प्रदेश में बढ़ रही सड़क दुर्घटनाओं व पेयजल संकट से सदन भी चिंतित

FirstIndia Correspondent Published Date 2019/07/24 06:56

जयपुर: राजस्थान विधानसभा में आज जनता से जुड़े दो अहम मुद्दे उठाए गए. शून्य काल में नेता प्रतिपक्ष राजेंद्र राठौड़ ने जहां जेडीए चौराहे की घटना का उदाहरण देते हुए प्रदेश में बढ़ रही सड़क दुर्घटनाओं का मामला उठाया, वहीं ज्ञानचंद पारख व रामलाल शर्मा ने प्रदेश में बढ़ रहे पेयजल संकट पर सदन का ध्यान आकर्षित किया. 

दुर्घटना के आरोपी ड्राइवरों के लाइसेंस होंगे कैंसिल:
प्रदेश में बढ़ रही सड़क दुर्घटनाओं व पेयजल संकट से विधानसभा का सदन भी चिंतित है. दोनों ही अहम मुद्दे आज सदन में उठाए गए. जयपुर के जेडीए चौराहे को खूनी चौराहे की संज्ञा दी गई और साथ ही दुर्घटना के आरोपी ड्राइवरों को तुरंत जमानत मिलने की बात भी चिंता जताई गई. उप नेता प्रतिपक्ष राजेंद्र राठौड़ ने शून्यकामल में जयपुर सहित प्रदेश की विभिन्न दुर्घटनाओं का ब्योरा देकर चिंता जताई गई. उन्होंने कहा मरने वाले की चिता ठंडी नहीं होती, उससे पहले आरोपित जमानत लेकर घर चले जाते हैं. इस पर मंत्री प्रताप सिंह खाचरियावास ने दिया जवाब देते हुए कहा कि हमारी सरकार इस मामले में गंभीर है. हमने अधिकारियों व एमएनआईटी की विशेष टीम बनाई है. प्रताप सिंह ने कहा कि आगे जो भी दुर्घटना में लिप्त पाया तो लाइसेंस कैंसिल होंगे. शराब पीकर दुर्घटना में मौत हो तो सख्त कार्रवाई करेंगे. 

बीसलपुर और जवाई बांध का मामला:
वहीं पाली विधायक ज्ञानचंद पारख ने जवाई बांध के सूखने का मामला उठाया. उन्होंने जलदाय मंत्री बीडी कल्ला से अपील की है कि पाली में ट्रेन से पानी सप्लाई को लेकर गंभीरता दिखाए और रेलवे विभाग से इस बारे में बात करें. उन्होंने कहा कि पाली को प्रतिदिन तीन करोड़ लीटर पानी की जरूरत है, जबकि ट्रेन से महज एक करोड़ लीटर पानी ही आ सकेगा. वहीं चौमू के विधायक रामलाल शर्मा ने बीसलपुर बांध के खाली होने का मुद्दा उठाया. उन्होंने कहा कि राजधानी की जनता चिंतित है कि उनको पीने का पानी मिलेगा या नहीं. पानी के मामले पर स्पीकर डॉ सीपी जोशी भी चिंतित नजर आए और उन्होंने मंत्री बीडी कल्ला को निर्देश दिया कि कल सदन में सरकार की तरफ से पानी पर बयान जारी किया जाए. 

जयपुर का जेडीए चौराहा दो दिन में चार जिंदगिया लील गया है. शराब पीकर गाड़ी चलाने वाले रईसजादे मासूम लोगों को कूचल रहे हैं. ऐसे में परिवहन विभाग व ट्रैफिक पुलिस को इस पर गंभीरता दिखानी होगी. वहीं प्रदेश में गंभीर हो रहे जल संकट पर भी जलदाय विभाग को जागना होगा. वरना वह दिन दूर नहीं जब पानी को लेकर राजधानी सहित कई हिस्सा में अराजकता फैल सकती है.  

... संवाददाता योगेश शर्मा, एश्वर्य प्रधान व रितुराज के साथ नरेश शर्मा की रिपोर्ट 
 

First India News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे!
हर पल अपडेट रहने के लिए अभी डाउनलोड करें First India News Mobile Application
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBE चैनल को विजिट करें

और पढ़ें

Most Related Stories

Stories You May be Interested in