जम्मू कश्मीर में आतंकवादियों से लोहा लेते हुए टोंक के पीपलू क्षेत्र का जवान हनुमान देवंदा जाट शहीद

जम्मू कश्मीर में आतंकवादियों से लोहा लेते हुए टोंक के पीपलू क्षेत्र का जवान हनुमान देवंदा जाट शहीद

जयपुर/टोंकः पीपलू उपखण्ड क्षेत्र के डारडातुर्की ग्राम पंचायत के खेडूल्या गांव का 24 वर्षीय एक वीर जवान हनुमान देवंदा जाट शनिवार देर रात को जम्मू कश्मीर के ऊधमपुर में आतंकवादियों से लोहा लेते हुए शहीद हो गया. जानकारी के अनुसार हनुमान देवंदा 12 आरआर राइफल्स में सिपाही के पद पर तैनात था. शनिवार रात्रि को मिलिट्री के ऑपरेशन के दौरान गोली लगने के बाद भी वीर जवान हनुमान देवंदा आतंकवादियों से लोहा लेता रहा. हनुमान की शहादत की खबर मिलते ही उनके पैतृक गांव खेडूल्या सहित टोंक जिले में शौक की लहर दौड़ गई है. परिजनों से मिली जानकारी के अनुसार शहीद जवान का पार्थिव देह सोमवार दोपहर बाद घर पहुंचेगा. जहां सैन्य सम्मान के साथ उसका अंतिम संस्कार किया जाएगा.

14 मई को थी शादी
खेडूल्या के रतनलाल जाट के घर में पैदा हुआ हनुमान का करीब 17 साल की उम्र में ही भारतीय सेना में चयन हो गया. जो वर्तमान में जम्मू कश्मीर में तैनात था. शहीद जवाना का बड़ा भाई ओमप्रकाश चौधरी भी आर्मी में हैं. जिसकी प्रेरणा व मार्गदर्शन से ही वह 12 वीं पास करते ही सेना में नौकरी पाने में सफल हुआ. शहीद जवान की 14 मई को बगड़ी निवासी रामलाल जाट की सुपुत्री से शादी होनी थी. परिजन जवान के हाथ पीले करने को लेकर तैयारियों में जुटे हुए थे. वहीं जवान भी 25 अप्रैल को अपने गांव आने वाला था. लेकिन उससे पहले ही वह शहीद हो गया.

पिता करते हैं खेती
शहीद जवान के पिता रतनलाल जाट खेती करते हैं. जानकारी अनुसार शहीद का परिवार करीब 28 साल पहले टोडारायसिंह के माधोगंज में रहता था. जहां से वह पीपलू क्षेत्र के खेडूल्या में अपनी जमीन होने के चलते यहां आकर बस गए. शहीद की माता काली देवी गृहणी हैं. वहीं एक बड़ा भाई ओमप्रकाश गुजरात में आर्मी में हैं. छोटा भाई रामफूल पिता के साथ खेती में सहयोग करता हैं. वहीं दो बहने सीमा व मनराज बीए प्रथम वर्ष में टोंक के एक निजी कॉलेज में अध्ययनरत हैं.

और पढ़ें