Live News »

सरकारी कर्मचारियों को मिलेगा 5 प्रतिशत बढ़ा हुआ डीए, वित्त विभाग ने जारी किए आदेश

सरकारी कर्मचारियों को मिलेगा 5 प्रतिशत बढ़ा हुआ डीए, वित्त विभाग ने जारी किए आदेश

जयपुर: लॉक डाउन के बीच गहलोत सरकार ने करीब 9 लाख सरकारी कर्मचारियों, पेंशनर्स और वर्ग चार्ज कर्मचारियों को बढ़े हुए डीए के आदेश जारी करके बड़ी राहत दी है. अब सरकारी कर्मचारियों का डीए बढ़कर 12 से 17 प्रतिशत हो गया है. यह बढ़ा हुआ DA उन्हें 1 जुलाई 2019 से मिलेगा. इससे सरकारी खजाने पर करीब 400 करोड़ का भार आने की संभावना है. वित्त विभाग ने आज केंद्र के 1 जुलाई 2019 से दिए जाने वाले 5 प्रतिशत बढ़े हुए डीए के आदेश जारी कर दिए.

राष्ट्रपति और उपराष्ट्रपति की कोरोना समीक्षा वीसी, राज्यपाल कलराज मिश्र ने  बताया-राजस्थान में घर-घर कराया गया है सर्वे 

1 अप्रैल को मिले वेतन में मिलेगा:
आदेश के तहत 1 जुलाई 2019 से 29 फरवरी 2020 तक के बढ़े हुए डीए की राशि सरकारी कर्मचारियों के जीपीएफ खाते में दी जाएगी जबकि नकद भुगतान 1 मार्च 2020 से देय होगा जो कि उन्हें 1 अप्रैल को मिले वेतन में मिलेगा. कंट्रीब्यूटरी पेंशन स्कीम से जुड़े और 1 जनवरी 2004 व उसके बाद नियुक्त हुए सरकारी कर्मचारियों को 1 जुलाई 2019 से 29 फरवरी 2020 तक के बढ़े हुए डीए का एरियर अप्रैल 2020 में मिलेगा और नकद राशि 1 मार्च 2020 से देय होगी जो कि अप्रैल को मिलने वाले वेतन में दी जाएगी.

औपचारिक रूप से यह आदेश जारी:
लॉक डाउन में आम जनता को राहत देने की सरकार की कोशिशों के बीच इस बढ़े हुए डीए के आदेश जारी करके बड़ी राहत दी है. दरअसल केंद्र ने अक्टूबर में सरकारी कर्मचारियों का डीए 12 प्रतिशत से बढ़ाकर 17 प्रतिशत कर दिया था और इसे 1 जुलाई 2019 से दिया था. लेकिन राज्य सरकार की खराब माली हालत के मद्देनजर यह बढ़ा हुआ डीए नहीं दिया गया था. मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने बजट में इसे दिए जाने की घोषणा की थी जिसके बाद 14 मार्च को इसका फाइल पर अनुमोदन किया गया और आज औपचारिक रूप से यह आदेश जारी किया गया.

India Lockdown: लॉकडाउन के बीच फैंस को बड़ा तोहफा, फिर से प्रसारित होगी रामानंद सागर की रामायण

इससे करीब साढ़े 7 लाख मौजूदा सरकारी कर्मचारियों,करीब डेढ़ लाख से ज्यादा पेंशनर्स और वर्क चार्ज कर्मियों को लाभ मिलेगा. वहीं हाल ही में केंद्र सरकार ने सरकारी कर्मचारियों का दिए 17 से बढ़ाकर 21 प्रतिशत कर दिया यानी डीए 4 बढ़ाया जिसका लाभ अभी राज्य सरकार को देना बाकी है इसके लिए सरकारी कर्मचारियों को और इंतजार करना पड़ सकता है.

और पढ़ें

Most Related Stories

Rajasthan Corona Updates: राजस्थान में कोरोना मरीजों का आंकड़ा 10 हजार पार, पिछले 24 घंटे में 5 की मौत, 222 नए पॉजिटिव केस

जयपुर: राजस्थान में शुक्रवार को कोरोना मरीजों का आंकड़ा 10 हजार पार पहुंच गया. राजस्थान में कुल 218 लोगों की अब तक कोरोना की चपेट में आने से मौत हो चुकी है. वहीं कुल पॉजिटिव मरीजों की संख्या 10084 पहुंच गई है. कुल 7359 मरीज पॉजिटिव से नेगेटिव हुए है. वहीं 6818 मरीज अस्पताल से डिस्चार्ज किए गए है. कुल 2507 एक्टिव मरीज अस्पताल में उपचाररत है. अब तक कोरोना पॉजिटिव प्रवासियों की संख्या 2913 पहुंच गई है. 

