VIDEO: गुर्जर नेताओं और सरकार के बीच वार्ता में नहीं निकला समाधान, बेनतीजा रही बैठक

FirstIndia Correspondent Published Date 2019/06/18 09:19

जयपुर: सचिवालय में गुर्जर प्रतिनिधिमंडल और सरकार के बीच हुई वार्ता का फिलहाल कोई हल नहीं निकला और वह बेनतीजा रही. जहां एक और गुर्जर प्रतिनिधि बैकलॉग और अन्य मुद्दों को लेकर सरकार की ओर से होमवर्क पूरा नहीं करने को लेकर विरोध करते रहे तो वही कैबिनेट सब कमेटी के मंत्रियों ने बैठक में 5 से लेकर 7-10 प्रतिनिधियों के बजाय करीब 50 से ज्यादा प्रतिनिधियों को लाने पर आपत्ति जताते हुए कुछ भी निर्णयात्मक नहीं होने की बात कही. बैठक के दौरान और बाद में भी दोनों पक्षों के बीच कई मुद्दों को लेकर तनातनी देखी गई. अब आज हुई वार्ता के बिंदुओं पर निर्णय के रूप में 3-4 दिन बाद मंत्री जवाब देंगे और तब बैठक फिर होगी. 

सचिवालय में आज गुर्जर प्रतिनिधिमंडल के साथ कैबिनेट उपसमिति की अहम बैठक हुई. गुर्जर आरक्षण संघर्ष समिति संयोजक कर्नल किरोड़ी सिंह बैंसला के बीजेपी में शामिल होने आचार संहिता और लोकसभा चुनाव में हार के बाद हुई पहली बैठक बेनतीजा रही. बैठक में बदले सियासी परिप्रेक्ष्य का असर साफ देखने को मिला. बैठक के बाद बैंसला और अन्य गुर्जर नेताओं ने यह नाराजगी जताई-

- बैकलॉग को लेकर सरकार का नहीं होमवर्क ओबीसी और एसबीसी दोनों प्रमाण पत्र मानने की कही जा रही है बात लेकिन इसके बारे में कार्मिक विभाग फिर जारी करेगा नोटिफिकेशन. बार बार आदेशों से उलझाया जा रहा मामला.

- सुप्रीम कोर्ट में एसएलपी और जारी आरक्षण संबंधी मामले पर नहीं मिला ठोस आश्वासन.

- लेकिन बैकलॉग की भर्तियों पर नीतिगत निर्णय लेने को लेकर सरकार ने नहीं दिया कोई जवाब... हालांकि मौजूदा भर्ती मैं 5% आरक्षण देने का दिया आश्वासन. 

- लेकिन इसे लेकर जरूरी प्रक्रिया और कदम उठाने को लेकर सरकार की ओर से ठोस कार्रवाई नहीं. 

- उधर सुप्रीम कोर्ट के फैसले से  सृजित हुए 1252 बैकलॉग के पदों पर भर्ती प्रक्रिया जल्द शुरू करने का भी आश्वासन दिया गया है. 

- 17 मौजूदा और 15 बैकलॉग की भर्तियों में 5% आरक्षण की है मांग बैकलॉग की भर्तियों के लिए सरकार को करने पड़ेंगे शेडो पड़ सृजित जिसमें नीतिगत निर्णय जरूरी. इस वजह से अभी नहीं बन पा रही सहमति-अतिरिक्त मुख्य सचिव गृह विभाग राजीव स्वरूप ने गुर्जर आंदोलनकारियों के खिलाफ 50 पेंडिंग केसेस के बारे में दी जानकारी उन्होंने यह भी बताया कि अदालतों में चल रहे हैं मामले में क्या वस्तु स्थिति है. 

- गुर्जर नेता एडवोकेट शैलेंद्र सिंह ने इस बात पर भी नाराजगी जताई कि बैकलॉग की भर्तियों को लेकर सरकार ने अभी तक आंकड़े भी नहीं जुटाए. 

हालांकि बैठक के बाद मंत्रियों ने कहा कि बड़े सौहार्दपूर्ण वातावरण में बैठक हुई है. गुर्जर प्रतिनिधि मंडल की ओर से रखी गई मांगों को मुख्यमंत्री को अवगत कराया जाएगा. इसके बाद अगली वार्ता होगी. हालांकि मंत्री विश्वेंद्र सिंह ने गुर्जर प्रतिनिधिमंडल मैं बड़ी संख्या में शामिल लोगों को को लेकर नाराजगी जताई और कहा अगली वार्ता में 5 लोगों से अधिक शामिल नहीं हो तब कुछ निर्णायक वार्ता होगी.  

सूत्रों के हवाले से खबर है कि सरकार प्रक्रियाधीन कुछ भर्तियों में तो आरक्षण का लाभ देना चाहती है लेकिन बैकलॉग की भर्तियों को लेकर सुप्रीम कोर्ट का हवाला दे रही है. जिसको लेकर गुर्जर नेताओं ने काफी नाराजगी जताई और मंत्रियों से तकरार भी हुई और यही कारण रहा की मंत्रिमंडलीय उपसमिति के तीनों सदस्य पहले ही बैठक छोड़कर निकल गए. जिसके बाद गुर्जर प्रतिनिधिमंडल ने अधिकारियों के साथ बैठकर काफी देर बंद कमरे में चर्चा की. बैठक में उपसमिति के 3 मंत्री मास्टर भंवरलाल मेघवाल,रघु शर्मा,विश्वेन्द्र सिंह रहे तो वहीं गुर्जर आरक्षण संघर्ष समिति संयोजक कर्नल किरोड़ी बैंसला, गुर्जर नेता विजय बैंसला और एडवोकेट शैलेंद्र सहित 50 से ज्यादा प्रतिनिधि मौजूद रहे. 

....राम सिंह के साथ ऋतुराज शर्मा फर्स्ट इंडिया न्यूज़ जयपुर

First India News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे!
हर पल अपडेट रहने के लिए अभी डाउनलोड करें First India News Mobile Application
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBE चैनल को विजिट करें

और पढ़ें

Most Related Stories

Stories You May be Interested in