Live News »

राज्यपाल कलराज मिश्र ने सीएम गहलोत को जन्मदिन पर दी बधाई, निरंतर प्रगति करने की शुभकामनाएं दीं

राज्यपाल कलराज मिश्र ने सीएम गहलोत को जन्मदिन पर दी बधाई, निरंतर प्रगति करने की शुभकामनाएं दीं

जयपुर: राज्यपाल कलराज मिश्र ने मुख्यमंत्री अशोक गहलोत को उनके जन्म दिवस की बधाई दी है. राज्यपाल कलराज मिश्र ने रविवार सुबह दूरभाष पर मुख्यमंत्री से बात की. मिश्र ने गहलोत को जन्म दिवस पर निरंतर प्रगति करने की शुभकामनाएं दीं. राज्यपाल कलराज मिश्र ने कहा कि गहलोत जी मैं आपको जन्म दिवस पर बहुत-बहुत बधाई देता हूं. आपको शुभकामनाएं देता हूं. आप शत वर्ष जियें. आप यशस्वी रहें. सफलतापूर्वक आप कर्तव्यों का निर्वहन करते रहें. जिस तरीके से आपने अपने राजनीतिक जीवन की शुरूआत की, वैसे ही आप जीवन भर प्रगति करते रहें.

Rajasthan Corona Updates: राजस्थान में 2832 संक्रमित, 60 नए केस आये सामने, अब तक 71 लोगों की मौत, जानें जिलेवार आंकड़े

मुख्यमंत्री को जन्मदिन पर चिकित्सा मंत्री ने दी बधाई:
मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के जन्मदिन के अवसर पर चिकित्सा मंत्री डॉ रघु शर्मा ने उन्हें तहेदिल से जन्मदिन की बधाई दी है.डॉ शर्मा ने कहा कि गहलोत ने अपना पूरा सार्वजनिक जीवन पारदर्शिता,  ईमानदारी और राज्य के प्रति समर्पण के साथ गुजारा है.गांधीवादी सोच के साथ सादगीपूर्ण तरीके से जीया गया उनका जीवन प्रत्येक व्यक्ति के लिए अनुकूल अनुकरणीय है.उन्होंने अशोक गहलोत के शतायु होने एवं उनके नेतृत्व में राजस्थान के तीव्र विकास कि शुभकामनाएं व्यक्त की है.

मकराना में गायों को खिलाई लापसी:
मकराना में कांग्रेसियों ने नगर परिषद की सभापति समरीन भाटी के नेतृत्व में गायों को लापसी खिलाकर मुख्यमंत्री अशोक गहलोत का जन्म दिवस मनाया है. नगर परिषद द्वारा लापसी तैयार करवा कर शहर के शीतला माता गौ सेवा समिति में 200 गायों को खिलाई गई. इस मौके पर सभापति समरीन भाटी ने मुख्यमंत्री अशोक गहलोत को बधाई देते हुए कहां कि नगर परिषद द्वारा कोरोना महामारी के कारण हुए लोक डाउन में आमजन का भी ध्यान रखा जा रहा है और पशुओं के चारा पानी की भी व्यवस्था की जा रही है.

सीएम गहलोत को दी जन्मदिन की शुभकामनाएं:
हाल ही में पशुओं के चारा हेतु तीन गौशालाओं को 50 हजार रुपए के चारे हेतु अनुदान दिया गया है. कांग्रेस जिलाध्यक्ष एवं मकराना के पूर्व विधायक ज़ाकिर हुसैन गैसावत ने कहा कि मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के जन्मदिवस पर गौशाला में लापसी वितरित कर पुण्य का कार्य किया है. लोक डाउन के चलते सादगी पूर्ण जन्मदिवस मनाया जाना था जिसके तहत मकराना नगर परिषद ने गायों को लापसी खिलाकर नेकी का कार्य किया है. इस पुण्य को कार्य को करते हुए मुख्यमंत्री को जन्म दिवस की शुभकामनाएं दी. 