पिछले 24 घंटे में 5 मरीजों की मौत:
पिछले 24 घंटे में 5 मरीजों की मौत हो गई. जबकि 222 नए पॉजिटिव केस सामने आये है. अजमेर में 2, जयपुर-सवाईमाधोपुर में 1-1 मरीज की मौत हो गई. जबकि राज्य से बाहर के एक मरीज की मौत हुई. सर्वाधिक 51 पॉजिटिव मरीज अकेले जोधपुर में चिह्नित किए गए है. बारां 4, भरतपुर 42, भीलवाड़ा 3, जयपुर 16 मरीज पॉजिटिव, झालावाड़ 24, झुंझुनूं 8, कोटा 2, नागौर में 9 मरीज पॉजिटिव, पाली 19, राजसमंद 12, सवाई माधोपुर एक, सीकर 17 मरीज पॉजिटिव, सिरोही 10, उदयपुर में 1 और राज्य से बाहर के 3 मरीज पॉजिटिव मिले है. 

मंत्री रघु शर्मा का पलटवार, कहा-भाजपा में दोयम दर्जे के नेताओं के हाथ में राजस्थान का नेतृत्व

जयपुर के रामगंज में फिर एक्टिव मोड में कोरोना:
जयपुर के रामगंज में फिर कोरोना एक्टिव मोड में आता नजर आ रहा है. जयपुर में पिछले 24 घंटे में एक मरीज की मौत हो गई. जबकि 16 नए पॉजिटिव केस सामने आये है. अकेले रामगंज में 6 नए पॉजिटिव केस सामने आए है. गुर्जर घाटी आमेर रोड,आनंद विहार टोंक रोड,राजस्थान विश्वविद्यालय, भोजपुरा फागी,घाटगेट,आदर्श नगर,चांदपोल,बनीपार्क लालकोठी और दुर्गापुरा में एक एक नया पॉजिटिव केस सामने आया है. जयपुर में अब तक 102 मरीजों की मौत हो गई है. वहीं कुल 2152 पॉजिटिव केस अब तक मिल चुके है.

मुंबई से जयपुर तक आ गई कोरोना पॉजिटिव महिला, जयपुर जंक्शन पर स्टेशन से बाहर निकलते समय हुई मौत

3 वरिष्ठ आईपीएस बने डीजी, बीएल सोनी, उत्कल रंजन साहू, के. नरसिम्हा राव बने डीजी

3 वरिष्ठ आईपीएस बने डीजी, बीएल सोनी, उत्कल रंजन साहू, के. नरसिम्हा राव बने डीजी

जयपुर: सीएस डीबी गुप्ता की अध्यक्षता में शुक्रवार को स्क्रीनिंग कमेटी की हुई बैठक के बाद आखिरकार सरकार ने बड़ा निर्णय लेते हुए 4 आईपीएस को पदोन्नति दी है, इनमें राजस्थान सरकार में काम कर रहे 3 एडीजी को डीजी बनाया है, जबकि पंकज कुमार सिंह को परफॉर्मा पदोन्नति दी गई है. इसके तहत बीएल सोनी, उत्कल रंजन साहू और के. नरसिम्हा राव को डीजी पद पर प्रमोट कर दिया गया है और आईपीएस पंकज कुमार सिंह को परफॉर्मा पदोन्नति दी गई है.

मंत्री रघु शर्मा का पलटवार, कहा-भाजपा में दोयम दर्जे के नेताओं के हाथ में राजस्थान का नेतृत्व

सीएम गहलोत ने इन अधिकारियों के प्रमोशन का किया अनुमोदन:
शुक्रवार को मुख्य सचिव डी बी गुप्ता की अध्यक्षता में 1988 बैच के आईपीएस अधिकारियों की स्क्रीनिंग की गई. इसके बाद मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने इन अधिकारियों के प्रमोशन का अनुमोदन किया है, जिसके बाद कार्मिक विभाग ने आदेश जारी किया. इन अधिकारियों को अपने मौजूदा विभाग में ही कार्यरत रखते हुए डीजी पद पर प्रमोट किया गया है.  इनमें पंकज कुमार सिंह को इसलिए परफॉर्मा पदोन्नति दी गई है कि वे अभी केंद्रीय प्रतिनियुक्ति पर हैं. 

नरसिम्हा राव प्रमोट होकर हो सकेंगे रिटायर्ड:
शुक्रवार को मुख्य सचिव की अध्यक्षता में हुई बैठक में इन चारों नामों पर विचार करके निर्णय लिया गया कि पूरे बैच को डीजी पद पर प्रमोशन दिया जाए. पहले चर्चाओं में बीएल सोनी के डीजी पद पर प्रमोट होने की बात कही जा रही थी. क्योंकि डीजी जेल के पद पर काम कर रहे एनआरके रेड्डी के रिटायरमेंट के बाद एक ही पद रिक्त माना जा रहा था. लेकिन आखिरकार सरकार ने पूरे 1988 बैच को प्रमोट करने का बड़ा निर्णय लिया. इस आदेश के बाद नरसिम्हा राव प्रमोट होकर रिटायर्ड हो सकेंगे. उनका रिटायरमेंट जून में ही है हालांकि उनकी जन्मतिथि के हिसाब से 1 जुलाई 2020 को रिटायरमेंट होता है लेकिन माह की पहली तारीख को रिटायरमेंट होने वाले अफसरों को 1 दिन पहले रिटायर्ड करने की परंपरा है.

