ग्रीनलैंड: दुनिया का सबसे बड़ा द्वीप, जिस पर है राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की नज़र

FirstIndia Correspondent Published Date 2019/08/17 02:44

नई दिल्ली: अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप सुर्खियों में बने रहते हैं.अमेरिकी अखबार वॉल स्ट्रीट जनरल की मानें तो राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के मन में दुनिया के सबसे बड़े द्वीप को  खरीदने का विचार आया है जिसकी दुनिया में हर तरफ चर्चा हो रही है.खबरों के अनुसार डोनाल्ड ट्रंप ग्रीनलैंड को खरीदना चाहते हैं हालांकि अभी तक इस पर किसी भी तरह का आधिकारिक बयान नहीं है कि ट्रंप इस बारे में गंभीरता से विचार कर रहे हैं या नहीं. उन्होंने अपने अधिकारियों से इस बारे में पूछा है कि क्या अमेरिका ग्रीनलैंड को खरीद सकता है.हालांकि इस मुद्दे को ट्रंप डेनमार्क के अधिकारियों से बातचीत के दौरान शामिल करेंगे इसकी फिलहाल कोई संभावना नजर नहीं आ रही है. बता दें कि ग्रीनलैंड डेनमार्क के अधिकार क्षेत्र में आता है, जिसका ट्रंप दौरा करने वाले हैं.इससे पहले भी 1946 में अमेरिका ने डेनमार्क के सामने प्रस्ताव रखा था कि वह 10 करोड़ डॉलर में ग्रीनलैंड को बेच दे. अमेरिका इसके बदले अलास्का में जमीन दे देगा

साल में कुछ समय तक ग्रीनलैंड वर्फ की चादर से ढका रहता है और इसके तीन चौथाई हिस्से में हमेशा वर्फ जमी रहती है। ग्रीनलैंड नाम से कुछ लोग यहां हरियाली होने की बात सोच सकते हैं लेकिन आपको बता दें कि इसके ज्यादातर हिस्सों में घास का तिनका भी नहीं उगता है। 

ग्रीनलैंड के बारे में कुछ रोचक तथ्य

ग्रीनलैंड एक देश है लेकिन ऊपरी तौर पर इस पर डेनमार्क का नियंत्रण है. यह नॉर्थ अमेरिका में मौजूद है लेकिन यूरोप का हिस्सा माना जाता है. क्षेत्रफल की दृष्टि से यह दुनिया का सबसे बड़ा द्वीप और दुनिया का 12वां बड़ा देश है.

ग्रीनलैंड में कोई भी सड़क या रेल लाइन मौजूद नहीं है. यहां के लोग नाव या फिर हेलीकॉप्टर, हवाई जहाज से यात्रा करते हैं. यहां रहने वाले लोगों की आबादी महज 57 हजार है.

अगर पर्यटन के लिहाज से देखा जाए तो ग्रीनलैंड अगस्त में सबसे ज्यादा खूबसूरत लगता है। इस दौरान यहां के  पहाड़ धूप की रोशनी में सुनहरे नजर आते हैं। यहां क्रूज पर बड़ी संख्या में सैलानी आते हैं.

ग्रीनलैंड के लोग डेनिश भाषा बोलते हैं और यहां की मुद्रा 'डेनिश क्रोन' है.1 डेनिश क्रोन लगभग 10 रुपए के बराबर होता है.

डोनाल्ड ट्रंप से पहले भी कई अमेरिकी नेता ग्रीनलैंड को खरीदने की बात कह चुके हैं. इससे पहले साल 1946 में अमेरिकी राष्ट्रपति हैरी ट्रूमैन ने भी डेनमार्क को ग्रीनलैंड खरीदने के लिए 100 मिलियन डॉलर का प्रस्ताव दिया था.

First India News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे!
हर पल अपडेट रहने के लिए अभी डाउनलोड करें First India News Mobile Application
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBE चैनल को विजिट करें

और पढ़ें

Most Related Stories

Stories You May be Interested in