नॉटिंघम ‘विशेषज्ञों’ पर निशाना साधते हुए विराट कोहली के सपोर्ट में खुलकर आए रोहित शर्मा, दिया ये करारा जबाव

‘विशेषज्ञों’ पर निशाना साधते हुए विराट कोहली के सपोर्ट में खुलकर आए रोहित शर्मा, दिया ये करारा जबाव

‘विशेषज्ञों’ पर निशाना साधते हुए विराट कोहली के सपोर्ट में खुलकर आए रोहित शर्मा, दिया ये करारा जबाव

नॉटिंघम: भारतीय कप्तान रोहित शर्मा (Rohit Sharma) ने टी20 टीम में विराट कोहली (Virat Kohli)  के स्थान पर सवाल उठाने वाले ‘विशेषज्ञों’ पर निशाना साधते हुए कहा कि इस स्टार बल्लेबाज के ‘स्तर’ पर संदेह नहीं किया जा सकता और टीम प्रबंधन उनका समर्थन जारी रखेगा.

नवंबर 2019 के बाद किसी भी प्रारूप में शतक जड़ने में नाकाम रहे कोहली इंग्लैंड के खिलाफ दो टी20 में प्रभाव छोड़ने में नाकाम रहे. खेल के सभी प्रारूपों में कोहली की फॉर्म पर सवाल उठ रहे हैं. उन्होंने टी20 अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में पांच महीने बाद वापसी की थी.

कोहली की गैरमौजूदगी में दीपक हुड्डा (Deepak Hooda) जैसे खिलाड़ियों को मौका मिला जिन्होंने इसका पूरा फायदा उठाया. आयरलैंड के खिलाफ श्रृंखला और इंग्लैंड के खिलाफ पहले टी20 में शानदार प्रदर्शन के बावजूद हुड्डा को कोहली की वापसी पर अंतिम एकादश में जगह नहीं मिली.

विशेषज्ञों को नहीं पता कि टीम के अंदर क्या हो रहा:
भारत की विश्व कप विजेता टीम के कप्तान कपिल देव (Kapil Dev) और इंग्लैंड के पूर्व कप्तान माइकल वॉन जैसे विशेषज्ञों ने कोहली की लंबे समय से चल रही खराब फॉर्म पर चर्चा की. रविवार को तीसरे टी20 के बाद संवाददाताओं से बात करते हुए रोहित ने कहा कि विशेषज्ञों को नहीं पता कि टीम के अंदर क्या हो रहा है.

यह हमारे लिए बिलकुल भी मुश्किल नहीं:
टीम कोहली की फॉर्म को कैसे देख रही है इस बारे में पूछे जाने पर रोहित ने कहा कि यह हमारे लिए बिलकुल भी मुश्किल नहीं है क्योंकि हम बाहर की बातों पर ध्यान नहीं देते. साथ ही मुझे नहीं पता कि ये कौन विशेषज्ञ हैं और उन्हें विशेषज्ञ क्यों कहा जाता है. मुझे समझ में नहीं आता.

वे चीजों को बाहर से देख रहे:
कपिल ने कहा कि खिलाड़ियों को प्रतिष्ठा के आधार पर नहीं चुना जाना चाहिए और खिलाड़ी का चयन मौजूदा फॉर्म के आधार पर होना चाहिए. वॉन ने कोहली को खेल से तीन महीने का ब्रेक लेने की सलाह दी थी. रोहित ने कहा कि वे चीजों को बाहर से देख रहे हैं, उन्हें नहीं पता कि टीम के अंदर क्या चल रहा है. हमारे सोचने की एक प्रक्रिया है, हम टीम बनाते हैं, हम बहस करते हैं और चर्चा करते हैं और इस बारे में काफी सोचते हैं.

कोहली के नाम 70 अंतरराष्ट्रीय शतक दर्ज:
उन्होंने कहा कि जिन खिलाड़ियों को हम चुनते हैं उनका समर्थन करते हैं, उन्हें मौके दिए जाते हैं. बाहरी लोगों को इस बारे में पता नहीं होता. इसलिए यह अधिक महत्वपूर्ण है कि हमारी टीम के अंदर क्या चल रहा है, मेरे लिए यही महत्वपूर्ण है. कोहली के नाम 70 अंतरराष्ट्रीय शतक दर्ज हैं. अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में उनसे अधिक शतक रिकी पोंटिंग (71) और सचिन तेंदुलकर (100) ने ही बनाए हैं. रोहित का मानना है कि इस स्टार बल्लेबाज के स्तर पर सवाल नहीं उठाए जा सकते.

सभी की फॉर्म में उतार-चढ़ाव आता है:
उन्होंने कहा कि साथ ही अगर आप फॉर्म की बात कर रहे हैं तो सभी की फॉर्म में उतार-चढ़ाव आता है. खिलाड़ी का स्तर खराब नहीं होता. इस तरह की टिप्पणी करते हुए हमें हमेशा ध्यान रखना होता है. रोहित ने कहा कि ऐसा मेरे साथ हुआ, ऐसा किसी के भी साथ होता है. इसमें कुछ भी नया नहीं है. अगर किसी खिलाड़ी ने लगातार इतना अच्छा किया हो तो फिर एक या दो खराब श्रृंखला के बाद उसके योगदान को नहीं भूलना चाहिए. सोर्स- भाषा 

और पढ़ें