मुंबई से जयपुर तक आ गई कोरोना पॉजिटिव महिला, जयपुर जंक्शन पर स्टेशन से बाहर निकलते समय हुई मौत

मुंबई से जयपुर तक आ गई कोरोना पॉजिटिव महिला, जयपुर जंक्शन पर स्टेशन से बाहर निकलते समय हुई मौत

जयपुर: मुम्बई सेंट्रल स्टेशन से जयपुर पहुंची स्पेशल ट्रेन में गुरुवार को एक महिला यात्री कोरोनो पॉजिटिव पाई गई. जयपुर जंक्शन पर पहुंचते ही महिला यात्री की मौत हो गई. कोरोना जांच में पॉजिटिव मिलते ही रेलवे अफसरों में हड़कम्प मच गया. दरअसल महाराष्ट्र के ठाणे की एक महिला यात्री बुधवार शाम साढ़े छह बजे मुंबई से स्पेशल ट्रेन में सवार हुई थी.

वंदे भारत मिशन का तीसरा चरण 10 जून से, विदेशों में पढ़ रहे करीब 900 विद्यार्थी लौटेंगे जयपुर

एस-2 कोच में बैठकर महिला यात्री पहुंची जयपुर:
ट्रेन के एस-2 कोच में बैठकर महिला यात्री जयपुर पहुंची. गुरुवार को दोपहर जब वह जयपुर जंक्शन पहुंची और स्टेशन से बाहर निकलने लगी तो पोर्च में ही गिरकर उसकी मौत हो गई. शव का पोस्टमार्टम करवाया गया, जिसमें दिल का दौरा पड़ने की जानकारी सामने आई है.

चिकित्सक समेत 5 कर्मचारियों को किया क्वारंटीन:
महिला यात्री की कोरोना जांच भी करवाई गई, जिसमें पॉजिटिव मिलने पर रेलवे अफसरों में हड़कम्प मच गया. महिला यात्री की रिपोर्ट पॉजिटिव मिलने पर रेलवे प्रशासन ने उसके संपर्क में आए अपने चिकित्सक सहित पांच कर्मचारियों को क्वारंटीन कर दिया है. साथ ही कोच में बैठकर आए 70 सह यात्रियों की खोज कर उन्हें क्वारंटीन किए जाने की कवायद की जा रही है.

मंत्री रघु शर्मा का पलटवार, कहा-भाजपा में दोयम दर्जे के नेताओं के हाथ में राजस्थान का नेतृत्व

इसलिए उठ रहे सवाल?
- पहली लापरवाही मुम्बई मंडल के अधिकारियों की सामने आ रही है
- ट्रेन में सवार होने से पहले क्या महिला यात्री की थर्मल स्क्रीनिंग नहीं की गई ?
- सभी यात्रियों के मोबाइल में आरोग्य सेतु एप होना चाहिए
- लेकिन महिला यात्री के सामान की जांच में मोबाइल ही नहीं मिला

...काशीराम चौधरी, फर्स्ट इंडिया न्यूज, जयपुर

मंत्री रघु शर्मा का पलटवार, कहा-भाजपा में दोयम दर्जे के नेताओं के हाथ में राजस्थान का नेतृत्व

मंत्री रघु शर्मा का पलटवार, कहा-भाजपा में दोयम दर्जे के नेताओं के हाथ में राजस्थान का नेतृत्व

जयपुर: कोरोना रोकथाम के लिए जारी खरीद फरोख्त में भ्रष्टाचार को लेकर भाजपा के आरोपों पर चिकित्सा मंत्री डॉ रघु शर्मा ने बड़ा पलटवार किया.एसएमएस में आयोजित एक कार्यक्रम में पूछे गए सवाल के जवाब में चिकित्सा मंत्री रघु शर्मा ने कहा कि भाजपा में सीधे तौर पर वर्टिकल डिवीजन है.मौजूदा समय में प्रदेश में बीजेपी का दोयम दर्जे का नेतृत्व है.प्रदेश भाजपा के नेता घर बैठे बयानवीर बन रहे है.चिकित्सा मंत्री डॉ रघु शर्मा शुक्रवार को विश्व पर्यावरण दिवस के मौके पर एसएमएस अस्पताल के ट्रोमा वार्ड में सामाजिक एवं आर्थिक विकास संस्थान द्वारा आयोजित वृक्षारोपण कार्यक्रम में शिरकत कर रहे थे.

