नई दिल्ली 4 मई का इतिहास: आज के दिन मार्गेरेट थैचर बनीं ब्रिटेन की प्रधानमंत्री

4 मई का इतिहास: आज के दिन मार्गेरेट थैचर बनीं ब्रिटेन की प्रधानमंत्री

4 मई का इतिहास: आज के दिन मार्गेरेट थैचर बनीं ब्रिटेन की प्रधानमंत्री

नई दिल्ली: साल के बाकी दिनों की तरह चार मई ने भी कई घटनाओं के कारण इतिहास में अपना नाम दर्ज कराया है. ब्रिटेन ही नहीं बल्कि पूरे यूरोप की पहली महिला प्रधानमंत्री मार्गेरेट थैचर को दुनिया में आयरन लेडी के तौर पर जाना जाता है. उन्हें चार मई के दिन ही ब्रिटेन की प्रधानमंत्री चुना गया था.

इस दिन से जुड़ी कुछ अन्य घटनाओं की बात करें तो लंदन डेली मेल का पहला संस्करण चार मई को ही प्रकाशित हुआ था और आस्कर पुरस्कार देने वाली मोशन पिक्चर्स आटर्स एकेडमी की स्थापना भी अमेरिका में चार मई के दिन ही हुई थी.

देश दुनिया के इतिहास में 4 मई की तारीख पर दर्ज अन्य महत्वपूर्ण घटनाओं का सिलसिलेवार ब्यौरा इस प्रकार है:- 

1799: मैसूर के टीपू सुल्तान की श्रीरंगपत्तनम की लड़ाई में मृत्यु.

1854: भारत की पहली डाक टिकट को औपचारिक तौर पर जारी किया गया.

1896: लंदन डेली मेल का पहला संस्करण प्रकाशित.

1924: पेरिस में आठवें ओलिम्पिक खेलों की शुरूआत.

1945: जर्मनी की सेना ने नीदरलैंड, डेनमार्क और नार्वे में आत्मसमर्पण किया.

1980: इस दिन को कोल माइंस डे के तौर पर मनाने की घोषणा .

1927: अमरीका में फ़िल्म कला अकादमी (मोशन पिक्चर आर्ट्स एकेडेमी) की स्थापना, जिसने 'ऑस्कर' पुरस्कार देने शुरू किए.

1928: करीब तीन दशक तक मिस्र के राष्ट्रपति रहे हुस्नी मुबारक का जन्म 1945 : जर्मनी की सेना ने नीदरलैंड, डेनमार्क और नार्वे मे आत्मसमर्पण किया.

1959: पहले ग्रैमी अवॉर्ड्स का आयोजन.

1975: 'द किड' और 'ग्रेट डिक्टेटर' जैसी मूक फिल्मों के स्टार चार्ली चैपलिन को बकिंघम पैलेस में नाइट की उपाधि प्रदान की गई.

1979: मार्गेरेट थैचर को ब्रिटेन की प्रधानमंत्री चुना गया. पूरे यूरोप में वह यह पद संभालने वाली पहली महिला थीं. 

1980: जिम्बाब्वे के राष्ट्रपति नेता रॉबर्ट मुगाबे ने चुनाव में भारी जीत हासिल की और प्रथम अश्वेत राष्ट्रपति बने.

1983: चीन ने परमाणु परीक्षण किया.

2006: नेपाल के माओवादी विद्रोहियों ने देश की नयी सरकार के साथ शांति वार्ता में भाग लेने पर सहमति जताई.

2020: देश में कोविड-19 के कारण मौत के मामले 1,389 हो गए और संक्रमण के कुल मामलों की संख्या 42,836 पर पहुंच गयी. सोर्स-भाषा   

और पढ़ें