कोरोना संकट के बीच तिरुपति बालाजी मंदिर ने निकाले 1300 कर्मचारी, लॉकडाउन को बताई वजह!

और पढ़ें

Most Related Stories

Rajasthan Political Crisis: कांग्रेस ने कल होने वाली विधायक दल की बैठक के लिए जारी किया व्हिप

Rajasthan Political Crisis: कांग्रेस ने कल होने वाली विधायक दल की बैठक के लिए जारी किया व्हिप

जयपुर: राजस्थान में इस समय सियासी पारा उफान पर है. सचिन पायलट के कल बीजेपी ज्वॉइन करने की अटकलों के बीच कांग्रेस ने कल सुबह 10.30 बजे होने वाली बैठक को लेकर व्हिप जारी किया है. ऐसे में इस बैठक के बाद प्रदेश की राजनीति को लेकर स्थिति साफ हो जाएगी. जहां एक और सचिन पायलट कैंप अपने साथ 30 विधायक होने का दावा कर रहे हैं तो वहीं दूसरी ओर सीएम गहलोत का धड़ा भी प्रदेश में 5 साल सरकार चलाने को लेकर आश्वस्त नजर आ रहा है. ऐसे में विधायक दल की बैठक में यह स्थिति साफ हो जाएगी. 

पायलट ने गहलोत को अल्पमत में बताकर एक चुनौती दी: 
वहीं 30 विधायकों के समर्थन का दावा कर पायलट ने गहलोत को अल्पमत में बताकर एक चुनौती दी है. अब पायलट के दावे के आधार पर राज्यपाल गहलोत को एक सप्ताह या 10 दिन में गहलोत को बहुमत साबित करने का निर्देश दे सकते हैं. और बस यहीं से नए सिरे से जोड़-तोड का खेल शुरू हो जाएगा. इसके बाद विधानसभा में सरकार अपना बहुमत सिद्ध नहीं कर पाती है तो नई सरकार के गठन से पहले कुछ दिनों के लिए प्रदेश में राष्ट्रपति शासन लग जाएगा.

पायलट खेमे के विधायक दे सकते हैं इस्तीफा: 
बता दें कि राज्य में बिगड़ते सियासी हालात को देखते हुए कांग्रेस आलाकमान ने पार्टी के तीन नेताओं को जयपुर भेजा है. वहीं, सोमवार सुबह 10.30 कांग्रेस विधायक दल की बैठक होनी है. वहीं सूत्रों के मुताबकि, कल सुबह होने वाली कांग्रेस विधायक दल की बैठक से पहले आज देर रात सचिन पायलट के खेमे के विधायक अपना इस्तीफा विधानसभा अध्यक्ष को भेज सकते हैं.
 

Rajasthan Political Crisis: सचिन पायलट कल भाजपा में हो सकते हैं शामिल, इस वजह के चलते अगले 24 घंटे काफी महत्वपूर्ण

Rajasthan Political Crisis: सचिन पायलट कल भाजपा में हो सकते हैं शामिल, इस वजह के चलते अगले 24 घंटे काफी महत्वपूर्ण

जयपुर: राजस्थान में चल रही सियासी हलचल के बीच सचिन पालयट ने बगावती तेवर अपना लिया है. अब पायलट भाजपा में शामिल हो सकते हैं. जानकार सूत्रों के हवाले से मिली खबर के अनुसार पायलट जेपी नड्डा की मौजूदगी में बीजेपी में शामिल होंगे. इसको लेकर भाजपा शीर्ष नेतृत्व से कल दिल्ली में मुलाकात कर सकते हैं. 