भाजपा में सीधे तौर पर है वर्टिकल डिवीजन:
इस दौरान भाजपा नेताओं के आरोपों पर चिकित्सा मंत्री ने कटाक्ष किया और कहा कि एक तरफ केंद्र में मौजूद बीजेपी के नेता कोरोना को लेकर राजस्थान में हो रहे कार्य की तारीफ करते हैं वहीं दूसरी ओर प्रदेश के भाजपा नेता सरकार पर सवाल उठा रहे हैं. प्रदेश में इस समय भाजपा का नेतृत्व दोयम दर्जे के नेताओं के हाथ में है और भाजपा में सीधे तौर पर वर्टिकल डिवीजन दिख रहा है.चिकित्सा मंत्री रघु शर्मा ने तो यहां तक कह दिया कि राजस्थान के इन बीजेपी नेताओं को कौन पूछ रहा है.मंत्री ने यह भी कहा कि भले ही बीजेपी के नेता आरोप लगा रहे हो लेकिन बीजेपी का एक भी नेता संक्रमित क्षेत्र में नहीं गया और महज आरोप लगाए जा रहे हैं. यहां बता दें कि आरएमएससीएल में कथित भ्रष्टाचार को लेकर भाजना नेता कांग्रेस पर लगातार आरोप लगा रहे है.

राज्यसभा चुनाव की गणित में कांग्रेस आगे, 13 निर्दलीय विधायकों का गहलोत को समर्थन

निरोगी राजस्थान के 10 बिंदुओं में पर्यावरण को अहमियत:
इससे पहले कार्यक्रम में चिकित्सा मंत्री ने कहा कि राज्य सरकार द्वारा नरेगा के कामों में भी ज्यादा से ज्यादा पौधारोपण या वृक्षारोपण के काम को अनुमत किया है.इसके अलावा निरोगी राजस्थान के 10 बिंदुओं में पर्यावरण को अहमियत दी गई है.उन्होंने आमजन का आव्हान करते हुए कहा कि पर्यावरण का संरक्षण करके आने वाले कल को संवारा जा सकता है.चिकित्सा मंत्री ने कहा कि सामाजिक एवं आर्थिक विकास संस्थान पिछले 13 वर्षों से पौधारोपण का कार्य कर रहा है.ऐसे पुनीत कार्यों में सभी संगठनों और संस्थाओं को आगे आना चाहिए. उन्होंने कहा कि प्रदेश का पर्यावरण जितना अधिक संतुलित रहेगा प्रदेश में उतनी ही अच्छी बारिश होगी. उन्होंने कोरोना काल में युद्ध स्तर पर कार्य कर रहे चिकित्सकों और स्टाफ की प्रशंसा की और बतौर कोरोना वारियर्स उनका सम्मान भी किया. उन्होंने इस अवसर पर ट्रॉमा प्रांगण में वृक्षारोपण भी किया. कार्यक्रम में सवाई मानसिंह मेडिकल कॉलेज के प्राचार्य डॉ सुधीर भंडारी, अस्पताल के अधीक्षक राजेश शर्मा, अति अधीक्षक अजीत सिंह, डॉ जगदीश मोदी, डॉ एनएस चौहान, गिरीश चौहान,राजस्थान राज्य नर्सेज एसोसिएशन के प्रदेशाध्यक्ष राजेंद्र सिंह राना और अन्य गणमान्य उपस्थित रहे.

वंदे भारत मिशन का तीसरा चरण 10 जून से, विदेशों में पढ़ रहे करीब 900 विद्यार्थी लौटेंगे जयपुर

 वंदे भारत मिशन का तीसरा चरण 10 जून से, विदेशों में पढ़ रहे करीब 900 विद्यार्थी लौटेंगे जयपुर

जयपुर: विदेशों में फंसे भारतीयों को स्वदेश लाने के लिए केन्द्र सरकार वंदे भारत मिशन का तीसरा फेज शुरू करने जा रही है. इस फेज में भी जयपुर अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट से फ्लाइट्स का संचालन होगा. हालांकि तीसरे फेज में दूसरे फेज की तुलना में कम संख्या में फ्लाइट जयपुर आएंगी. कौन-कौन से देशों से फ्लाइट आएंगी जयपुर. प्रवासी भारतीयों को स्वदेश लाने का सिलसिला पिछले माह शुरू हुआ था. केन्द्र सरकार ने 7 मई से वंदे भारत मिशन की शुरुआत की थी. पहला फेज हालांकि केवल एक सप्ताह का था, लेकिन इसके बाद दूसरा फेज करीब 15 दिन तक चला है. दोनों फेज में बड़ी संख्या में विदेशों में फंसे प्रवासी भारतीयों को लाने के लिए फ्लाइट्स संचालित की गई हैं.

