Covid 19 के बेहतर मैनेजमेंट को लेकर Harvard University ने थपथपाई CM योगी की पीठ, विश्व को सीखने की सलाह दी

Covid 19 के बेहतर मैनेजमेंट को लेकर Harvard University ने थपथपाई CM योगी की पीठ, विश्व को सीखने की सलाह दी

लखनऊः देश के लिए आज बेहद ही गर्व करने का विषय है. उत्तरप्रदेश के सीएम योगी आदित्यनाथ के कोविड मैनेजमेंट की दुनिया दाद दे रही है. हाल ही में दुनिया की सबसे बड़ी यूनिवर्सिटीज में से एक हार्वर्ड यूनिवर्सिटी ने योगी आदित्यनाथ के कोविड मैनेजमेंट की तारीफ की है और कहा है कि दुनिया को इससे सीखना चाहिए. 

प्रवासियों के संकट को शानदार तरीके से हल करने के तरीके को काफी सराहा

इस अमेरिकन यूनिवर्सिटी ने सीएम योगी के कोरोना काल के दौरान प्रवासियों की प्रदेश में वापसी कराने के साथ संकट के दौर में उनको समायोजित करने के प्रबंधन का अध्ययन किया है. इस दौरान यूनिवर्सिटी ने सीएम योगी के प्रवासियों के संकट को शानदार तरीके से हल करने के तरीके को काफी सराहा है. 

हर सरकारी कर्मी से कर्तव्यों की पालना कराई

इस अध्ययन में दर्शाया गया है कि सीएम योगी ने विपरीत परिस्थियों में भी हर सरकारी कर्मी से शानदार तरीके से कर्तव्यों की पालना कराई है. योगी आदित्यनाथ के निर्देशानुसार हर किसी का ध्यान अपने काम को बेहतर ढंग से अंजाम देने की ओर ही था. कोरोना के लगातार बढ़ते प्रसार के दौरान भी सीएम योगी ने सभी प्रवासियों को अच्छे से संभाल लिया था.

लोगों को राशन के साथ घर बैठे काम भी दिलवाया

सीएम योगी ने अप्रत्याशित चुनौतियों का सामना करते हुए प्रदेश के हर नागरिक को बड़े संकट से उभारा है. योगी सरकार ने उनको परिवहन के साथ-साथ भोजन के किट भी मुहैय्या कराए थे. लोगों को राशन के साथ घर बैठे काम भी दिलवाया था. बेहतरीन क्वालिटी की चिकित्सा सुविधा उपलब्ध करवाकर लोगों को कोरोना के संक्रमण से बचाया है.

सीमित अर्थव्यवस्था में अप्रवासियों को बचाने के साथ-साथ उनके पूरे परिवार की जिम्मेदारी ली

यूनिवर्सिटी ने अपने अध्ययन में कहा है कि सीएम योगी ने संकट के वक्त में भी कामों को बेहतरीन से अंजाम देने का मॉडल पेश कर दिया है. उन्होंने बता दिया की सीमित अर्थव्यवस्था में भी अप्रवासियों को बचाने के साथ-साथ उनके पूरे परिवार की जिम्मेदारी भी बखूबी ली थी. राज्य सरकार ने रोजगार के उचित अवसर पैदा किए थे. 

रेलवे के साथ सहयोग करके 1604 ट्रेनों की व्यवस्था की

योगी सरकार ने रेलवे के साथ सहयोग करके 1604 ट्रेनों की व्यवस्था की थी. जिनमें 21 लाख से ज्यादा लोगों को लाया गया था. ये राज्य में लौटने वालों का 80 प्रतिशत था. भारत बंद के दौरान सीमाएं सील होने के पहले ही योगी सरकार ये काम करने में कामयाब हो गई थी. सीएम योगी की सरकार  ने कोरोना से बचाव के लिए तीन स्तरों पर काम किया था. 

कुल 18,140 क्वारंटीन सेंटर बनाए गए

थर्मल स्क्रीनिंग के बाद क्वारंटीन और आइसोलेशन की व्यवस्था से लाखों लोगों को जानलेवा बीमारियों से बचाया गया था. इसके लिए करीब 90,000 टीमों का गठन किया गया था. प्रदेश में कुल 18,140 क्वारंटीन सेंटर बनाए गए थे और उनमें 15.15 लाख लोगों को रखा गया था.

और पढ़ें