पायलट का थर्ड फ्रंट बनाने का आइडिया अप्रूव नहीं हुआ:
जानकार सूत्रों के अनुसार पायलट का थर्ड फ्रंट बनाने का आइडिया अप्रूव नहीं हुआ. अब भाजपा के शीर्ष नेतृत्व की मौजूदगी में कल भाजपा ज्वॉइन कर सकते हैं. इस संबंध में जेपी नड्डा और पायलट के बीच पूरी बातचीत हो चुकी है. पायलट कैम्प 30 विधायकों के साथ भाजपा ज्वॉइन करने का दावा कर रहा है. लेकिन इन अंतिम क्षणों में भी भाजपा नेतृत्व को ये आशंका है कि कही खुद पायलट पीछे नहीं हट जाएं. क्योंकि अभिषेक मनु सिंघवी और दो बड़े कांग्रेस नेताओं ने पायलट को भाजपा में जाने से रोकने के प्रयास शुरू किए है. 

अगले 24 घंटे काफी महत्वपूर्ण:
इसलिए राजस्थान की राजनीति के लिए अगले 24 घंटे काफी महत्वपूर्ण होने वाले हैं. लेकिन इंटेलीजेंस सूत्रों ने केवल 12 विधायकों के इस्तीफे देने के संकेत दिए है. लेकिन इस तरह इस्तीफे देने की प्रक्रिया तो शुरू हो जाएगी और फिर यह आंकड़ा न जाने कहां तक जाकर रुकेगा. 

पायलट कांग्रेस विधायक दल की बैठक में शामिल नहीं होंगे:
इससे पहले सचिन पायलट ने कहा कि वो कांग्रेस विधायक दल की बैठक में नहीं शामिल होंगे. उन्होंने कहा कि अशोक गहलोत की सरकार अल्पमत में है. 30 कांग्रेसी और निर्दलीय विधायक मेरे पक्ष में है. इससे पहले सचिन पायलट ने कुछ देर पहले बीजेपी नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया से मुलाकात की है. दोनों नेताओं की मुलाकात दिल्ली में ज्योतिरादित्य सिंधिया के आवास पर करीब 40 मिनट तक चली. पायलट की कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी और राहुल गांधी से भी मुलाकात नहीं हुई है.

ज्योतिरादित्य ने पायलट के समर्थन में एक ट्वीट भी किया था:
इससे पहले आज ज्योतिरादित्य ने पायलट के समर्थन में एक ट्वीट भी किया था. सिंधिया ने कहा कि सचिन पायलट को दरकिनार किए जाने से मैं दुखी हूं. ये दिखाता है कि कांग्रेस में काबिलियत और क्षमता की कोई अहमियत नहीं है. 

सचिन पायलट सीएम गहलोत से नाराज चल रहे:
बता दें कि सचिन पायलट सीएम गहलोत से नाराज चल रहे हैं. सूत्रों के अनुसार पायलट का आरोप है कि सीएम गहलोत उन्हें नजरअंदाज कर रहे हैं. सरकार के फैसलों में उन्हें अहमियत नहीं दी जाती है. वहीं गहलोत खेमा सचिन पायलट के बीजेपी के संपर्क में होने का आरोप लगा रहा है. 


 

Rajasthan Political Crisis: सचिन पायलट का बड़ा बयान, कहा-अशोक गहलोत की सरकार अल्पमत में

जयपुर: राजस्थान में चल रहे सियासी घटनाक्रम पर सचिन पायलट का बड़ा बयान सामने आया है. इस बयान से सचिन पायलट के सिंधिया की राह पर चलने के संकेत मिल गए हैं. साथ ही पायलट कल विधायक दल की बैठक में भी शामिल नहीं होंगे. उन्होंने कहा कि अशोक गहलोत की सरकार अल्पमत में है. 30 कांग्रेसी और निर्दलीय विधायक मेरे पक्ष में है.इससे पहले सचिन पायलट ने कुछ देर पहले बीजेपी नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया से मुलाकात की है. दोनों नेताओं की मुलाकात दिल्ली में ज्योतिरादित्य सिंधिया के आवास पर करीब 40 मिनट तक चली. 