सीएम गहलोत ने की राजकौशल पोर्टल की लॉन्चिंग, सीएमआर से वेबीनार के माध्यम से लॉन्चिंग

वंदे भारत मिशन का तीसरा चरण 10 जून से:
एयर इंडिया और इसके साथ समझौते में जुड़ी एयरलाइन्स के जरिए विदेशों से भारतीयों को लाया गया है. कल जयपुर एयरपोर्ट से वंदे भारत मिशन के दूसरे फेज की अंतिम फ्लाइट संचालित की गई. अब मिशन का तीसरा फेज 10 जून से शुरू होने जा रहा है, जो 1 जुलाई तक चलेगा. 22 दिन के इस शेड्यूल में कुल 356 फ्लाइट संचालित की जाएंगी. इनमें से 6 फ्लाइट विदेशों से दिल्ली होकर जयपुर आएंगी. दरअसल जयपुर और प्रदेश के अन्य जिलों के विद्यार्थी बड़ी संख्या में मध्य एशिया के देशों में पढ़ाई करते हैं. इनमें सबसे ज्यादा मेडिकल के विद्यार्थी हैं जो कि कजाकिस्तान, रूस, यूक्रेन, किर्गिजिस्तान आदि देशों में पढ़ाई कर रहे हैं. अब आपको बताते हैं कि तीसरे फेज के तहत कौन-कौनसे देशों से फ्लाइट जयपुर आएंगी.

जानिए, कब-कब जयपुर आएंगी फ्लाइट?
- 15 जून शाम 5:55 बजे बिस्केक, किर्गिजिस्तान से दिल्ली होकर फ्लाइट AI-1920 आएगी
- 19 जून शाम 6:40 बजे अल्माटी, कजाकिस्तान से दिल्ली होकर फ्लाइट AI-1916 आएगी
- 20 जून शाम 7:50 बजे अस्ताना, कजाकिस्तान से दिल्ली होकर फ्लाइट AI-1918 आएगी
- 23 जून शाम 4:05 बजे दुशांबे, तजाकिस्तान से दिल्ली होकर फ्लाइट AI-1926 आएगी
- 25 जून रात 12:30 बजे कीव, यूक्रेन से दिल्ली होकर फ्लाइट AI-1928 आएगी
- 29 जून रात 11:35 बजे मॉस्को, रूस से दिल्ली होकर फ्लाइट AI-1924 आएगी

राज्यसभा चुनाव की गणित में कांग्रेस आगे, 13 निर्दलीय विधायकों का गहलोत को समर्थन

अब इन फ्लाइट्स के आगमन को लेकर तैयारियां शुरू: 
तीसरे फेज की शुरुआत से पहले जयपुर एयरपोर्ट प्रशासन ने अब इन फ्लाइट्स के आगमन को लेकर तैयारियां शुरू कर दी हैं. इसके लिए जिला प्रशासन, नगर निगम, जेडीए, चिकित्सा विभाग के अधिकारियों का सहयोग लिया जाएगा. वंदे भारत मिशन की फ्लाइट्स के यात्रियों की स्क्रीनिंग के लिए चिकित्सा विभाग के काउंटर पहले से बनाए हुए हैं. यहां पुराने अराइवल हॉल को वंदे भारत मिशन की इन्हीं फ्लाइट्स के लिए आरक्षित रखा जाएगा. आपको बता दें कि वंदे भारत मिशन के दूसरे फेज में कुल 22 फ्लाइट जयपुर पहुंची थी. ये फ्लाइट 22 मई से 4 जून के बीच में जयपुर पहुंचीं. अंतिम फ्लाइट गुरुवार देर रात दुबई से जयपुर पहुंचीं. ये फ्लाइट्स ब्रिटेन, कजाकिस्तान, रूस, यूक्रेन, किर्गिजिस्तान, तजाकिस्तान, कनाड़ा, जॉर्जिया, कुवैत और दुबई से जयपुर आई थीं. इन फ्लाइट्स के जरिए 3071 प्रवासी राजस्थानी जयपुर लौटे थे. अब तीसरे फेज में 6 फ्लाइट्स के जरिए करीब 900 प्रवासी राजस्थानी जयपुर लौट सकेंगे. हालांकि अभी इस शेड्यूल में मांग बढ़ने पर अन्य फ्लाइट भी जुड़ सकती हैं, एयर इंडिया प्रबंधन ने कहा है कि जरूरत होने पर लास्ट मोमेंट पर भी फ्लाइट संचालित की जा सकेंगी.

...काशीराम चौधरी, फर्स्ट इंडिया न्यूज, जयपुर

राज्यसभा चुनाव की गणित में कांग्रेस आगे, 13 निर्दलीय विधायकों का गहलोत को समर्थन

जयपुर: राज्यसभा चुनावों की गणित में कांग्रेस आगे है कारण साफ है निर्दलीय विधायक अभी तक मुख्यमंत्री अशोक गहलोत को साथ है , इनकी कोई बड़ी नाराजगी अभी तक नजर नहीं आई है. 13 निर्दलीय जीतकर आये थे चुनाव इनमें से अधिकांश पहले से ही कांग्रेस और गहलोत समर्थक माने जाते है. निर्दलीय विधायकों ने कहा कि कांग्रेस के दोनों उम्मीदवार जीतेंगे ,हालांकि उन्होंने इस बात से इंकार नहीं किया कि बीजेपी ने उनसे संपर्क साधा था. अशोक गहलोत को क्यों जादूगर कहा जाता है यह राजस्थान की सियासी जमीं अब भली भांति जानने और पहचानने में लग गई है. राज्यसभा चुनाव तो आज हो रहे हैं लेकिन गहलोत ने निर्दलीय विधायकों को चुनाव जीतने के बाद ही अपना बना लिया था. उन निर्दलीय विधायकों का समर्थन हासिल हो गया था जिन्होंने बागी होकर चुनाव जीता था ,साथ ही उनका भी जो बतौर निर्दलीय चुनाव जीते. दूदू से निर्दलीय विधायक बाबू लाल नागर तो गहलोत को अपना पॉलिटिकल गॉडफादर मानते है.  

