Medical Oxygen के क्षेत्र में Self Dependent बनाने को लेकर योजनाबद्ध रूप से काम कर रही है सरकार: मुख्यमंत्री 

Medical Oxygen के क्षेत्र में Self Dependent बनाने को लेकर योजनाबद्ध रूप से काम कर रही है सरकार: मुख्यमंत्री 

Medical Oxygen के क्षेत्र में Self Dependent बनाने को लेकर योजनाबद्ध रूप से काम कर रही है सरकार: मुख्यमंत्री 

जयपुर: मुख्यमंत्री अशोक गहलोत (CM Ashok Gehlot) ने कहा कि राज्य सरकार प्रदेश को मेडिकल ऑक्सीजन (Medical Oxygen) के क्षेत्र में आत्मनिर्भर (Self Dependent) बनाने को लेकर योजनाबद्ध रूप से काम कर रही है. उन्होंने कहा कि कोरोना की दूसरी लहर (Second Wave) में ऑक्सीजन के जिस संकट का सामना पूरे देश-प्रदेश ने किया, उसे देखते हुए राज्य के जिला अस्पतालों से लेकर CHC एवं PHC स्तर तक के विभिन्न अस्पतालों में ऑक्सीजन जनरेशन प्लांट लगाने, पाइपलाइन के जरिए ऑक्सीजन की आपूर्ति व्यवस्था विकसित करने के साथ ही ऑक्सीजन कंसंट्रेटर (Oxygen Concentrator) उपलब्ध कराए जा रहे हैं. इससे आने वाले वक्त में यदि तीसरी लहर (Third Wave) आती भी है, तो प्रदेश के राजकीय अस्पताल (Government Hospital) उससे मुकाबले के लिए पहले ही तैयार हो सकेंगे.

स्वास्थ्य सेवाओं से जुडे विकास कार्यों के लोकार्पण एवं शिलान्यास किया:
गहलोत सोमवार को जोधपुर जिले (Jodhpur District) में स्वास्थ्य सेवाओं से जुडे करीब 39 करोड़ रूपये के विकास कार्यों के लोकार्पण एवं शिलान्यास समारोह (Inauguration and Foundation Stone Laying Ceremony) को वीडियो कान्फ्रेंस (Video Conference) के माध्यम से संबोधित कर रहे थे. इस अवसर पर मुख्यमंत्री ने करीब 33 करोड़ रूपए की लागत के 13 कार्यों का लोकार्पण एवं 6 करोड़ रूपए की लागत के दो कार्यों का शिलान्यास किया. 

कोविड प्रबंधन मामले में राज्य की चारो ओर हुई है सराहना:
मुख्यमंत्री ने कहा कि कोविड संक्रमण (Covid Infection) की पहली लहर तथा इसके बाद की घातक दूसरी लहर के समय राजस्थान ने जिस प्रकार का कोरोना प्रबंधन किया उसकी सराहना पूरे देश में हुई है. चाहे वह सघन कांटेक्ट ट्रेसिंग (Intensive Contact Tracing) का भीलवाडा मॉडल (Bhilwara Model) हो, सामाजिक जागरूकता (Social Awareness) के लिए नो मास्क-नो एंट्री अभियान (No Mask No Entry Campaign) हो, कोई भूखा न सोए के संकल्प को साकार करने के लिए सूखे राशन तथा भोजन सामग्री के पैकेट वितरण का कार्य हो या गांव-ढाणी तक बसे 16 लाख परिवारों तक दवा किट पहुंचाने का सफल अभियान, हमने कहीं कोई कमी नहीं रखी.

सभी जिलों में मेडिकल कॉलेज खोलने की सरकार की मंशा:
गहलोत ने कहा कि हमारा प्रयास है कि राज्य के सभी जिलों में सरकारी मेडिकल कॉलेज (Government Medical College) खुलें. अब सिर्फ जालोर, राजसमंद तथा प्रतापगढ़ ही ऎसे जिले हैं, जहां राजकीय मेडिकल कॉलेज की स्वीकृति नहीं मिल पाई है. हमारी कोशिश रहेगी कि इन जिलों में भी सरकारी मेडिकल कॉलेज मंजूर हों. 

मुख्यमंत्री ने कहा कि जयपुर के बाद जोधपुर राजस्थान का सबसे बड़ा शहर है. लेकिन दुर्भाग्य से इसे स्मार्ट सिटी परियोजना में शामिल नहीं किया गया. यदि जयपुर, उदयपुर एवं प्रदेश के अन्य शहरों की तरह जोधपुर को भी स्मार्ट सिटी के रूप में शामिल कर लिया जाता, तो उससे विकास के कई कार्यों को और भी गति मिल सकती थी.

और पढ़ें