आलाकमान से मुलाकात करने के लिए दिल्ली पहुंचे:
बता दें कि सचिन पायलट और सीएम अशोक गहलोत के बीच बतभेद अब जनता के सामने आ गया है. नाराज सचिन पायलट पार्टी आलाकमान से मुलाकात करने के लिए दिल्ली पहुंचे हैं. उनके साथ कुछ विधायक भी हैं. सूत्रों के अनुसार सचिन पायलट ने इसी दौरान ज्योतिरादित्य सिंधिया से मुलाकात की है.

ज्योतिरादित्य ने पायलट के समर्थन में एक ट्वीट भी किया था:
इससे पहले आज ज्योतिरादित्य ने पायलट के समर्थन में एक ट्वीट भी किया था. सिंधिया ने कहा कि सचिन पायलट को दरकिनार किए जाने से मैं दुखी हूं. ये दिखाता है कि कांग्रेस में काबिलियत और क्षमता की कोई अहमियत नहीं है. 

सचिन पायलट सीएम गहलोत से नाराज चल रहे:
बता दें कि सचिन पायलट सीएम गहलोत से नाराज चल रहे हैं. सूत्रों के अनुसार पायलट का आरोप है कि सीएम गहलोत उन्हें नजरअंदाज कर रहे हैं. सरकार के फैसलों में उन्हें अहमियत नहीं दी जाती है. वहीं गहलोत खेमा सचिन पायलट के बीजेपी के संपर्क में होने का आरोप लगा रहा है. 

Rajasthan Political Crisis: दिल्ली में ज्योतिरादित्य सिंधिया से मिले सचिन पायलट, 40 मिनट की मुलाकात पर लगीं अटकलें!

Rajasthan Political Crisis: दिल्ली में ज्योतिरादित्य सिंधिया से मिले सचिन पायलट, 40 मिनट की मुलाकात पर लगीं अटकलें!

नई दिल्ली: राजस्थान में चल रहे सियासी संकट के बीच डिप्टी सीएम सचिन पायलट ने बीजेपी नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया से मुलाकात की है. दोनों नेताओं की मुलाकात दिल्ली में ज्योतिरादित्य सिंधिया के आवास पर करीब 40 मिनट तक चली. 

इस मुलाकात के कई मायने निकाले जा रहे: 
ऐसे में अब इस मुलाकात के कई मायने निकाले जा रहे हैं. क्या सचिन पायलट भी ज्योतिरादित्या सिंधिया की राह पर चलकर कांग्रेस से इस्तीफा देकर बीजेपी में शामिल होंगे. हालांकि ये सब राजनीतिक जानकार लोगों के कयास है क्योंकि अंतिम फैसला तो सचिन पायलट को ही लेना है. 

आलाकमान से मुलाकात करने के लिए दिल्ली पहुंचे:
बता दें कि सचिन पायलट और सीएम अशोक गहलोत के बीच बतभेद अब जनता के सामने आ गया है. नाराज सचिन पायलट पार्टी आलाकमान से मुलाकात करने के लिए दिल्ली पहुंचे हैं. उनके साथ कुछ विधायक भी हैं. सूत्रों के अनुसार सचिन पायलट ने इसी दौरान ज्योतिरादित्य सिंधिया से मुलाकात की है.

ज्योतिरादित्य ने पायलट के समर्थन में एक ट्वीट भी किया था:
इससे पहले आज ज्योतिरादित्य ने पायलट के समर्थन में एक ट्वीट भी किया था. सिंधिया ने कहा कि सचिन पायलट को दरकिनार किए जाने से मैं दुखी हूं. ये दिखाता है कि कांग्रेस में काबिलियत और क्षमता की कोई अहमियत नहीं है. 

सचिन पायलट सीएम गहलोत से नाराज चल रहे:
बता दें कि सचिन पायलट सीएम गहलोत से नाराज चल रहे हैं. सूत्रों के अनुसार पायलट का आरोप है कि सीएम गहलोत उन्हें नजरअंदाज कर रहे हैं. सरकार के फैसलों में उन्हें अहमियत नहीं दी जाती है. वहीं गहलोत खेमा सचिन पायलट के बीजेपी के संपर्क में होने का आरोप लगा रहा है. 
 

