वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा, निवेशकों और उद्योग के हितधारकों के लिए भारत में हैं काफी अवसर

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा, निवेशकों और उद्योग के हितधारकों के लिए भारत में हैं काफी अवसर

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा, निवेशकों और उद्योग के हितधारकों के लिए भारत में हैं काफी अवसर

न्यूयॉर्क: वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा है कि वैश्विक आपूर्ति श्रृंखला को नए सिरे से तैयार किया जा रहा है, जिससे भारत में सभी निवेशकों तथा उद्योग के हितधारकों के लिए काफी अवसर हैं. सीतारमण ने शनिवार को उद्योग मंडल फिक्की तथा अमेरिका-भारत रणनीतिक मंच द्वारा आयोजित गोलमेज में वैश्विक उद्योग जगत के दिग्गजों तथा निवेशकों से कहा कि वैश्विक आपूर्ति श्रृंखला के पुन:नियोजन तथा भारत के स्पष्ट रुख अपनाने वाले नेतृत्व की वजह से सभी निवेशकों तथा उद्योग के हितधारकों के लिए हमारे देश में काफी अवसर हैं. सीतारमण वाशिंगटन डीसी की अपनी यात्रा के बाद शुक्रवार की देर रात यहां पहुंचीं. वाशिंगटन डीसी में उन्होंने विश्व बैंक और अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष की वार्षिक बैठकों में भाग लिया. उन्होंने कहा कि भारत में स्टार्ट-अप कंपनियां काफी तेजी से बढ़ी हैं और अब इनमें से कई पूंजी बाजार से धन जुटा रही हैं. इस साल ही करीब 16 स्टार्ट-अप यूनिकॉर्न क्लब में शामिल हुई हैं. 

यूनिकॉर्न से आशय एक अरब डॉलर से अधिक के मूल्यांकन से है. वित्त मंत्री ने कहा कि भारत ने चुनौतीपूर्ण समय में भी डिजिटलीकरण का पूरा लाभ उठाया है. वित्त मंत्रालय ने ट्वीट कर सीतारमण के हवाले से कहा कि वित्तीय क्षेत्र में प्रौद्योगिकी की वजह से वित्तीय समावेशन को बढ़ावा मिल रहा है. वित्तीय प्रौद्योगिकी कंपनियां इसमें महत्वपूर्ण भूमिका निभा रही हैं. सीतारमण ने शनिवार को यहां मास्टरकार्ड के कार्यकारी चेयरमैन अजय बंगा और मास्टरकार्ड के मुख्य कार्यपालक अधिकारी (CEO) माइकल मीबैक, फेडेक्स कॉरपोरेशन के अध्यक्ष और मुख्य परिचालन अधिकारी (CEO) राज सुब्रमण्यम, सिटी की सीईओ जेन फ्रेजर और आईबीएम के चेयरमैन एवं सीईओ अरविंद कृष्णा, प्रूडेंशियल फाइनेंस इंक के अंतरराष्ट्रीय कारोबार प्रमुख स्कॉट स्लीस्टर और लेगाटम के मुख्य निवेश अधिकारी फिलिप वासिलियो से भी मुलाकात की. बंगा ने इस बैठक के बाद कहा कि भारत अपने सतत सुधारों की वजह से मजबूत राह पर है. उन्होंने कहा कि मैं विशेष रूप से उत्पादन आधारित प्रोत्साहन (PLI) योजना से काफी प्रभावित हूं. 

मीबैक ने कहा कि मास्टरकार्ड भारत में निवेश करना जारी रखेगी. वित्त मंत्रालय ने कहा कि सुब्रमण्यम के साथ वित्त मंत्री की बैठक में हाल ही में शुरू की गई पहल राष्ट्रीय अवसंरचना मास्टर प्लान 'गति शक्ति' और भारत के तीसरे सबसे बड़े स्टार्ट-अप पारिस्थितिकी तंत्र और तेजी से आगे बढ़ रही स्टार्ट-अप कंपनियों पर चर्चा हुई. सुब्रमण्यम ने कहा कि भारत में फेडएक्स का कारोबार काफी तेजी से बढ़ रहा है. भारत को लेकर हम काफी उत्साहित हैं. यह तथ्य कि हमारे पास वैश्विक हवाई नेटवर्क है, सिर्फ इस वजह से हम भारत में जरूरत होने पर कोविड-19 से संबंधित सामग्री पहुंचा सकते हैं. फ्रेजर ने कहा कि सिटी का भारत में काफी गौरवशाली और मजबूत इतिहास रहा है. उन्होंने कहा कि आपूर्ति श्रृंखला में बाधा को लेकर चिंता है, लेकिन यह स्थिति पूरी दुनिया में है. उन्होंने कहा कि भारत ने जो डिजिटीकरण किया है वह वास्तव में प्रभावशाली है. उन्होंने कहा कि भारत डिजिटल व्यापार और डिजिटल सेवाओं का एक प्रमुख केंद्र होगा. वित्त मंत्री ने स्लीस्टर के साथ बैठक में पूंजी बांड बाजार में सुधार, निवेशक चार्टर और अन्य उपायों पर बातचीत की. लेगाटम के वासिलियो के साथ वित्त मंत्री की बैठक में मजबूत संरचनात्मक वृद्धि तथा कंपनी के भारत में निवेश पर चर्चा हुई. सोर्स- भाषा

और पढ़ें