कोरोना काल में राष्ट्रीय लोक अदालत की ऐतिहासिक सफलता, एक ही दिन में 75,952 प्रकरणों का राजीनामें के माध्यम से किया निस्तारण

कोरोना काल में राष्ट्रीय लोक अदालत की ऐतिहासिक सफलता, एक ही दिन में 75,952 प्रकरणों का राजीनामें के माध्यम से किया निस्तारण

कोरोना काल में राष्ट्रीय लोक अदालत की ऐतिहासिक सफलता, एक ही दिन में 75,952 प्रकरणों का राजीनामें के माध्यम से किया निस्तारण

जयपुर: राजस्थान राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण (Rajasthan State Legal Services Authority) द्वारा राष्ट्रीय लोक अदालत (National Lok Adalat) का आयोजन राजस्थान उच्च न्यायलय सहित प्रदेश के सभी अधीनस्थ न्यायालयों में ऑफलाइन व ऑनलाइन माध्यम से किया गया. इस में एक ही दिन में 75,952 प्रकरणों का राजीनामें के माध्यम से निस्तारण  किया गया.

लोक अदालत का विधिवत शुभारंम्भ दीप प्रज्जवलन कर किया गया:
राजस्थान उच्च न्यायालय की जयपुर पीठ में शनिवार सुबह न्यायाधिपति संगीत लोढ़ा, प्रशासनिक न्यायाधीश, राज. उच्च न्यायालय एवं कार्यकारी अध्यक्ष, राजस्थान राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण व न्यायाधिपति सबीना, न्यायाधीश, राजस्थान उच्च न्यायालय एवं अध्यक्ष, राजस्थान उच्च न्यायालय विधिक सेवा समिति के द्वारा लोक अदालत का विधिवत शुभारंम्भ दीप प्रज्जवलन कर किया.

उच्चतम न्यायालय एवं कार्यकारी अध्यक्ष ललित ने वीडियो कॉन्फ्रेन्सिंग के माध्यम से देखी कार्रवाई:
न्यायाधिपति यू. यू. ललित, न्यायाधीश, उच्चतम न्यायालय एवं कार्यकारी अध्यक्ष, राष्ट्रीय विधिक सेवा प्राधिकरण, नई दिल्ली (National Legal Services Authority, New Delhi) ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग (Video Conferencing) के माध्यम से राजस्थान उच्च न्यायालय, जोधपुर मे चल रही लोक अदालत की कार्यवाही को देखा तथा राजस्थान उच्च न्यायालय विधिक सेवा समिति, जोधपुर द्वारा गठित लोक अदालत बैंचों के न्यायाधीशगण से वार्ता की. न्यायाधिपति द्वारा बीकानेर में संचालित लोक अदालत बैंच में भी पक्षकार से की जा रही ऑनलाइन समझाईश वार्ता में नई दिल्ली से सीधे ही बातचीत की. न्यायाधिपति द्वारा इस नवाचार की सराहना करते हुए आगामी राष्ट्रीय लोक अदालत में इस प्रणाली को सभी जगह अपनाने की मंशा रखी. 

ब्रजेन्द्र कुमार जैन, सदस्य सचिव, राजस्थान राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण, जयपुर ने बताया कि सम्पूर्ण राज्य मेें कोरोना जैसी महामारी के दौरान आमजन को सस्ता, शीघ्र व सुलभ न्याय दिलाने हेतु कोविड-19 हेतु जारी गाईडलाईन की पूर्णतया पालना कराते हुए राष्ट्रीय लोक अदालत का आयोजन किया गया है. 

संपूर्ण प्रदेश में कुल 706 बैंचों का किया गया था गठन:
प्रकरणों की सुनवाई हेतु राजस्थान उच्च न्यायालय सहित सम्पूर्ण प्रदेश में कुल 706 बैंचों का गठन किया गया, जिनके द्वारा प्रकरणों की ऑन -लाइन व ऑफ लाइन माध्यमों से सुनवाई की गई.  बैंचों में 1,01,249 प्री-लिटिगेशन तथा 1,78,590 न्यायालय में लम्बित प्रकरण कुल 2,79,839 प्रकरण सुनवाई हेतु रखे गए. बैंचाें के प्रयास से  प्री-लिटिगेशन में 12700 प्रकरणों एवं न्यायालयों में लंबित 63,252 प्रकरणों,  इस प्रकार कुल 75,952 प्रकरणों का राज्य भर में निस्तारण किया गया एवं कुल राशि रुपए 602,57,73,823 के अवार्ड पारित किये गये. 

 

इस अवसर पर न्यायाधिपति सतीश कुमार शर्मा, न्यायाधीश, राजस्थान उच्च न्यायालय, जयपुर पीठ, राजस्थान उच्च न्यायालय बार एसोसियेशन के  अध्यक्ष भुवनेश शर्मा, सचिव गिरिराज शर्मा, कार्यकारिणी के सभी पदाधिकारीगण सहित वरिष्ठ अधिवक्तागण भी उपस्थित थे.

और पढ़ें