Rajasthan Political Crisis: 3 विधायकों ने साफ कर दी तस्वीर, कहा- हम कांग्रेस के सिपाही हैं और आखिरी सांस तक कांग्रेस के साथ रहेंगे

जयपुर: राजस्थान में चल रही सियासी हलचल में एक के बाद एक नया मोड सामने आ रहा है. अब 3 कांग्रेस विधायकों ने दिल्ली दौरे को लेकर तस्वीर साफ की है. रोहित बोहरा, दानिश अबरार और चेतन डूडी ने साफ कहा है कि गहलोत के नेतृत्व में 5 साल सरकार चलेगी. ये तीनों विधायक पायलट गुट के माने जाते हैं. 

हम कांग्रेस के सिपाही हैं और आखिरी सांस तक कांग्रेस के साथ रहेंगे: 
इन विधायकों का कहना है कि आलाकमान ने गहलोत को हमारा नेता बनाया है हम उनके नेतृत्व में आगे भी काम करते रहेंगे. तीनों विधायकों ने माना की वो दिल्ली गए थे लेकिन दिल्ली जाने का कारण पारिवारिक बताया. हालांकि उन्होंने कांग्रेस नेताओं से मिलने की बात को भी स्वीकार किया है. हम कांग्रेस के सिपाही हैं और आखिरी सांस तक कांग्रेस के साथ रहेंगे. बता दें कि अशोक गहलोत ने सोमवार सुबह 10.30 बजे विधायक दल की बैठक बुलाई है. सभी विधायकों को जयपुर पहुंचने को कहा गया है. 

SOG की एफआईआर और पूछताछ की चिट्ठी के बाद बढ़ी नाराजगी:
सूत्रों की माने तो एसओजी (SOG) की एफआईआर और पूछताछ की चिट्ठी के बाद डिप्टी सीएम सचिन पायलट की नाराजगी बढ़ गई है. हालांकि एसओजी ने सीएम को भी ऐसी चिट्ठी भेजी है. लेकिन अब पायलट हाईकमान से मिलकर अपना पक्ष रखना चाहते हैं. आपको बता दें कि डिप्टी सीएम सचिन पायलट को एसओजी ने पूछताछ के लिए धारा 160 के तहत पूछताछ का नोटिस भेजा है. इसमें एसओजी ने सरकार गिराने के षड्यंत्र के मामले में पूछताछ करने की बात कही है.
 

Rajasthan Political Crisis: दिल्ली से कांग्रेस के 3 बड़े नेता आएंगे जयपुर, विधायकों के साथ करेंगे बैठक

Rajasthan Political Crisis: दिल्ली से कांग्रेस के 3 बड़े नेता आएंगे जयपुर, विधायकों के साथ करेंगे बैठक

जयपुर: राजस्थान में सियासी संकट के चलते पार्टी आलाकमान एक्शन मोड में आ गया है. दिल्ली से कांग्रेस के 3 बड़े नेता जयपुर आएंगे. सोनिया गांधी ने अजय माकन, रणदीप सुरजेवाला और अविनाश पांडे को जयपुर जाने को कहा है. तीनों नेता कांग्रेस विधायकों के साथ बैठक करेंगे. कल सुबह 10:30 बजे मुख्यमंत्री आवास पर विधायक दल की बैठक होगी.

आज रात तक पायलट भी जयपुर पहुंच सकते हैं:
वहीं सूत्रों की माने तो पार्टी ने डिप्टी सीएम सचिन पायलट को भी निर्देश दिया है. ऐसे में आज रात तक पायलट भी जयपुर पहुंच सकते हैं. सचिन पायलट कांग्रेस के भेजे जा रहे पर्यवेक्षकों के साथ मीटिंग करेंगे और कल विधायक दल की बैठक में हिस्सा ले सकते हैं. बता दें कि अशोक गहलोत और उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट के बीच मतभेद खुलकर सामने आ गए हैं. पायलट पार्टी आलाकमान से मिलने के लिए दिल्ली में हैं. पायलट खेमे के 12 विधायक भी दिल्ली में हैं. 