कांग्रेस विचारधारा के वो निर्दलीय विधायक जो गहलोत के साथ

-महादेव सिंह खंडेला,विधायक खंडेला
-शेखावाटी के कद्दावर जाट नेता
-पहले रह चुके खंडेला से कांग्रेस विधायक
-सीकर से सांसद रह चुके और केन्द्र सरकार में मंत्री
-अशोक गहलोत के करीबी माने जाते है

-बाबू लाल नागर,विधायक दूदू
-बाबू लाल नागर जीते है दूदू से बागी होकर चुनाव
-पिछली गहलोत सरकार में रह चुके खाद्य मंत्री
-गहलोत को मानते है राजनीतिक गॉडफादर
-दूदू से चौथी बार चुने गये है विधायक

-संयम लोढ़ा,विधायक सिरोही
-सिरोही से बागी होकर चुनाव जीते संयम लोढ़ा
-जालोर-सिरोही के बड़े नेताओं में संयम की गिनती
-पहले रह चुके सिरोही से कांग्रेस के विधायक
-डॉ सीपी जोशी के करीब कहे जाते है
-हालांकि नीरज डांगी से पुरानी अदावत की चर्चा

-रामकेश मीना,विधायक गंगापुर सिटी
-रामकेश मीना बने निर्दलीय विधायक
-गंगापुर सिटी से बागी होकर जीता विस चुनाव
-पिछली गहलोत सरकार में रहे थे रामकेश थे संसदीय सचिव
-कट्टर गहलोत समर्थक कहे जाते है

 -खुशवीर सिंह जोजावर,विधायक मारवाड़-जंक्शन
-जोजावर बने मारवाड़ जंक्शन से निर्दलीय विधायक
-पहले 1बार कांग्रेस पार्टी से रह चुके है विधायक
-गहलोत के धुर समर्थक माने जाते है

-आलोक बेनीवाल,विधायक शाहपुरा
-आलोक बेनीवाल ने जीता था शाहपुरा से चुनाव
-राव राजेन्द्र सिंह जैसे दिग्गज को हराया था चुनाव
-पूर्व राज्यपाल डॉ कमला के पुत्र है आलोक
-कांग्रेस में गहलोत और पायलट दोनों की पसंद

-बलजीत यादव,विधायक बहरोड़
-यादव सियासत के नये दिग्गज
-बलजीत यादव जीते है बहरोड़ से निर्दलीय चुनाव
-कांग्रेस से टिकट मांगा था लेकिन नहीं मिला था
-पहले भी बहरोड़ से चुनाव लड़ा लेकिन कम अंतर से हारे
-मजदूर हितों के संघर्ष की राजनीति से चमके
-अशोक गहलोत और भंवर जितेन्द्र के माने जाते है समर्थक

-लक्ष्मण मीना,विधायक बस्सी
-बस्सी से बागी होकर जीते थे लक्ष्मण मीना चुनाव
-पहले लड़ चुके कांग्रेस टिकट पर दौसा से लोस चुनाव
-चुनाव जीतते ही कह दिया था मैं अशोक गहलोत के साथ
-सचिन पायलट से भी नजदीकियां

-राजकुमार गौड़,विधायक श्रीगंगानगर
-राजकुमार गौड़ ने जीता श्रीगंगानगर से बागी होकर चुनाव
-पहली बार बने है विधायक
-सरल छवि के नेता और कांग्रेस के कद्दावर नेता रहे
-गौड़ को जनता ने ही चुनाव लड़ाया और जीताया भी
-चुनाव जीतते ही गहलोत आवास पहुंच गये थे गौड़
-कांग्रेस और गहलोत के प्रबल समर्थक 

-रमीला खडिया,विधायक ,कुशलगढ़
-रमीला खडिया ने जीता सलूम्बर से बागी होकर चुनाव
-खडिया के कारण रघुवीर मीना हार गये थे चुनाव
-खडिया पहले प्रधान रही और कांग्रेस की कद्दावर नेता
-आदिवासी महिला नेता के तौर पर खडिया की छवि

भाजपा के बागी जो कांग्रेस के साथ

-ओम प्रकाश हुडला महुवा विधायक
-हुडला भाजपा में आने से पहले कांग्रेस विधायक थे
-राजे सरकार में रह चुके संसदीय सचिव
-अभी मुरीद है सी एम अशोक गहलोत के

