ग्वाटेमाला : ज्वालामुखी में हुए विस्फोट ने ली 25 लोगों की जान 

ग्वाटेमाला सिटी। कुदरत के कहर से कोई नहीं बच पाया है। दुनियाभर में तूफान, बाढ़, भूस्खलन और ज्वालामुखी के हर साल हजारों लोगों की जान चली जाती है। इनका मंजर बहुत ही भयावह होता है। ऐसा ही एक मामला मध्य अमेरिका का सामने आया है जहाँ ज्वालामुखी ने कई लोगों की जान ले ली है। 
  
गौरतलब है की मध्य अमेरिका में हुए एक ज्वालामुखी विस्फोट में कम से कम 25 लोगों की मौत हो गई है। ‘वॉल्कन डे फुगो’ नाम का यह ज्वालामुखी सबसे सक्रिय ज्वालामुखियों में शामिल है। इस ज्वालामुखी में यह एक साल के अंदर दूसरा धमाका है। धमाके की वजह से 20 अन्य लोगों के घायल होने की भी खबर है साथ ही करीब 2000 लोगों को सुरक्षित स्थानों पर ले जाया गया है। यह ज्वालामुखी ग्वाटेमाला से लगभग 44 किलोमीटर दूर स्थित है। 

ज्वालामुखी से निकली राख और धुआं आसपास के गांवों के ऊपर फैल गई और लावा बहकर नज़दीक के गांव में पहुंच गया। अभी भी बहुत से लोग लापता है। सरकारी अधिकारियों के मुताबिक इससे करीब 17 लाख लोग इससे प्रभावित हुए हैं।  कई घर और उनमें मौजूद लोग भी जल गए। सूत्रों के अनुसार 12 हजार 346 फीट की ऊंचाई तक राख फैल गई। जिससे ग्वाटेमाला सिटी का एयरपोर्ट बंद कर दिया गया है। बता दें की साल 1974 के बाद से ये सबसे बड़ा ज्वालामुखी विस्फोट है। 

राष्ट्रपति जिम्मी मोरेल्स राष्ट्रीय आपातकालीन सेवाओं को राहत कार्य के लिए जल्द ही ज़रूरी कदम उठाने के आदेश दिए हैं। 

First India News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे!
हर पल अपडेट रहने के लिए अभी डाउनलोड करें First India News Mobile Application
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBE चैनल को विजिट करें

और पढ़ें

Most Related Stories

Stories You May be Interested in

Big Fight Live | \'\'मायड़\'\' मांगे \'\'मान्यता\'\' | 15 JAN, 2018

मोदी UP में डालेंगे डेरा
येदियुरप्पा की रणनीति गलत तो नहीं
सलमान खान को कोर्ट में झूठ बोलने का लगा आरोप
राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार डोभाल का कथित फोन टैप कराने का मामला
कुमारस्वामी सरकार से 2 निर्दलीय विधायकों के समर्थन वापसी के बाद दिलचस्प हुई कर्नाटक की सियासत
आज के दिन इस विधि से गणेश जी की पूजा करके बना सकते हैं अपने बिगड़े काम
चुनाव से पहले \'तोहफों की बारिश\'
loading...
">
loading...