स्पेशल ऑपरेशन ग्रुप के नोटिस के बाद ये पूरी जंग शुरू हुई:
जानकारों की माने तो स्पेशल ऑपरेशन ग्रुप के नोटिस के बाद ये पूरी जंग शुरू हुई है. विधायकों की खरीद-फरोख्त मामले में स्पेशल ऑपरेशन ग्रुप ने सचिन पायलट को भी नोटिस भेजा था और बयान दर्ज कराने को कहा. कहा जा रहा है कि नोटिस मिलने के बाद पायलट, सीएम अशोक गहलोत से नाराज हैं. सचिन पायलट खेमे को उपमुख्यमंत्री से पूछताछ के लिए एसओजी का नोटिस स्वीकार्य नहीं है.


 

Rajasthan Political Crisis: राहुल गांधी से मुलाकात कर सकते है सचिन पायलट , सुबह हुई थी फोन पर बातचीत

Rajasthan Political Crisis:  राहुल गांधी से मुलाकात कर सकते है सचिन पायलट , सुबह हुई थी फोन पर बातचीत

जयपुर: मध्य प्रदेश की तर्ज पर राजस्थान में भी राजनीतिक समीकरण बदलने की कोशिश की जा रही है. इससे पहले मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने शनिवार को प्रेसवार्ता करके बीजेपी पर आरोप लगाया था कि राजस्थान में सरकार गिराने की कोशिश कर रही है. जानकार सूत्रों के मुताबिक राजस्थान के राजनीतिक घटनाक्रम पर भारतीय जनता पार्टी (BJP) लगातार नजरें बनाए हुए है और पर्दे के पीछे से पार्टी बड़ा गेम खेल रही है. सूत्रों के मुताबिक ITC भारत ग्रैंड होटल एक बार फिर से राजनीति का अखाड़ा बन सकता है.

राहुल से करेंगे सचिन मुलाकात:
इसी बीच कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने सचिन पायलट को रविवार शाम को मिलने के लिए बुलाया है. इससे पहले रविवार सुबह राहुल की पायलट से फोन पर बात हुई थी. लेकिन अब जानकार सूत्रों ने खुलासा किया है. सूत्रों ने कहा कि मुलाकात के लिए अभी तक समय तय नहीं हुआ है. इस प्रकार राहुल-पायलट की मुलाकात को लेकर अनिश्चितता का माहौल है. फिर भी यदि राहुल और पायलट की मुलाकात हुई, तो शायद ही कोई नतीजा निकलेगा. या फिर पायलट विधायकों के साथ बीजेपी ज्वॉइन कर सकते है?

कोरोना के चलते 15 जुलाई तक राजस्थान हाईकोर्ट पूर्णतया बंद, जोधपुर हाईकोर्ट का स्टॉफ निकला कोरोना पॉजिटिव 

पायलट की राज्य में नेतृत्व परिवर्तन की मांग:
सूत्रों के अनुसार पायलट की राज्य में नेतृत्व परिवर्तन की मांग है, लेकिन ये फैसला लेना अकेले राहुल के हाथ में नहीं है. क्योंकि सोनिया, प्रियंका और आलाकमान के अधिकांश सदस्य गहलोत के पक्ष में है. वहीं, सूत्रों के मुताबिक सचिन पायलट से राजस्थान प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष पद छोड़ने को कहा जा रहा है, जिससे वह नाराज है, जबकि, दूसरी तरफ ये भी खबर सामने आई कि, दूसरा खेमा सीएम बदलने की कोशिश में लगा हुआ. 

दिल्ली पहुंचे 20 से 25 विधायक:
हालांकि, इस पर बयान देते हुए मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा कि सीएम पद के दावेदार भले ही कई हों, लेकिन बनता तो कोई एक ही है. इस बीच राजस्थान एसओजी ने उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट को नोटिस भेज करके पूछताछ के लिए बुलाया. इससे पायलट नाराज बताए जा रहे हैं. सूत्रों के मुताबिक पायलट 20 से 25 विधायक लेकर इस बीच दिल्ली पहुंच गए हैं और पार्टी हाईकमान को सारी स्थितियों से अवगत करा दिया है.