एक बार फिर सुर्खियों में छाई बीजेपी नेता सोनाली फोगाट, मार्केट कमेटी के अफसर को जड़ा थप्पड़

-सुरेश टांक,विधायक किशनगढ़
-सुरेश टांक होंगे अभी कांग्रेस के साथ
-किशनगढ़ से निर्दलीय विधायक है टांक
-टांक को भाजपा से नहीं मिल पाया था टिकट
-मूल रुप से भाजपा -संघ से रहा है सुरेश टांक का नाता
-भाजपा में मंडल से लेकर जिला इकाइयों में विभिन्न पदों पर रहे
-भाजपा ने भी टांक से साधा संपर्क
 
कभी बीजेपी से विधायक रहे ओम प्रकाश हुडला पूरी तरह गहलोत के साथ है उन्होंने तो यहां तक कह दिया कि कोरोना में जैसा काम अशोक गहलोत ने किया है उन्हें देश में बेस्ट चीफ मिनिस्टर घोषित करना चाहिए. 

गैर कांग्रेसी निर्दलीय ,कांग्रेस के साथ

-कांति प्रसाद मीना,विधायक थानागाजी
-कांति प्रसाद मीना आये कांग्रेस के साथ
-थानागाजी से निर्दलीय विधायक बने कांति मीना
-गहलोत के प्रति इन्होंने चुनाव जीतते ही आस्था जता दी थी

सीएम गहलोत ने की राजकौशल पोर्टल की लॉन्चिंग, सीएमआर से वेबीनार के माध्यम से लॉन्चिंग

निर्दलीय विधायकों ने लोकसभा चुनावों में कई जगह कांग्रेस का साथ दिया और विधानसभा में तो देते ही रहते है. हालांकि इनमें से कुछ के मन में बीएसपी छोडकर कांग्रेस में आये 6विधायकों को लेकर जरुर ठीस थी लेकिन माना यहीं जा रहा है कि समय रहते मन की इस पीड़ा का निवारण उच्च स्तर से किया गया. कांग्रेस आगे भी इन्हें साथ रखना चाहती है. लिहाजा मंत्रीपरिषद में शामिल करने के साथ ही संसदीय सचिव बनाये जा सकते है.ये अलग बात है कि 19 जून तक बीजेपी ने निर्दलीयों को साधने में पूरी ताकत का इस्तेमाल किया गया ,संघ विचारधारा के लोगों ने भी अपने स्तर पर प्रयास जारी रखे हुए है.

...फर्स्ट इंडिया के लिए योगेश शर्मा की रिपोर्ट

सीएम गहलोत ने की राजकौशल पोर्टल की लॉन्चिंग, सीएमआर से वेबीनार के माध्यम से लॉन्चिंग

सीएम गहलोत ने की राजकौशल पोर्टल की लॉन्चिंग, सीएमआर से वेबीनार के माध्यम से लॉन्चिंग

जयपुर: लाॅकडाउन के बाद आजीविका छिनने की पीड़ा झेल रहे श्रमिकों को आसानी से रोजगार मिल सके तथा श्रमिकों की कमी का सामना कर रहे उद्योगों को सुगमता से श्रमिक उपलब्ध हो सकें इसके लिए राज्य सरकार ने एक बड़ी पहल की है. मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने शुक्रवार को राजकौशल पोर्टल तथा ऑनलाइन श्रमिक एम्प्लाॅयमेंट एक्सचेंज का शुक्रवार को लॉन्चिंग की.गहलोत ने बीते दिनों कोरोना संक्रमण के कारण बड़ी संख्या में प्रदेश से श्रमिकों के पलायन तथा प्रवासी श्रमिकों के आगमन को देखते हुए ऑनलाइन लेबर एक्सचेंज बनाने के निर्देश दिए थे. 

एक बार फिर सुर्खियों में छाई बीजेपी नेता सोनाली फोगाट, मार्केट कमेटी के अफसर को जड़ा थप्पड़

जल्द ही मोबाइल ऐप प्लेटफार्म पर भी लाया जाएगा पोर्टल:
मात्र दो सप्ताह में ही यह पोर्टल तैयार किया गया है. आवश्यकता को देखते हुए इस पोर्टल को जल्द ही मोबाइल ऐप प्लेटफार्म पर भी लाया जाएगा. मुख्यमंत्री गहलोत ने अधिकारियों की जमकर तारीफ की और कहा कि तय समय मे यह काम किया गया है.श्रम सचिव डाॅ. नीरज के. पवन ने मुख्यमंत्री को बताया कि इस पोर्टल में 12 लाख प्रवासी श्रमिकों के साथ ही नियोजन कार्यालयों तथा भवन एवं अन्य संनिर्माण बोर्ड के पंजीकृत श्रमिकों, आरएसएलडीसी एवं आईटीआई में प्रशिक्षित कुल 53 लाख से अधिक श्रमिकों एवं जनशक्ति का डाटा शामिल किया गया है.

