सरकार के पास नहीं है राज परिवार की संपत्ति का ब्यौरा, मुख्य सचिव ने दिए निर्देश 

Dr. Rituraj Sharma Published Date 2019/09/18 05:58

जयपुर: संपदा और जीएडी विभाग को राज परिवार की संपत्ति का ब्यौरा न होने की फर्स्ट इंडिया की खबर का असर हुआ है. आखिरकार मुख्य सचिव डी बी गुप्ता ने कल इसे लेकर उच्च स्तरीय बैठक लेकर निर्देश दिया है कि सारे कलेक्टर्स और दिल्ली में केंद्रीय गृह मंत्रालय के अधिकारियों को पत्र लिखकर पूरा ब्यौरा लिया जाए. एक बार पूरी जानकारी आने के बाद सरकार कोर्ट में हलफनामा देकर ब्यौरा पेश करेगी.

सरकार के पास नहीं संपत्ति का पूरा विवरण:
दरअसल आजादी के 7 दशक बाद और रियासतों के विलय के 6 दशक से ज्यादा समय होने पर भी राज्य सरकार के पास राज परिवारों की संपत्ति का पूरा विवरण नहीं है. ऐसे में कल मुख्य सचिव डी बी गुप्ता ने राज परिवार की संपत्तियों का ब्योरा लेने के लिए सारे जिलों के कलेक्टर्स को पत्र लिखने के निर्देश दिए हैं. पत्र के जरिए कलेक्टर्स से उनके जिलों में तमाम राजपरिवार की संपत्तियों का ब्यौरा मांगा जाएगा. साथ ही दिल्ली के केंद्रीय गृह मंत्रालय को भी पत्र लिखकर उनके पास उपलब्ध राज परिवार की संपत्तियों का पूरा रिकॉर्ड मांगा जाएगा. हालांकि इन संपत्तियों को लेकर कई बार मामले सामने आते रहे हैं और इनमें से कुछ को लेकर विवाद भी होता रहा है. 

ऐसी कुछ संपत्तियां:
इन सम्पतियों में जनानी ड्योढी, बादल महल, पुरानी विधानसभा, जलेब चौक, अमरूदों का बाग, रामबाग चौराहे पर कॉर्नर का हिस्सा, एसएमएस इन्वेस्टमेंट सेंटर, जय महल होटल, राजभवन के सामने बंगला नंबर 15 और 16 मानी जा रही हैं. यही बात जयपुर के आतिश मार्केट और अलवर के जनवासा के लिए भी कही जाती रही है. इन्हें लेकर स्वतंत्र याचिकाकर्ता की ओर से जानकारी ली गई है. एक बार तमाम तथ्य इकट्ठे करने के बाद सरकार हलफनामा देकर कोर्ट में मामले में वस्तुस्थिति सामने रखेगी. 

विवादों के चलते काम खासा मुश्किल:
गौरतलब है कि लोक संरक्षण संपत्ति की याचिका पर कोर्ट में यह मामला जारी है, जिसमें राज्य सरकार को हलफनामा देकर बताना है कि राज परिवार की कितनी संपत्ति है. सरकार की इस पहल के बाद माना जा रहा है कि एकबारगी सरकार के पास राज परिवारों का तमाम रिकॉर्ड उपलब्ध हो जाएगा. हालांकि संपत्तियों को लेकर अलग-अलग विवाद के मद्देनजर यह काम खासा मुश्किल भी माना जा रहा है. 

... संवाददाता ऋतुराज शर्मा की रिपोर्ट 
 

First India News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे!
हर पल अपडेट रहने के लिए अभी डाउनलोड करें First India News Mobile Application
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBE चैनल को विजिट करें

और पढ़ें

Most Related Stories

Stories You May be Interested in