर      63043
जैसलमेर    3342
जालौर      5777
झालावाड़   12393
झुंझुनू      52217
जोधपुर    25362
करोली    14501
कोटा      16420
नागौर      22141
पाली        11652
प्रतापगढ़    2887
राजसमंद    5479
सवाईमाधोपुर 15993
सीकर        54510
सिरोही      7286
टोंक        15501
उदयपुर     9159

बेरोजगारी भत्ते की क्राइटेरियों को लेकर कई सवाल खड़े होंगे। इसमें शैक्षणिक योग्यता, उम्र को लेकर एक डेडलाइन तय करना सरकार के लिए बड़ी चुनौती होगी।  बेरोजगारों का कहना है कि सरकार के स्तर पर इस मामले पर सर्वमान्य हल निकाला जाना चाहिए जिससे सरकार के असल मकसद का युवा बेरोजगारों को फायदा मिल सके। 

First India News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे!
हर पल अपडेट रहने के लिए अभी डाउनलोड करें First India News Mobile Application
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBE चैनल को विजिट करें

और पढ़ें

Most Related Stories

Stories You May be Interested in