श्रमिक करा सकते है इस पोर्टल पर रजिस्ट्रेशन:
साथ ही करीब 11 लाख से अधिक नियोक्ताओं को भी इस पर पंजीकृत किया गया है. इसके अलावा कोई भी श्रमिक इस पोर्टल पर स्वयं का रजिस्ट्रेशन करा सकता है. वीडियो काॅन्फ्रेंस से शुभारम्भ के दौरान उद्योग मंत्री परसादीलाल मीणा, चिकित्सा एवं स्वास्थ्य मंत्री डाॅ. रघु शर्मा, परिवहन मंत्री प्रताप सिंह खाचरियावास, उद्योग राज्यमंत्री अर्जुन सिंह बामनिया, श्रम राज्यमंत्री  टीकाराम जूली, कौशल नियोजन एवं उद्यमिता राज्यमंत्री अशोक चांदना, आयोजना जनशक्ति राज्यमंत्री  राजेन्द्र सिंह यादव, मुख्य सचिव डीबी गुप्ता, अतिरिक्त मुख्य सचिव गृह राजीव स्वरूप, अतिरिक्त मुख्य सचिव उद्योग  सुबोध अग्रवाल, सूचना एवं जनसम्पर्क आयुक्त महेन्द्र सोनी सहित अन्य अधिकारी उपस्थित थे.

पर्यावरण संरक्षण के लिए कर ली पौधों से दोस्ती, 9 सालों से लगातार कर रहे हैं पर्यावरण संरक्षण का काम

प्रकृति से सामंजस्य बिठाते हुए विकास की राह पर आगे बढ़ना होगा: राज्यपाल कलराज मिश्र 

प्रकृति से सामंजस्य बिठाते हुए विकास की राह पर आगे बढ़ना होगा: राज्यपाल कलराज मिश्र 

जयपुर: विश्व पर्यावरण दिवस के मौके पर राजस्थान तकनीकी विश्वविद्यालय और इंडियन ग्रीन बिल्डिंग काउंसिल के संयुक्त तत्वाधान में वेबीनार का आयोजन किया गया. वेबीनार में राज्यपाल कलराज मिश्र ने राजभवन से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए संबोधित किया. राज्यपाल ने कहा कि प्रकृति से सामंजस्य बिठाते हुए ही विकास की राह पर हमें आगे बढ़ना होगा. यदि हम ऐसा नहीं करेंगे तो प्रकृति अपने दम पर सुधार करेगी और तब हमें प्रकृति का रौद्र रूप दिखाई देगा.जैसा इस समय कोविड-19 के दौर में हो रहा है. 

निजी ट्रेवल्स की बस और टैंकर की भिड़ंत में 12 घायल, गुडगांव से अहमदाबाद जा रही थी बस

ग्रामीण क्षेत्रों को बनाया जाए आत्मनिर्भर:
राज्यपाल ने कहा कि वर्तमान में चल रही वैश्विक महामारी कोविड-19 यह समझाने के लिए पर्याप्त है कि हमें प्रकृति की शरण में, प्रकृति के नियमों के अनुसार ही विकास के नए मार्ग तलाशने होंगे. प्रदेश भर के राज्य सरकार से जुड़े इंजीनियरिंग कॉलेजों के प्राचार्य और शिक्षकों को संबोधित करते हुए राज्यपाल ने कहा कि जिस तरह से वर्तमान समय में श्रमिकों को परेशानी हो रही है, ऐसे में यह जरूरी है कि ग्रामीण क्षेत्रों को आत्मनिर्भर बनाया जाए. ग्रामीण भारत को रोजगारोन्मुखी बनाना होगा.

ऑर्गेनिक खेती को देना होगा बढ़ावा: 
रासायनिक प्रदूषण जीवन के लिए खतरा है, खेती में भी रासायनिक पदार्थों का उपयोग करने के बजाय हमें ऑर्गेनिक खेती को बढ़ावा देना होगा. कलराज मिश्र ने कहा कि 50 वर्ष पूर्व जब प्लास्टिक का आविष्कार हुआ तब एक वरदान के रूप में अवतरित हुआ था, लेकिन अब प्लास्टिक प्रदूषण को हमें हर हाल में रोकना होगा. राज्यपाल ने शहरी विकास के नाम पर हो रहे कृषि भूमि के रूपांतरण को रोकने की जरूरत बताई. साथ ही कहा कि सतत विकास के लिए हमें ऊर्जा के गैर पारंपरिक स्रोतों का उपयोग करना होगा. वेबीनार में सीआईआई ग्रीन बिल्डिंग काउंसिल के केएस वेंकटगिरी और जैमिनी ओबेरॉय ने भी संबोधित किया. विश्वविद्यालय के कुलपति आरए गुप्ता ने स्वागत उद्बोधन दिया.

पर्यावरण संरक्षण के लिए कर ली पौधों से दोस्ती, 9 सालों से लगातार कर रहे हैं पर्यावरण संरक्षण का काम

Open Covid-19