गृहमंत्री अमित शाह बोले, दिल्ली में कोरोना को लेकर काबू में हालात, नहीं होंगे 31 जुलाई तक 5.50 लाख केस

गृहमंत्री अमित शाह बोले, दिल्ली में कोरोना को लेकर काबू में हालात, नहीं होंगे 31 जुलाई तक 5.50 लाख केस

नई दिल्ली: केन्द्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने कहा कि चीन और कोरोना दोनों से जंग जीतेंगे. अमित शाह ने कहा कि दिल्ली डिप्टी सीएम ने बयान दिया कि 31 जुलाई तक दिल्ली में 5.5 लाख कोरोना के मामले होंगे, इससे दिल्ली की जनता में डर का माहौल था, लेकिन दिल्ली में 31 जुलाई तक इतने केस नहीं आएंगे. दिल्ली में कोरोना को लेकर हालात काबू में है. दिल्ली सरकार ने कहा कि दिल्ली के बाहर के लोगों का दिल्ली में इलाज नहीं होगा, इस निर्णय को केंद्र सरकार ने बदल दिया है. उन्होंने कहा कि आज दिल्ली में सामुदायिक संक्रमण नहीं है, चिंता करने की आवश्यकता नहीं है.

Rajasthan Corona Updates: पिछले 12 घंटे में 5 मौत, 175 नए पॉजिटिव केस, बीकानेर में सर्वाधिक 44 नए पॉजिटिव मरीज मिले 

मोदी सरकार पर पूरे देश की जिम्मेदारी:
उन्होंने कहा कि मोदी सरकार पर पूरे देश की जिम्मेदारी है. कमेटी के सुझाव पर कई निर्णय लिए गए है. दिल्ली में व्यापक स्तर पर टेस्टिंग की व्यवस्था की गई. अस्पतालों की मदद AIIMS के विशेषज्ञ कर रहे हैं. करीब 350 शव अस्पतालों में पड़े थे, सबके अंतिम संस्कार हुए है. 30 जून तक कंटेनमेंट जोन का सर्वे कराया जाएगा. 

दिल्ली में प्रतिदिन औसतन 16 हजार टेस्ट हो रहे:
31 जुलाई तक घर-घर जाकर कोरोना टेस्ट किए जाएंगे. राज्यों को हर स्तर की मदद देने को तैयार है. NCR को लेकर पूरी जानकारी जुटा ली गई है. साथ ही अमित शाह ने कहा कि यूपी और हरियाणा के सीएम से बात करूंगा. दिल्ली में होम आइसोलेशन को लेकर विवाद नहीं है. दिल्ली में प्रतिदिन औसतन 16 हजार टेस्ट हो रहे हैं.

सभी राज्यों के मुख्यमंत्रियों से की बात:
गृहमंत्री अमित शाह ने कहा कि कोरोना संकट में श्रमिकों के लिए हमने काम किया. श्रमिकों को लेकर सभी राज्यों के मुख्यमंत्रियों से बात की. श्रमिकों के लिए श्रमिक स्पेशल ट्रेन चलाई गई. पड़ोसी राज्यों के श्रमिकों के लिए बसों की व्यवस्था की गई. धैर्य खोकर सड़कों पर निकले श्रमिकों के लिए भी व्यवस्था की गई. कुल 1 करोड़ 20 लाख लोगों को घरों तक पहुंचाने का काम किया. घरों को लौटे श्रमिकों को भी मनरेगा के तहत रोजगार दिया गया. स्थानीय स्तर पर रोजगार उपलब्ध कराने के प्रयास हो रहे हैं. कोरोना के खिलाफ भारत सरकार ने ढंग से जंग लड़ी है. विश्व के परिपेक्ष्य में हमारे आंकड़े काफी बेहतर है. राहुल गांधी को मैं सलाह नहीं दे सकता ये काम उनकी पार्टी का है. कोरोना के खिलाफ सरकार और जनता दोनों ने बेहतर ढंग से लड़ाई लड़ी. भारत में प्रति 10 लाख पर मौत की दर 11 है. विकसित देशों के मुकाबले भारत ने कोरोना की कारगर लड़ाई लड़ी. दिल्ली में 30 हजार बेड की व्यवस्था हो चुकी है. DRDO कोविड-19 अस्पताल बना रहा है.

मन की बात में बोले पीएम मोदी, लद्दाख में भारत की भूमि पर आंख उठाकर देखने वालों को मिला करारा जवाब

और पढ़ें