Live News »

हेड कांस्टेबल ने थाने में फांसी लगाकर की आत्महत्या 

हेड कांस्टेबल ने थाने में फांसी लगाकर की आत्महत्या 

भीनमाल। जसवंतपुरा थाना अन्तर्गत सुंधामाता चौकी में करीब एक वर्ष से कायर्रत हेड कांस्टेबल के पद पर कार्यरत मांगीलाल मेघवाल ने आत्महत्या कर ली। मांगीलाल ने शनिवार प्रातः पांच बजे के करीब जसवन्तपुरा थाने में बने रसोड़े के पास बने दो बेरिको के बीच बनी गेलेरी में लोहे की पाइप पर अपने मफलर से फंदा लगाकर जीवनलीला समाप्त की। 

अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक बीजाराम मीणा ने बताया कि सुंधा माता चौकी में हेड कांस्टेबल के पद पर कार्यरत मांगीलाल पुत्र मेघाराम मेगवाल उम्र 48 वर्ष ने 1993 में जालोर जिले में पुलिस सेवा में भर्ती हुआ था। करीब 10 वर्ष पूर्व हेड कांस्टेबल के पद पर प्रमोशन हुआ था और करीब एक वर्ष से सुंधामाता चौकी में हेड कांस्टेबल के पद पर तैनात था। 5 तारिक को विधानसभा चुनाव को लेकर रामसीन थाना क्षेत्र के मोदरा ढाणी में ड्यूटी पूर्ण कर शानिवार तड़के चार बजे के करीब थाने में बने बेरिको में सो गए थे। उस दौरान रात्रि करीब सुबह पांच बजे बेरिको के बीच गेलेरी में लोहे के पाइप में मफलर से फंदा बनाकर लटक जाने से उनकी मौत हो गयी। 

 घटना की जानकारी स्थानीय थानाधिकारी पबाराम मीणा ने पुलिस अधीक्षक विकाश शर्मा, अतिरिक्त पुलिश अधीक्षक बीजाराम मीणा, उप अधीक्षक मुमताज खान को दूरभाष पर दी। इस पर अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक बीजाराम मीणा रानीवाड़ा, पुलिस उपअधीक्षक मुमताज खान थाने पहुचे ओर दूरभाष पर परिवार जनों को अवगत कराया और परिवार जन थाने पहुंचे। शव को नीचे उतरवाया ओर पोस्टमार्टम हेतु जसवन्तपुरा सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र लाया गया। वहां पर ब्लॉक चिकित्सा अधीकारी विक्रम सिंह, चिकित्सक अभिषेक हरितवाल और मुकेश मीणा ने शव का पोस्टमार्टम कर परिजनों को सौंपा।

और पढ़ें

Most Related Stories

सुंधा माता मंदिर आज से 31 मार्च तक दर्शन के लिए बंद

सुंधा माता मंदिर आज से 31 मार्च तक दर्शन के लिए बंद

भीनमाल(जालौर): जिले सहित प्रदेश का ऐतिहासिक एवं पौराणिक तीर्थ स्थल सुंधा माता मंदिर आज से 31 मार्च तक दर्शनार्थियों के दर्शन के लिए बंद रहेगा. ट्रस्ट की बैठक में ये फैसला लिया गया जिसमें कोरोना वायरस के चलते यह निर्णय लिया गया है. दरअसल श्री चामुंडा माता ट्रस्ट ने देशभर में चल रहे कोरोना वायरस के खौफ को लेकर बैठक ली गई. वहीं बैठक में आज से 31 मार्च तक दर्शनार्थियों के लिए मंदिर के पट बंद रहेंगे. हालांकि यह जालौर जिले के साथ-साथ देशभर का बड़ा ऐतिहासिक मंदिर है जहां प्रदेश सहित अन्य राज्यों से भी लोग दर्शन के लिए आते हैं. 

डॉक्टर की पत्नी ने फांसी लगा दी जान, विधायक पिता बेंगलुरु में ज्योतिरादित्य के समर्थन में दे चुके इस्तीफा 

कोरोना के चलते भक्तों में भी काफी मायूसी:
बताया जाता है कि आज दिन तक किसी भी स्थिति में सुंधामाता मंदिर के पट बंद नहीं हुए हैं लेकिन केंद्र सरकार राज्य सरकार व प्रशासन की ओर से आदेश के बाद सुंधा माता ट्रस्ट की ओर से यह निर्णय लिया गया है. जिसमें 31 मार्च तक यह मंदिर बंद रहेगा जिसमें आने वाले श्रद्धालुओं के दर्शन के लिए बंद रहेगा. हालांकि इस मंदिर में पूजा अर्चना होगी लेकिन कोरोना वायरस के खौफ के चलते दर्शनार्थियों के लिए मंदिर के पट बंद रहेंगे. वही आगामी चैत्र नवरात्रि पर यहां पर हजारों की तादाद में लोग माता के दर्शन के लिए आते हैं पर कोरोना के चलते भक्तों में भी काफी मायूसी देखने को मिल रही है. वहीं व्यापारियों में भी संकट आ गया है. 

निर्भया रेप मर्डर के अभियुक्तों को फांसी में शामिल मुकेश करौली निवासी, घर पर पसरा सन्नाटा 

Open Covid-19