48 घंटे में ही ऋण माफी योजना से सरकार ने किसानों को दी ऐतिहासिक राहत : उदयलाल आंजना

Nirmal Tiwari Published Date 2019/08/26 08:41

जयपुर: राजस्थान को सहकारिता के क्षेत्र में अग्रणी प्रदेश बनाए जाने के लिए सरकार द्वारा भरसक प्रयास किए जा रहे हैं और इससे सहकारिता जगत को सुदृढ़ स्वरूप प्राप्त हुआ है. सहकारिता मंत्री उदयलाल आंजना ने आज चित्तौड़गढ़ जिला मुख्यालय पर इन्दिरा गांधी प्रियदर्शिनी ऑडिटोरियम में चित्तौड़गढ़ सहकारी भूमि विकास बैंक लिमिटेड की ओर से राजस्थान कृषक ऋण माफी-2019 के अन्तर्गत आयोजित ऋण माफी एवं रहन मुक्ति प्रमाण पत्र वितरण समारोह को संबोधित कर रहे थे. 

सहकारिता मंत्री उदयलाल आंजना ने किसानों से आह्वान किया कि वे सहकारिता से जुड़ें और सहकारी योजनाओं एवं कार्यक्रमों का पूरा-पूरा लाभ प्राप्त कर तकदीर संवारें तथा सहकारिता के माध्यम से सुख-समृद्धि एवं खुशहाली लाने के प्रयासों में अपनी समर्पित भागीदारी अदा करें. 

किसानों की 860.28 हेक्टेयर भूमि रहन मुक्त:
सहकारिता मंत्री ने चित्तौड़गढ़ जिले के मध्यकालीन एवं दीर्घकालीन ऋण से संबंधित जिले के 800 पात्र ऋणियों के 9 करोड़ 45 लाख 61 हजार रुपए धनराशि के ऋण माफी एवं रहन मुक्ति प्रमाण पत्र वितरण कार्य की शुरूआत की तथा सहकारी बैंक की विभिन्न शाखाओं से संबंधित किसानों को इन प्रमाण पत्रों का वितरण किया. इससे बैंक के किसानों की 860.28 हेक्टेयर भूमि रहन मुक्त कर किसानों के नामे की गई. 

10 लाख का बीमा क्लेम प्रदान:
सहकारिता मंत्री ने राज सहकार व्यक्तिगत दुर्घटना बीमा योजना के अन्तर्गत बड़ी सादड़ी बैंक शाखा के बीमित ऋणी सदस्य स्व. पूरणमल जणवा के वारिस पारसमल जणवा को 10 लाख रुपए की धनराशि का चैक बीमा क्लेम के रूप में प्रदान किया. वहीं समारोह में बैंक द्वारा वर्ष 2017-18 की राजकीय हिस्सा पूंजी पर देय लाभांश राशि 4 लाख 56 हजार 250 रुपए का चैक राज्य सरकार को देने के लिए बैंक अध्यक्ष कमलेश पुरोहित एवं सचिव सौरभ शर्मा ने सहकारिता मंत्री उदयलाल आंजना को प्रदान किया।

सरकार ने दी ऐतिहासिक राहत:
सहकारिता मंत्री ने कहा कि घोषणा पत्र में किये वादे के अनुसार नई सरकार के शपथ लेने के 48 घंटे में ही ऋण माफी योजना लागू कर दी गई. जो लोग वास्तविक रूप से ऋण चुकाने में असमर्थ थे, उनका ऋण माफ कर उनकी भूमि को बैंक से रहन मुक्त कर ऋणी सदस्यों को राहत प्रदान की गई. पहले पहल ऋण माफी की घोषणा केवल केन्द्रीय सहकारी बैंक के फसली ऋण माफ करने तक ही सीमित थी, लेकिन किसानों के हित में सरकार ने पहल की और अब भूमि विकास बैंकों को भी ऋण माफी योजना में सम्मिलित किया गया है. इसी का परिणाम है कि किसानों को लाभ मिला है. 

मुख्यमंत्री का जताया आभार:
सहकारिता मंत्री उदयलाल आंजना ने किसानों की ऋण माफी योजना के सूत्रापात एवं पारदर्शी ढंग से बेहतर क्रियान्वयन के लिए प्रदेश के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत का आभार जताया और कहा कि उन्होंने किसानों सुख-चैन की नई जिन्दगी का अहसास कराया है. मुख्यमंत्री ने इस योजना के जरिये किसानों की चिन्ताओं को समाप्त करने के साथ ही बैंकों की भी मदद की है और इस दृष्टि से यह योजना दो तरफा सफलता दर्शा रही है. इस योजना से प्रदेश के 21 लाख किसानों को फायदा पहुंचा है. 

अधिक से अधिक संख्या में सहकारिता से जुड़ें:
सहकारिता मंत्री ने बताया कि प्रदेश में केन्द्रीय सहकारी बैंक द्वारा नए सदस्यों को भी फसली ऋण मुहैया कराया जा रहा है. उन्होंने किसानों से कहा कि वे अधिक से अधिक संख्या में सहकारिता से जुड़कर ऋण आवेदन कर लाभ पाएं तथा राजस्थान को सहकारिता के क्षेत्रा में अग्रणी पहचान दिलाने के प्रयासों में सहभागिता निभाएं. उन्होंने कहा कि राजस्थान में जनभावनाओं के अनुरूप बहुआयामी विकास किया जा रहा है और मुख्यमंत्री की मंशा के अनुसार किसान कल्याण का कार्य सर्वोच्च प्राथमिकता पर है. 

निर्वाचन प्रमाण पत्रा प्रदान किये  सहकारिता मंत्री ने इस अवसर पर चित्तौड़गढ़ सहकारी भूमि विकास बैंक लि. की निम्बाहेड़ा शाखा के संचालक भैरूलाल मीणा, हीरालाल धाकड़, घनश्यामसिंह राजपूत एवं मांगू गुर्जर को लघु निकाय प्रतिनिधि निर्वाचन प्रमाण पत्रा प्रदान किया. 

... संवाददाता निर्मल तिवारी की रिपोर्ट 

First India News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे!
हर पल अपडेट रहने के लिए अभी डाउनलोड करें First India News Mobile Application
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBE चैनल को विजिट करें

और पढ़ें

Most Related Stories

Stories You May be Interested in