Parliament: हेमा मालिनी ने पशु क्रूरता विरोधी कानून में संशोधन की लोकसभा में उठाई मांग

Parliament: हेमा मालिनी ने पशु क्रूरता विरोधी कानून में संशोधन की लोकसभा में उठाई मांग

Parliament: हेमा मालिनी ने पशु क्रूरता विरोधी कानून में संशोधन की लोकसभा में उठाई मांग

नई दिल्ली: भाजपा सांसद हेमा मालिनी ने पशुओं के खिलाफ क्रूरता को रोकने के लिए सख्त कानूनी प्रावधान की मांग करते हुए मंगलवार को लोकसभा में कहा कि पशु क्रूरता निवारण अधिनियम, 1960 में जरूरी संशोधन किए जाएं. उन्होंने सदन में शून्यकाल के दौरान यह मुद्दा उठाया.
उत्तर प्रदेश के मथुरा से लोकसभा सदस्य हेमा मालिनी ने पशुओं के खिलाफ क्रूरता के कुछ चर्चित हालिया मामलों का उल्लेख किया.उन्होंने कहा कि पशुओं के खिलाफ क्रूरता के कई मामले सामने आए हैं.1960 का पशु क्ररता विरोधी कानून बहुत पुराना है. इसमें ज्यादा संशोधन नहीं हुआ.उनके मुताबिक, सरकार को बहुत सारे सुझाव मिले कि पशुओं के खिलाफ क्रूरता के मामले में मौजूदा जुर्माने को बढ़ाया जाए तथा जरूरी संशोधन किया जाए.

भारत का नाम भारत हो, इंडिया नहीं कहा जाए :

शून्यकाल में ही भाजपा के संजय सेठ ने कहा कि भारत को ‘इंडिया’ नहीं कहा जाना चाहिए क्योंकि यह देश की गौरवशाली संस्कृति का अपमान है.उन्होंने कहा कि जब इस देश का नाम आदिकाल से भारत रहा तो फिर इंडिया क्यों कहा जाए. अंग्रेजों ने सिंधु को हिंदू कहा,इस तरह से भारत का नाम हिंदुस्तान पड़ गया.फिर अंग्रेजों को हिंदुस्तान कहने में दिक्कत हुई तो उन्होंने इसे इंडिया कहना शुरू कर दिया. इंडिया कहना भारत की गौरवशाली संस्कृति का अपमान है. भारत का नाम भारत हो, इंडिया नहीं कहा जाए.सोर्स-भाषा
 

और पढ़ें