सूरत (गुजरात) रेमडेसिविर मुद्दाः भाजपा अध्यक्ष ने साधा कांग्रेस पर निशाना, कहा- हम उनकी धमकियों से भयभीत नहीं

रेमडेसिविर मुद्दाः भाजपा अध्यक्ष ने साधा कांग्रेस पर निशाना, कहा- हम उनकी धमकियों से भयभीत नहीं

रेमडेसिविर मुद्दाः भाजपा अध्यक्ष ने साधा कांग्रेस पर निशाना, कहा- हम उनकी धमकियों से भयभीत नहीं

सूरत (गुजरात): गुजरात भाजपा के अध्यक्ष सीआर पाटिल ने मंगलवार को कांग्रेस पर निशाना साधते हुए कहा कि विपक्षी पार्टी के नेताओं को सूरत में रेमडेसिविर दवा की 5,000 खुराकों के मुफ्त वितरण को लेकर उन्हें धमकी देना बंद कर देना चाहिए.

कोविड दवा की 5,000 खुराकों का नि: शुल्क वितरण करने की घोषणा पर हुआ विवादः
दवा की कमी के बीच, पिछले हफ्ते पाटिल ने उस समय यह घोषणा कर विवाद को हवा दे दी थी कि अपने गृहनगर सूरत में वह प्रमुख कोविड दवा की 5,000 खुराकों का नि: शुल्क वितरण करेंगे. प्रदेश कांग्रेस ने सोमवार को मांग की थी कि दवा की कथित अवैध खरीद और भंडारण के लिए पाटिल को गिरफ्तार किया जाए.

कांग्रेस की धमकियों से डरने वाले नहींः
सीआर पाटिल ने मंगलवार को यहां पत्रकारों से कहा कि रेमडेसिविर इंजेक्शन की 5,000 खुराकों की खरीद कानूनी तरीके से की गई. उन्होंने कहा कि हमने इंजेक्शन खरीदे हैं क्योंकि लोगों की जान बचाने के लिए उनकी आवश्यकता है. अगर वे हमारे प्रयासों की सराहना नहीं कर सकते, कांग्रेस को हमें धमकी देना बंद कर देना चाहिए. भाजपा कार्यकर्ता जरूरतमंद लोगों की मदद करने के लिए क्षेत्र में हैं. हम कांग्रेस की धमकियों से डरने वाले नहीं हैं.

जरूरतमंद लोगों को मुफ्त इंजेक्शन देने पर विपक्षी दलों को करनी चाहिए सराहनाः
सीआर पाटिल ने कहा कि विपक्षी दल को जरूरतमंद लोगों को मुफ्त इंजेक्शन देने के भाजपा के कार्य की सराहना करनी चाहिए. उन्होंने कहा कि वर्ष 1992 में, जब कांग्रेस सत्ता में थी, सूरत में प्लेग फैला था. उस समय भी, भाजपा ने टेट्रासाइक्लिन (एंटीबायोटिक दवा) खरीदने के लिए 10 लाख रुपए खर्च किए और इसे प्रभावित लोगों के बीच वितरित किया. सीआर पाटिल ने कहा कि कांग्रेस ने तब कोई सवाल क्यों नहीं उठाया?

कांग्रेस नेताओं ने की थी पाटिल की गिरफ्तारी की मांगः
कांग्रेस नेताओं ने सोमवार को गुजरात के राज्यपाल आचार्य देवव्रत से दवा की कथित अवैध खरीद और भंडारण को लेकर पाटिल की गिरफ्तारी की मांग की थी. भाजपा के सूरत कार्यालय से 10 अप्रैल को दवा का मुफ्त वितरण शुरू हुआ.
सोर्स भाषा

और पढ़ें