अमिताभ बच्चन के बाद ऐश्वर्या राय और आराध्या भी कोरोना पॉजिटिव, जया बच्चन की रिपोर्ट आई नेगेटिव

Rajasthan Political Crisis: बीजेपी ज्वॉइन करेंगे सचिन या ​फिर राहुल गांधी से करेंगे मुलाकात !

Rajasthan Political Crisis: बीजेपी ज्वॉइन करेंगे सचिन या ​फिर राहुल गांधी से करेंगे मुलाकात !

जयपुर: मध्य प्रदेश की तर्ज पर राजस्थान में भी राजनीतिक समीकरण बदलने की कोशिश की जा रही है. इससे पहले मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने शनिवार को प्रेसवार्ता करके बीजेपी पर आरोप लगाया था कि राजस्थान में सरकार गिराने की कोशिश कर रही है. जानकार सूत्रों के मुताबिक राजस्थान के राजनीतिक घटनाक्रम पर भारतीय जनता पार्टी (BJP) लगातार नजरें बनाए हुए है और पर्दे के पीछे से पार्टी बड़ा गेम खेल रही है. सूत्रों के मुताबिक ITC भारत ग्रैंड होटल एक बार फिर से राजनीति का अखाड़ा बन सकता है.

राजस्थान का मौजूदा राजनीतिक घटनाक्रम! कपिल सिब्बल का दिलचस्प ट्वीट, तो ओम माथुर ने री-ट्वीट कर कसा तंज

राहुल से करेंगे सचिन मुलाकात:
इसी बीच कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने सचिन पायलट को रविवार शाम को मिलने के लिए बुलाया है. इससे पहले रविवार सुबह राहुल की पायलट से फोन पर बात हुई थी. लेकिन अब जानकार सूत्रों ने खुलासा किया है. सूत्रों ने कहा कि मुलाकात के लिए अभी तक समय तय नहीं हुआ है. इस प्रकार राहुल-पायलट की मुलाकात को लेकर अनिश्चितता का माहौल है. फिर भी यदि राहुल और पायलट की मुलाकात हुई, तो शायद ही कोई नतीजा निकलेगा. या फिर पायलट विधायकों के साथ बीजेपी ज्वॉइन कर सकते है?

पायलट की राज्य में नेतृत्व परिवर्तन की मांग:
सूत्रों के अनुसार पायलट की राज्य में नेतृत्व परिवर्तन की मांग है, लेकिन ये फैसला लेना अकेले राहुल के हाथ में नहीं है. क्योंकि सोनिया, प्रियंका और आलाकमान के अधिकांश सदस्य गहलोत के पक्ष में है. वहीं, सूत्रों के मुताबिक सचिन पायलट से राजस्थान प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष पद छोड़ने को कहा जा रहा है, जिससे वह नाराज है, जबकि, दूसरी तरफ ये भी खबर सामने आई कि, दूसरा खेमा सीएम बदलने की कोशिश में लगा हुआ. 

दिल्ली पहुंचे 20 से 25 विधायक:
हालांकि, इस पर बयान देते हुए मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा कि सीएम पद के दावेदार भले ही कई हों, लेकिन बनता तो कोई एक ही है. इस बीच राजस्थान एसओजी ने उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट को नोटिस भेज करके पूछताछ के लिए बुलाया. इससे पायलट नाराज बताए जा रहे हैं. सूत्रों के मुताबिक पायलट 20 से 25 विधायक लेकर इस बीच दिल्ली पहुंच गए हैं और पार्टी हाईकमान को सारी स्थितियों से अवगत करा दिया है.

तो सचिन पायलट इन विधायकों के साथ ज्वॉइन कर सकते हैं BJP !

Open Covid-19