जयपुर कोरोना से मुकाबले के बीच अनूठी मिसाल, राज्यपाल कलराज मिश्र ने की 200 विधायकों से बात

कोरोना से मुकाबले के बीच अनूठी मिसाल, राज्यपाल कलराज मिश्र ने की 200 विधायकों से बात

कोरोना से मुकाबले के बीच अनूठी मिसाल, राज्यपाल कलराज मिश्र ने की 200 विधायकों से बात

जयपुर: कोरोना के बीच राज्य में शासन तंत्र की एक अलग मिसाल कायम हुई है. राजभवन और 8 सिविल लाइंस दोनों सक्रिय दिखे ,चाहे लॉकडाउन रहा हो या अन लॉक डाउन. राजभवन ने प्रत्येक विधानसभा के विधायक और सांसदों से उनके क्षेत्र का हाल जाना, राज्यपाल कलराज मिश्र ने जन प्रतिनिधियों से बात की. वहीं मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कोरोना के खिलाफ अपने स्टेप्स से देश में मिसाल कायम की. राज्यपाल ने सभी 200 विधायकों से फोन पर बात की. इस दौरान राजभवन और 8सिविल लाइंस के बीच अद्भुत समन्वय नजर आया.

200 विधायकों और 25सांसदो से फोन पर बात:
राजभवन, नाम से ही आभामंडल का अहसास होता है ,धारणा रहती है कि राजभवन तक पहुंच आसां नहीं है ,लेकिन बीते दिनों कोरोना के प्रकोप के बीच राजभवन एक हमदर्द के तौर पर सामने आया. प्रदेश के 200 विधायकों और 25सांसदो से फोन पर बात की और हाल-चाल जाना. राज्यपाल कलराज मिश्र ने प्रत्येक विधायक और सांसद से फोन पर बात की ,मुख्यमंत्री अशोक गहलोत से तो उनकी दर्जनों बार बातचीत हुई ,कोरोना महामारी के उपायों पर विस्तृत विचार विमर्श हुआ. महामहिम ने लीक से हटकर प्रत्येक मंत्री को भी फोन किये और हाल-चाल जाना , कांग्रेस, बीजेपी ,सी पी एम,आर एल पी,बीटीपी और निर्दलीय विधायकों से बात की. ऐसा पहली बार शायद राजस्थान के राज्यपाल ने किया.  

कोरोना संकट के बीच राहतभरी खबर, इटली के टॉप डॉक्टर्स का दावा, कोरोना वायरस पड़ रहा है कमजोर!

राज्यपाल की अनूठी पहल
-राज्यपाल की 200 विधायकों से फोन पर बात
-25 सांसदों से बात की
-निर्वाचन क्षेत्र में कोरोना की स्थिति की जानकारी ली
-किस तरह से महामारी से मुकाबला कर रहे हो ये पूछा राज्यपाल ने
-राज्यपाल ने समस्याओं के बारे में भी जाना 
-मंत्रियों से उनके प्रभार क्षेत्र के बारे में जानकारी ली 
-सरकारी स्तर पर किये जा रहे प्रयासों को जाना
-लोगों की समस्याओं और निदान के बारे में पूछा
-कलराज मिश्र को प्रशासनिक दक्षता हासिल है वे केन्द्र में मंत्री और यूपी सरकार में  विभिन्न महकमें संभाल चुके.
-कोरोना महामारी से रोकथाम को लेकर उन्होंने महत्वपूर्ण सुझाव राज्य सरकार को दिये. 
-यूपी भाजपा के राजस्थान प्रभारी रहे लिहाजा भौगोलिक स्थिति पहले से जानते है

निजी अस्पतालों के लिए एडवाइजरी जारी, कोरोना मरीजों का फ्री इलाज, अन्यथा होगी सख्त कार्रवाई 

राज्यपाल और मुख्यमंत्री ने मिलकर किया है कोरोना का मुकाबला:
राज्यपाल की अनूठी पहल में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने चार चांद लगा दिए. राज्यपाल ने जमीनी स्तर पर बात कर हालात जाने तो मुख्यमंत्री उनसे विचार विमर्श कर सुझावों पर गंभीरता बरती. मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने उनके सुझावों पर अमल करने के निर्देश ब्यूरोक्रेसी को दिए. राजभवन से आये कोरोना सम्बंधी हर सुझाव पर तत्परता से काम किया. मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के उठाये गये स्टेप्स को देशभर ने सराहा तो राजस्थान का राजभवन भी पीछे नहीं रहे. अक्सर कई राज्यों में देखा जाता है कि राजभवन ओर मुख्यमंत्री आवास के बीच दूरियां और अदावत पनपी रहती है लेकिन राजस्थान अपवाद है.  यहां राज्यपाल और मुख्यमंत्री ने मिलकर किया है कोरोना का मुकाबला. 

...फर्स्ट इंडिया के लिए काशीराम चौधरी के साथ योगेश शर्मा की रिपोर्ट 

और पढ़ें