बसपा विधायकों का कांग्रेस में विलय प्रकरण पर हाई कोर्ट में आज भी सुनवाई रही अधूरी, कल सुबह 10:30 बजे तक टली

बसपा विधायकों का कांग्रेस में विलय प्रकरण पर हाई कोर्ट में आज भी सुनवाई रही अधूरी, कल सुबह 10:30 बजे तक टली

जयपुर: बसपा विधायकों का कांग्रेस में विलय प्रकरण मामले की हाई कोर्ट में आज भी सुनवाई अधूरी रही. हाईकोर्ट में कल सुबह 10:30 बजे तक सुनवाई टल गई है. ऐसे में अब जस्टिस महेंद्र गोयल की एकलपीठ में कल फिर सुनवाई होगी. हाईकोर्ट के अलावा सुप्रीम कोर्ट में भी इस मामले पर सुनवाई जारी है. 

भूलो और माफ करो और आगे बढ़ो की भावना के साथ डेमोक्रेसी को बचाने की लड़ाई में लगना है- सीएम गहलोत 

अंतरिम आदेश का रिव्यू नहीं किया जा सकता: 
इससे पहले आज सुनवाई को दौरान हाईकोर्ट में कपिल सिब्बल ने कहा कि संविधान ने स्पीकर को ही इसका अधिकार दिया है, ऐसे में स्पीकर के अंतरिम आदेश का रिव्यू नहीं किया जा सकता है. सिब्बल ने कोर्ट को बताया कि विलय का मतलब ये नहीं है कि हमने कांग्रेस की सदस्यता दी है, ये सिर्फ विधानसभा में बैठने की व्यवस्था है. उन्होंने कहा कि अगर सौ सदस्य आकर विलय की बात करें तो स्पीकर 10वीं शेड्यूल के तहत काम नहीं करेगा. हाईकोर्ट की सुनवाई अब शुक्रवार सुबह तक टल गई है.

जयपुर में भाजपा विधायक दल की बैठक शुरू, वसुंधरा राजे और केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर भी पहुंचे 

मायावती की ओर से इस पर आपत्ति जताई गई:
गौरतलब है कि बसपा के 6 विधायकों ने कांग्रेस में अपना विलय राजस्थान में हुए विधानसभा चुनाव के कुछ समय बाद ही कर लिया था. हाल ही में बसपा प्रमुख मायावती की ओर से इस पर आपत्ति जताई गई और हाईकोर्ट का रुख किया गया. इस मसले पर सुप्रीम कोर्ट में भी सुनवाई हुई थी. बसपा की ओर से जारी व्हिप से इतर सभी 6 विधायकों ने मुख्यमंत्री अशोक गहलोत का साथ देने को कहा था और उन्हें ही अपना नेता बताया था.


 

और पढ़ें