VIDEO: हाउसिंग बोर्ड ने धमाकेदार परफॉर्मेंस से अपना ही विश्व रिकॉर्ड तोड़ा, 12 दिन में ही 1213 आवासों की नीलामी

जयपुर: कोरोना काल जैसे बड़े संकट में भी हाउसिंग बोर्ड ने अपनी धमाकेदार परफॉर्मेंस से अपना ही विश्व रिकॉर्ड तोड़ दिया है. बोर्ड ने किश्तों में आवास योजना से नया कीर्तिमान बनाते हुए महज 12 दिन में ही 1213 आवासों की नीलामी की है. 

सहकारी बैंकों के अधिकारियों एवं कर्मचारियों के परिवीक्षा वेतन में की वृद्धि

आवासों के ई ऑक्शन का अपना ही विश्व रिकॉर्ड तोड़ दिया: 
रियल एस्टेट मार्केट के किंग हाउसिंग बोर्ड ने अपनी धमाकेदार परफॉर्मेंस से कम अवधि में आवासों के ई ऑक्शन का अपना ही विश्व रिकॉर्ड तोड़ दिया है. बोर्ड ने सितंबर महीने में चलाई ई ऑक्शन योजना से महज 35 दिनों में 1010 मकानों की नीलामी कर विश्व रिकॉर्ड स्थापित किया था. वर्ल्ड बुक ऑफ रिकॉर्ड्स ने बोर्ड के इस रिकॉर्ड को मान्यता दी थी. 

यह योजना बोर्ड के इतिहास की सबसे सफल:
अब बोर्ड ने अपने ही उस विश्व रिकॉर्ड को तोड़ दिया है और यह कमाल हुआ है बोर्ड कमिश्नर पवन अरोड़ा की सटीक प्लानिंग के बाद लांच हुई किश्तों में आवास योजना से. लांच होने से पहले ही प्रदेश भर में चर्चित हो चुकी यह योजना बोर्ड के इतिहास की सबसे सफल और लोकप्रिय योजना मानी जा रही है. मकान की कीमत का 10 फीसदी दीजिए और गृह प्रवेश कीजिए के ध्येय वाक्य से लांच हुई इस योजना से बोर्ड ने सिर्फ 12 दिन में ही 1213 आवासों की नीलामी कर अपना ही बनाया हुआ विश्व रिकॉर्ड तोड़ दिया है. 1213 आवासों की नीलामी से हाउसिंग बोर्ड ने 12 दिन में ही 178 करोड़ रुपये का राजस्व प्राप्त किया है. 

बोर्ड का यह प्रदर्शन किसी जादू से कम नहीं:
कोरोना काल मे जब हर तरह के बाजार की हालत खराब है तब बोर्ड का यह प्रदर्शन किसी जादू से कम नहीं है. इस योजना के अभी तक के 4 बुधवारों में बोर्ड को बहुत भारी रेस्पॉन्स मिला है. कमिश्नर पवन अरोड़ा की तरफ से ग्राहकों को सहूलियत देने के लिए प्रयासों से भी इस योजना में लोगों का रुझान बढ़ा है. कमिश्नर पवन अरोड़ा ने इस बड़ी कामयाबी का श्रेय टीम वर्क को देते हुए कहा है कि ग्राहक बोर्ड के लिए भगवान की तरह है. आने वाले दिनों में भी मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और UDH मंत्री शांति धारीवाल के हर किसी को आवास उपलब्ध कराने के मिशन को सफल बनाने के लिए बोर्ड ऐसे ही काम करता रहेगा. 

योजना के माध्यम से आवास लेने की लोगों में होड़: 
किश्तों में आवास योजना की बात करें तो ऐसा लगता है कि प्रदेशभर में इस योजना के माध्यम से आवास लेने की लोगों में होड़ लग गई है. आकर्षक लोकेशनों पर सभी मूलभूत सुविधाओं के साथ 50 फीसदी तक की छूट पर 13 वर्ष की आसान मासिक किश्तों में आवास मिलना किसी के लिए भी एक सपने से कम नहीं है. 

किश्तों में आवास योजना से अब तक ऐसे हुई नीलामियां: 
- पहले बुधवार को 381 सम्पत्तियां बिकीं, जिससे 58 करोड 22 लाख रूपये का राजस्व प्राप्त हुआ. 
- दूसरे बुधवार को 320 सम्पत्तियां बिकीं, जिससे 45 करोड़ रूपये का राजस्व प्राप्त हुआ.
- तीसरे बुधवार को 257 सम्पत्तियां बिकी, जिससे मंडल को 34 करोड़ रूपये का राजस्व मिला.
- इस बुधवार को 255 सम्पत्तियां बिकीं और मंडल ने 41 करोड़ रूपये का राजस्व प्राप्त किया. 

बंगला खाली करने के नोटिस के बाद लखनऊ शिफ्ट होंगी प्रियंका गांधी, हो चुकी व्यवस्था !  

हाउसिंग बोर्ड की किश्तों में आवास योजना में सिर्फ जयपुर या अन्य बड़े शहरों में ही नहीं बल्कि छोटे कस्बों में भी अच्छी संख्या में मकानों की नीलामी हो रही है. कोरोना काल मे भी आवासों की नीलामी से अपना ही विश्व रिकॉर्ड तोड़कर नया विश्व रिकॉर्ड स्थापित कर बोर्ड ने रियल एस्टेट जगत में अपनी बादशाहत लंबे समय तक कायम रखने के संकेत दे दिए हैं.

...फर्स्ट इंडिया के लिए शिवेंद्र परमार की रिपोर्ट

और पढ़ें